किसानों की आय बढ़ाने के लिए हरियाणा में खुलेंगे 64 कृषि उत्कृष्टता केंद्र

किसानों की आय बढ़ाने के लिए हरियाणा में खुलेंगे 64 कृषि उत्कृष्टता केंद्र

Posted On - 24 Nov 2021

जानें, क्या है राज्य सरकार की योजना और इससे किसानों को लाभ

किसानों की आय दुगुनी करने के मोदी सरकार के उद्देश्य को पूरा करने को लेकर केंद्र के साथ ही राज्य सरकारें भी इस दिशा में काम कर रही हैं। इसी क्रम में हरियाणा सरकार की ओर से राज्य के किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए हर गांव में कृषि उत्कृष्टता केंद्र खोलने का फैसला लिया है। गांव-गांव में कृषि उत्कृष्टता केंद्र खोलने के पीछे सरकार का उद्देश्य किसानों को कृषि की नई तकनीकों से अवगत कराना है ताकि फसल उत्पादन के साथ ही किसानों की आय में भी बढ़ोतरी हो सके। 

Buy Used Livestocks

इसी साल खोले जाएंगे हर गांव में कृषि उत्कृष्टता केंद्र

मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल ने कहा है किसान बागवानी की नई तकनीकों को अपनाएंगे तो उनकी आय बढ़ेगी। अब तक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की मदद से हरियाणा के भीतर कृषि के 11 उत्कृष्टता केंद्र स्थापित किए जा चुके हैं। इसके अलावा, राज्य सरकार ने बागवानी में आधुनिक रणनीतियों को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2021 के भीतर पूरे राज्य के गांवों में 64 उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने का निर्णय लिया है। कृषि मंत्री सोमवार को पंचकूला में भारत-इजराइल सम्मेलन के तीसरे दिन बागवानी से जुड़े इजराइली प्रतिनिधिमंडल और वैज्ञानिकों को संबोधित कर रहे थे।

किसानों को कम पानी की फसलों उगाने के लिए किया जा रहा है प्रोत्साहित 

किसानों को कुछ क्षेत्रों में भूमिगत जल की कमी को पूरा करने के लिए बागवानी और कम पानी की खपत वाली फसलों को अपनाने का आग्रह किया जा रहा है। इसके लिए किसानों को सरकार से इनपुट अनुदान भी दिया जा रहा है। कृषि के अलावा हरियाणा में मछली पालन को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसके लिए मछली पालन में इस्तेमाल की जाने वाली नई तकनीकों को अपनाने के लिए सभी देशों का स्वागत कर रहा है।

विशेषज्ञों ने दी बागवानी की नई तकनीक की जानकारी

भारत-इजराइल परियोजना के तहत बागवानी विभाग हरियाणा की ओर से सेंटर ऑफ एक्सीलेंस एंड एक्सीलेंस विलेज पर तीन दिवसीय सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में देश के 23 राज्यों के लगभग 80 से 100 अधिकारियों को इजराइली विशेषज्ञों ने बागवानी की विभिन्न तकनीकों की जानकारी दी। 

सब्जियों व उद्यानों में सिंचाई की तकनीकों के बारे में बताया

सम्मेलन के पहले सत्र के दौरान, इजराइल के विशेषज्ञ उरी रुबिनस्टीन, डैनियल हद्दाद और इत्जाक एस्क्वायर ने प्रतिभागियों को पौधों की सुरक्षा एवं नर्सरी प्रबंधन के बारे में जानकारी दी। वहीं दूसरे सत्र में इजराइल के विशेषज्ञ एरेज केडेम ने सब्जियों व उद्यानों में सिंचाई की तकनीकों के बारे में बताया। इजराइली विशेषज्ञों ने इस सत्र में अधिकारियों को बताया कि अगर किसान सब्जियां उगाने की उन्नत तकनीक और रणनीति अपनाएंगे, तो उनकी उपज में बढ़ोतरी होगी जिससे किसानों की आय दुगुनी हो सकेगी। 

COVID Vaccine Process

राज्य में चल रही योजनाओं के बारे में दी जानकारी

सम्मेलन के दौरान हरियाणा सरकार के अधिकारियों ने बताया कि बागवानी में विविधीकरण को प्रेरित करने और किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए, सरकार ने मेरा पानी-मेरी विरासत, भावांतर भरपाई योजना, मुख्यमंत्री बगवानी बीमा योजना जैसे कई नए कार्यक्रम, पैकेज और योजनाएं शुरू की हैं। फसल अवशेष प्रबंधन, हर खेत-स्वस्थ खेत आदि कार्यक्रम संचालित किए गए हैं। 

बागवानी की ओर बढ़ा किसानों का रूझान

कृषि विशेषज्ञ प्रो. समर सिंह ने कहा कि राज्य में बागवानी का क्षेत्र पहले से कहीं अधिक बढ़ गया है। राज्य के किसानों का रूझान परंपरागत खेती की जगह बागवानी की ओर हो रहा है। करनाल में बागावानी विश्वविद्यालय स्थापित किया जा रहा है। इस विश्वविद्यालय की ओर से किए जा रहे नए शोध और विकसित की जा रही तकनीकों का लाभ किसानों को सीधे मिलेगा। ये विश्वविद्यालय क्षेत्र में बागवानी फसल को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण कड़ी साबित होगा।

इजरायल के राजदूत ने की हरियाणा सरकार की सराहना

भारत में इजरायल के राजदूत नाओर गिलोन ने 22 नवंबर 2021 सोमवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने कृषि क्षेत्र में हरियाणा के साथ अपने मौजूदा निवेश समझौतों के अलावा अनुसंधान, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाओं, एयरोनॉटिक्स क्षेत्रों में ओर मजबूती व सहयोग की संभावनाओं पर चर्चा की. बैठक के दौरान नाओर गिलोन ने राज्य में विभिन्न स्थानों पर कृषि संबंधित चार उत्कृष्टता केंद्रों के सफलतापूर्वक संचालन के लिए हरियाणा की सराहना की। उन्होंने कहा कि भविष्य में भी इजराइल भारत के विभिन्न राज्यों में ऐसी कई परियोजनाएं स्थापित करेगा और इसमें अधिकतर परियोजनाएं हरियाणा में होंगी।

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top