किसानों को 50 प्रतिशत तक सब्सिडी पर दिए जाएंगे कंबाइन हार्वेस्टर

Published - 26 Feb 2021

किसानों को 50 प्रतिशत तक सब्सिडी पर दिए जाएंगे कंबाइन हार्वेस्टर

जानें, किन जिलों के किसानों को मिलेगा इसका लाभ?

सरकार की ओर से किसानों को सब्सिडी पर कृषि यंत्र व मशीनें उपलब्ध कराने के लिए कई योजनाएं चला रखीं हैं। केंद्र के साथ ही राज्य सरकारें भी इसके लिए सब्सिडी प्रदान करती है जिससे किसानों को कम कीमत पर आधुनिक कृषि यंत्र व मशीनें उपलब्ध कराई जा सकें। यह सब्सिडी हर किसानों को राज्य के नियमानुसार दी जाती है। इस समय मध्यप्रदेश सरकार की ओर से राज्य के किसानों को कंबाइन हार्वेस्टर पर सब्सिडी प्रदान की जा रही है। इसके लिए वे किसान पात्र होंगे जिन्होंने 2019-20 में इसके लिए आवेदन किया था और प्रतीक्षा सूची में थे। पर कोरोना वायरस संक्रमण संकट के कारण वे इसका लाभ नहीं ले पाएं थे। अब यह किसान सब्सिडी पर कंबाइन हार्वेस्टर ले सकेंगे। इसके लिए प्रतीक्षा सूची में शामिल किसानों को वरीयता के क्रम में राज्य सरकार द्वारा कंबाइन हार्वेस्टर पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


इस वर्ष दुबारा जारी किए लक्ष्य, इन जिलों के किसानों को मिलेगा लाभ

राज्य के कृषि अभियांत्रिकी संचनालय द्वारा वर्ष 2019-20 में सभी जिलों के किसानों से आवेदन आमंत्रित किए गए थे परन्तु कुछ जिलों में मांग आधिक होने के चलते लक्ष्यों को आगे बढ़ा दिया गया था। इस वर्ष दोबारा से कुछ जिलों के लिए सरकार ने लक्ष्य जारी किए हैं। होशंगाबाद, विदिशा, रायसेन, हरदा, जबलपुर, श्योपुर, सीहोर, सिवनी, उज्जैन, गुना, दतिया, सागर, भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, धार जिलों के किसान जो प्रतीक्षा सूची में थे वह अब अनुदान पर कंबाइन हार्वेस्टर ले सकते हैं। कंबाइन हार्वेस्टर योजना का लाभ राज्य के भोपाल संभाग, चम्बल संभाग, ग्वालियर संभाग, इंदौर संभाग, जबलपुर संभाग, नर्मदापुरम संभाग, रीवा संभाग, सागर संभाग, शहडोल संभाग, उज्जैन संभाग के किसानों को प्रदान किए जाने का लक्ष्य है।

 


किसान वरीयता सूची में यहां देखें अपना नाम

कंबाइन हार्वेस्टर अनुदान पर लेने के लिए किसान लिस्ट कृषि अभियांत्रिक संचनालय ने वर्ष 2019 में लाटरी के द्वारा वरीयता सूची जारी की थी। यह सभी सूची संभाग के अनुसार है जिसमें किसान अपना नाम देखे सकते हैं। इस सूची में किसानों को नाम डिमांड से 5 गुना ज्यादा है। इसका मतलब यह हुआ की पहला नंबर लाटरी के अनुसार वरीयता मिला हुआ है। अगर सूची के अनुसार ऊपर के किसान कंबाइन हार्वेस्टर नहीं खरीदता है तो फिर आगे वरीयता वाले किसानों को दिया जाएगा।

 

यह भी पढ़ें : पशुपालन के लिए उन्नत नस्ल : मेवाती गाय का पालन कर कमाएं भारी मुनाफा


कंबाइन हार्वेस्टर पर दी जाने वाली सब्सिडी

वर्ष 2019-20 हेतु योजना के तहत किसानों को तीन तरह के हार्वेस्टर दिए जाने थे, इसमें किसानों को सब्सिडी भी अलग-अलग देने का प्रावधान था। अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति के लिए अधिकतम 50 प्रतिशत का सब्सिडी है तथा सामान्य वर्ग के लिए अधिकतम 40 प्रतिशत तक का सब्सिडी है।


