फार्म मशीनरी बैंक : 15 से ज्यादा कृषि यंत्रों पर 80 प्रतिशत की सब्सिडी

Published - 28 Jun 2021

फार्म मशीनरी बैंक : 15 से ज्यादा कृषि यंत्रों पर 80 प्रतिशत की सब्सिडी

गांव-गांव में फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना के लिए आवेदन आमंत्रित

केंद्र सरकार किसानों की आय दोगुना करना चाहती है। इसके लिए केंद्र व राज्य सरकारों ने अनेक योजनाएं संचालित कर रखी है, जिनसे किसानों को लाभ पहुंच रहा है। सरकार का मानना है कि कृषि में आधुनिक तकनीक का उपयोग करके किसानों की आय बढ़ाई जा सकती है। गांव-गांव में किसानों को ट्रैक्टर व अन्य कृषि उपकरण उपलब्ध कराने के लिए कृषि मशीनरी बैंक की स्थापना की जाती है। अब उत्तरप्रदेश की योगी सरकार ने कृषि मशीनरी बैंक की स्थापना के लिए किसानों से आवेदन मांगे हैं। इस बैंक में खरीदी जाने वाली कृषि मशीनरी पर सरकार की ओर से 80 प्रतिशत तक की सब्सिडी उपलब्ध कराई जाएगी। 

Buy New Implements

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना का उद्देश्य 

भारत की केंद्र व विभिन्न राज्य सरकारें चाहती है कि किसान कृषि मशीनरी से खेती करके ज्यादा से ज्यादा पैदावार लें जिससे उनकी आमदनी बढ़ सके। इसी क्रम में देश के सभी किसानों तक कृषि मशीनरी की आसान पहुंच के लिए कई योजनाएं संचालित है। इन योजनाओं का लाभ उठाते हुए किसान सब्सिडी पर कृषि यंत्र खरीद सकते हैं। केंद्र सरकार इसके लिए राज्य सरकारों के साथ मिलकर कृषि यंत्र बैंक (कस्टम हायरिंग सेंटर) की स्थापना करती है और राज्य तथा केंद्र सरकार दोनों मिलकर किसानों को सब्सिडी उपलब्ध कराती है। 


उत्तरप्रदेश में फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना के लिए सब्सिडी

उत्तरप्रदेश की योगी सरकार ने गांव-गांव में फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना के लिए किसानों से आवेदन आमंत्रित किए हैं।  फार्म फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना के लिउ प्रमोशन ऑफ एग्रीकल्चर मैकेनाइजेशन फार इन-सीटू मैनेजमेंट ऑफ क्राप रेज्डयू योजना के तहत किसानों को कृषि यंत्रों की खरीद पर 80 प्रतिशत तक की सब्सिडी दिए जाने का प्रावधान है। योजना के तहत फसल अवशेष प्रबंधन के लिए उपयोगी कृषि यंत्रों व मशीनरी पर भी सब्सिडी दी जाएगी। जिसके लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं।  


उत्तरप्रदेश में 80 प्रतिशत सब्सिडी पर उपलब्ध कृषि यंत्र 

फार्म मशीनरी बैंक योजना के तहत उत्तरप्रदेश प्रदेश के किसान ट्रैक्टर एवं ट्रैक्टर चालित कृषि यंत्र सब्सिडी पर खरीद सकते हैं। इसके अलावा कृषि विभाग के अपर मुख्य सचिव ने बताया कि इन सीटू योजना के तहत किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन हेतु पैडी स्ट्राचापर, श्रेडर, मल्चर, सब मास्टर, रोटरी स्लेशर, हाइड्रोलिक रिवर्सेबल एम.बी. पलाऊ, सुपर सीडर, बेलर, सुपर स्ट्रा, मैनेजमेंट सिस्टम, जरो टिल सीड कम फर्टीड्रिल, हैप्पी सीडर, स्ट्रा रेक, क्रांप रीपर व रीपर कंबाडर आदि किसानों को सब्सिडी पर उपलब्ध कराया जाएगा। ये सभी कृषि यंत्र ट्रैक्टर की मदद से संचालित किए जाते हैं। 

