मौसम अनुकूल खेती : बिहार व हिमाचल प्रदेश के किसानों को मिलेगा प्रोत्साहन

मौसम अनुकूल खेती : बिहार व हिमाचल प्रदेश के किसानों को मिलेगा प्रोत्साहन

Posted On - 15 Feb 2021

वैकल्पिक खेती : फसल उत्पादन के लिए बीज और प्रशिक्षण देगी सरकार

सरकार का कृषि की ओर फोकस होने से खेती में आए दिन नए सुधार हो रहे हैं। नई तकनीक, बुवाई के लिए फसल का चयन के साथ गुणवत्तापूर्ण बेहतर उत्पादन प्राप्त करने की दिशा में काफी प्रयास किए जा रहे हैं। इसी क्रम में हाल ही में सराकर ने हिमाचल प्रदेश में ऐसी फसलों की बुवाई को प्रोत्साहन देने का फैसला किया गया है जिसकी खेती कभी यहां के किसान किया करते थे। अब उन्होंने इसे उगाना छोड़ दिया है। ऐसी खेती को वैकल्पिक खेती के रूप में उगाना शुरू करने के लिए यहां की सरकार कोशिश कर रही ताकि किसानों की आय बढ़ सके और भूमि की उर्वरकता भी बनी रहे। मीडिया से मिली जानकारी के हवाले से हिमाचल प्रदेश में वैकल्पिक फसलों का उत्पादन बढ़ाने के लिए सरकार ने जिले चिह्नित किए हैं। इन जिलों के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में खेतीबाड़ी करने वाले किसानों को सरकार ऐसी फसलें उगाने के लिए बीज उपलब्ध कराने के साथ प्रशिक्षण भी देगी। प्रदेश के अधिकांश किसान पिछले कई वर्षों जो फसलें उगाना छोड़ चुके हैं, उन्हें दोबारा इन्हें उगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


वैकल्पिक फसल उगाने का निर्णय लेने के पीछे कारण

किसान गेहूं, जौ, तिल, दालें, धान, गन्ना के साथ आलू और अन्य सब्जियों का उत्पादन करते हैं। एक ही फसल बार-बार लेने से कई समस्याएं झेलनी पड़ रही हैं। खेतों में मिट्टी की उर्वरक शक्ति भी कम हो रही है और कई प्रकार के वायरस भी फसलों को प्रभावित करते हैं। फसलों को बाजार में अच्छे दाम भी नहीं मिल पाते हैं। इन बातों को ध्यान में रखकर सरकार किसानों को उन वैकल्पिक फसलों को उगाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है, जो लंबे समय से नहीं उगाई जा रही हैं।

 


ये फसलें उगाने के लिए किया जाएगा प्रोत्साहित

सिरमौर, चंबा और शिमला जिले के किसानों को चौलाई, कोदा, फांफरा, ओगला आदि फसलें उगाने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। इनकी बाजार में मांग भी बढ़ रही है और फसलों के दाम अच्छे मिलेंगे।


पहले चरण में प्रशिक्षण के लिए इन जिलों को किया गया है शामिल

पहले चरण में सिरमौर, चंबा और शिमला जिले के अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों के किसानों को ऐसे फसलों के बीज और प्रशिक्षण दिया जाएगा। कृषि निदेशक डॉ. नरेश कुमार बधान ने कहा कि सरकार किसानों को परंपरागत फसलों के अलावा उन फसलों को उगाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है, जो किसानों ने उगानी छोड़ दी हैं। सरकार किसानों को प्रशिक्षण भी देगी।

 

यह भी पढ़ें : स्वामित्व योजना : यूपी में चारों ओर घरौनी की चर्चा, 1001 गांवों के 1,57,244 ग्रामीणों को मिला मालिकाना हक


इधर बिहार के किसान सीखेंगे मौसम अनुकूल खेती के गुर

बिहार में सरकार किसानों को मौसम अनुकूल खेती करने पर जोर दे रही है। अभी कुछ दिन पूर्व एक कार्यक्रम में पूर्व मंत्री विधायक दामोदार रावत ने कहा कि बिहार में मौसम के अनुकूल खेती से अब बिहार के किसान समृद्ध होंगे और बिहार के सभी किसानों को इस तरह की खेती करने का न केवल गुर कृषि वैज्ञानिक सिखाएंगें बल्कि पांच साल तक कृषि वैज्ञानिक खुद खेती भी कर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की कोशिश करेंगे। वहीं झाझा विधायक ने कहा कि कृषि वैज्ञानिक न केवल मौसम अनुकूल खेती के लिए किसानों को जागरूक करेंगे बल्कि उन्हें खेती करने के गुर भी सिखाएंगें। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जलवायु परिवर्तन को देखते हुए मौसम अनुकूल खेती को अपनाने पर जोर दिया है।


मौसम अनुकूल खेती के लिए हर जिले में पांच गांवों का चयन

सरकार का मानना है कि मौसम में बदलाव का असर खेती पर तेजी से पडऩे लगा है। असमय और अनियमित वर्षा से कभी बाढ़ तो कभी सुखाड़ की स्थिति बन जाती है। 38 जिलों के 190 गांवों में मौसम अनुकूल खेती प्रारंभ की गई है और हर जिले में मौसम अनुकूल खेती के लिए पांच गांव का चयन किया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने मौसम अनुकूल खेती में कृषि विश्वविद्यालय के छात्रों को भी खेती से जोड़ जाने की योजना बनाई है।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top