कंबाइन हार्वेस्टर पर दी जाने वाली सब्सिडी का पूरा विवरण

 

कंबाइन हार्वेस्टर (स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम सहित) सेल्फ प्रोपेल्ड 14 फीट कटरबार

  • इसके लिए लघु सीमांत, महिला, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति को लागत का 50 प्रतिशत अधिकतम राशि 8.56 लाख रुपए अनुदान देय है। जबकि अन्य वर्ग के कृषक को लागत का 40 प्रतिशत अधिकतम राशि 6.85 लाख रुपए अनुदान देय होगा।

कम्बाईन हार्वेस्टर (ट्रैक टाईप) सेल्फ प्रोपेल्ड 6-8 फीट कटरबार तक (स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम आवश्यक नहीं)

  • इसके लिए लघु सीमांत, महिला, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति को लागत का 50 प्रतिशत अधिकतम राशि 11.00 लाख रुपए अनुदान देय है। जबकि अन्य वर्ग के कृषक को लागत का 40 प्रतिशत अधिकतम राशि 8.80 लाख रुपए अनुदान दिया जाएगा।

कम्बाईन हार्वेस्टर (ट्रैक टाईप) सेल्फ प्रोपेल्ड 6 फीट कटरबार तक (स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम आवश्यकता नहीं)

  • इसके लिए लघु सीमांत, महिला, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति को लागत का 50 प्रतिशत अधिकतम राशि 7.00 लाख रुपए तक अनुदान देय होगा। जबकि अन्य वर्ग के कृषक लागत का 40 प्रतिशत अधिकतम राशि 5.60 लाख रुपए का अनुदान दिया जाएगा।


अधिक जानकारी के लिए यहां करें संपर्क

कंबाइन हार्वेस्टर पर सब्सिडी योजना से संबंधित जानकारी किसान ई कृषि यंत्र अनुदान पोर्टल या मध्यप्रदेश के कृषि अभियांत्रिकी पोर्टल https://www.mpdage.org/ पर भी देख सकते हैं। जिन किसानों का प्रतीक्षा सूची में नाम है वह किसान अपने जिले के कृषि यंत्री से संपर्क कर सकते हैं।


क्या है कंबाइन हार्वेस्टर और किसानों के लिए है क्यूं महत्वपूर्ण

कंबाइन हार्वेस्टर एक बहुउपयोगी व उन्नत कृषि उपकरण है जो खड़ी फसलों जैसे गेहूं, धान, चना, सरसों, सोयाबीन, सूरजमुखी व मूंग की कटाई, कुटाई (दौनी) व दानों की सफाई में काम आता है। इस मशीन का उपयोग करने से एक ओर जहां श्रम लागत घटती है वहीं समय की भी बचत होती है। इस मशीन के उपयोग से किसान खेती के कार्यों को सुगमता से करके अपना मुनाफा बढ़ा सकता है।

 

यह भी पढ़ें : मल्चर की पूरी जानकारी : खेत में चलाएं, मिट्टी की उर्वरा शक्ति और बढ़ाए


बाजार में इन कंपनियों के हार्वेस्टर हैं उपलब्ध

हार्वेस्टर का निर्माण करने वाली कंपनियों में दशमेश, हिन्द एग्रो, क्लास, प्रीत, करतार, न्यू हिन्द, केएस गु्रप, एग्रीस्टार, न्यू हॉलैंड, ऐस, लैंडफोर्स, विशाल, जॉन डियर, इंडो फार्म, शक्तिमान, बख्सिश, कुबोटा, महिंद्रा, यानमार कंपनियां प्रमुख है। इन कंपनियों के द्वारा निर्मित हार्वेस्टरों को किसान ज्यादा खरीदना पसंद करते है।


यदि आप भी खरीदना चाहते हैं हार्वेस्टर तो यहां करें संपर्क

हार्वेस्टर की ऑनलाइन खरीद, फीचर्स, स्पेसिफिकेशन्स और कीमत जानकारी, निकटतम डीलर आदि की जानकारी ट्रैक्टर जंक्शन पर उपलब्ध है। प्रमुख कंपनियों के कंबाइन हार्वेस्टर खरीदने के लिए यहां क्लिक करें।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back