Buy Used Harvester


फार्म मशीनरी बैंक पर सब्सिडी का प्रावधान

उत्तरप्रदेश में इन सीटू योजना के अंतर्गत कृषि मशीनरी की खरीद पर किसानों को लागत की 80 प्रतिशत तक सब्सिडी उपलब्ध कराई जा रही है। सरकार की ओर से 5 लाख रुपए से लेकर 15 लाख रुपए तक की लागत वाले कृषि यंत्रों पर किसानों को 80 प्रतिशत तक की सब्सिडी उपलब्ध कराई जाएगी। डॉ. चतुर्वेदी ने बताया कि इन-सीटू योजना के तहत 5 लाख रुपए तक के कृषि यंत्रों के क्रय के लिए कुल मूल्य के 80 प्रतिशत अर्थात 4 लाख रुपए का भुगतान कृषि विभाग द्वारा अग्रिम तौर पर संबंधित समितियों एवं ग्राम पंचायतों के खाते में ऑनलाइन जमा कराया जाएगा। इसके अलावा 5 लाख रुपए से 15 लाख रुपए तक की कृषि मशीनरी की खरीद पर कोई अग्रिम धनराशि नहीं दी जाएगी। संबंधित संस्था को स्वयं के निजी बजट से यंत्रों को खरीदना होगा। 


कृषि यंत्रों पर सब्सिडी के लिए दस्तावेज

उत्तरप्रदेश में सब्सिडी पर कृषि यंत्रों को पाने के लिए किसानों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। आवेदन के लिए कुछ जरूरी दस्तावेज निर्धारित किए गए हैं। इनमें आधार कार्ड, लाभार्थी की पहचान हेतु खतौनी (भूमि की पहचान हेतु), बैंक पास बुक का पहला पन्ना जिस पर लाभार्थी का विवरण उपलब्ध हों आदि शामिल है।


सब्सिडी पर कृषि यंत्र के लिए आवेदन

सब्सिडी पर कृषि यंत्र लेने के लिए किसान आवेदन कर सकते हैं। किसान अपनी आवश्यकता के अनुसार दिए गए कृषि यंत्रों/ फार्म मशीनरी बैंक में से कोई भी कृषि यंत्र विभागीय वेबसाइट पारदर्शी किसान सेवा योजना पोर्टल www. upagriculture.com पर पंजीकरण कर टोकन निकाल सकते हैं। योजना से संबंधित अधिक और विस्तृत जानकारी के लिए किसान अपने जिले या ब्लॉक के कृषि विभाग में संपर्क कर सकते हैं। 


फार्म मशीनरी बैंक की खास बातें

  • देश के सभी गांवों में फार्म मशीनरी बैंक स्थापित किए जा रहे हैं।  देशभर 42 हजार कृषि मशीनरी बैंक बनाने की योजना पर कार्य हो रहा है। 
  • फार्म मशीनरी बैंक में जो कृषि यंत्र रखे जाएंगे, उनको खरीदने के लिए सरकार की ओर से 80 प्रतिशत सब्सिडी उपलब्ध कराई जा रही है। कोई भी व्यक्ति सिर्फ 20 प्रतिशत राशि खर्च कृषि मशीनरी बैंक खोलकर किसानों की सहायता करने के साथ लाभ भी कमा सकता है।
  • सरकार यह बैंक खोलने के लिए 10 लाख से 1 करोड़ रुपए तक की सब्सिडी दे रही है।
  • फार्म मशीनरी बैंक योजना के अंतर्गत किसी भी एक कृषि उपकरण पर 3 साल में एक बार अनुदान मिलेगा। 3 साल के बाद उसी उपकरण की खरीदी पर आप फिर से सरकार से अनुदान के लिए आवेदन कर सकते है।
  • योजना के तहत सरकार सब्सिडी की राशि को लाभार्थी के सीधे बैंक खाते में देगी। इसके लिए आपको पहले पूरी कीमत पर यंत्र खरीदने होंगें, फिर सरकार से आवेदन कर आप उस यंत्र की सब्सिडी ले सकते है।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back