• Home
  • News
  • Agriculture News
  • नैनो क्ले तकनीक : अब बंजर जमीन बनेगी उपजाऊ

नैनो क्ले तकनीक : अब बंजर जमीन बनेगी उपजाऊ

नैनो क्ले तकनीक : अब बंजर जमीन बनेगी उपजाऊ

कृषि में अनोखा प्रयोग : जानें, क्या है नैनो क्ले तकनीक और कैसे काम करती है?

बंजर जमीन को उपजाऊ बनाने के लिए नैनोक्ले तकनीक काफी कारगर सिद्ध हो सकती है। इस तकनीक के माध्यम से बंजर हो चुकी जमीन को फिर से उपजाऊ बनाया जा सकता है। इसी वर्ष 2020 में संयुक्त अरब अमीरात में खेती को लेकर एक बड़ा प्रयोग किया गया जो काफी सफल रहा। यह प्रयोग बहुत ही खास और अनोखा है, जिसे देश के हर किसान को जानना चाहिए। 

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रैक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


नैनो क्ले तकनीक : अरब के रेगिस्तान में हुई कामयाब

जानकारी के अनुसार इस तकनीक की मदद से मात्र 40 दिनों में बंजर जमीन का एक टुकड़ा मीठे रसीले तरबूजों से भर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि संयुक्त अरब अमीरात एक ऐसा देश है जहां पानी की कमी होने से यहां की भूमि सूखी है और चारों ओर तपता रेगिस्तान है। ऐसी मिट्टी में कुछ उपजा पाना बेहद मुश्किल होता है। यही कारण है कि संयुक्त अरब अमीरात में ताजे फल और सब्जियों की जरूरत का 90 प्रतिशत दूसरे देशों से आयात किया जाता है। ऐसी भौगोलिक विषमताओं के बावजूद यहां की बंजर जमीन को उपजाऊ बनाना अपने आप में एक खास उपलब्धि है जिसमें मात्र मिट्टी और पानी मिलाने से अरब का सूखा तपता रेगिस्तान रसीले फलों में तब्दील हो गया। यह सब संभव हुआ नैनोक्ले तकनीक की मदद से।

दरअसल मिट्टी को दोबारा उपजाऊ बनाने की इस तकनीक की कहानी यहां से 2400 किलोमीटर पश्चिम में दो दशक पहले शुरू हुई थी। 1980 के दशक में मिस्त्र में नील डेल्टा के एक हिस्से में पैदवार घटने लगी थी तब इसी तकनीक को अपनाकर वहां की मिट्टी को फिर से उपजाऊ बनाया गया था। आज हमारे देश में भी काफी भू-भाग बंजर होता जा रहा है जिससे खेती योज्य भूमि का क्षेत्रफल साल दर साल कम होता जा रहा है। ऐसे में यह तकनीक पूरी दुनिया के लिए कारगर साबित हो सकती है।

 


क्या है नैनो क्ले तकनीक और कैसे काम करती है?

इस तकनीक का विकास नॉर्वे की कंपनी डेजर्ड कंट्रोल द्वारा किया गया है। इसके मुख्य कार्यकारी ओले सिवर्त्सेन का कहना है कि यह वैसा ही है, जैसा आप अपने बगीचे में देख सकते हैं। किसान हजारों साल से कीचड़ का इस्तेमाल करके पैदावार बढ़ा रहे हैं, लेकिन भारी, मोटी मिट्टी के साथ काम करना ऐतिहासिक रूप से बहुत श्रम-साध्य रहा है। इससे भूमिगत पारिस्थिति को काफी नुकसान पहुंच सकता है, क्योंकि हल जोतने, खुदाई करने और मिट्टी पलटने से भी पर्यावरण को नुकसान होता है। इस तकनीक से फफूंद मिट्टी के खनिज कणों से जुड़ते हैं, साथ ही वह मृदा संरचना बनाए रखते हैं और क्षरण सीमित करते हैं। जब मिट्टी खोदने से संरचनाएं टूट जाती हैं और उन्हें दोबारा तैयार होने में समय लगता है, तब तक मिट्टी को नुकसान पहुंचने और पोषक तत्व खत्म होने की आशंका रहती है।

इसके अलावा रेत में कच्ची मिट्टी का घोल कम मिलाएं, तो उसका प्रभाव नहीं पड़ता है, लेकिन अगर इसे अधिक मिला दें, तो मिट्टी सतह पर जम सकती है। परीक्षण के बाद एक सही मिश्रण तैयार किया गया, जिसे रेत में मिलाने से जीवन देने वाली मिट्टी में बदल जाती है। उनका कहना है कि हर जगह एक ही फॉर्मूला नहीं चलता। हमें चीन, मिस्त्र, संयुक्त अरब अमीरात और पाकिस्तान में 10 साल के परीक्षण ने सिखाया है कि हर मिट्टी की जांच कराना जरूरी है, ताकि सही नैनो क्ले का नुस्खा आजमाया जा सके।

 

यह भी पढ़ें : नए साल में किसानों को महंगे मिलेंगे ट्रैक्टर


मिट्टी के घोल का संतुलन तरल फॉर्मूला

नैनो क्ले रिसर्च द्वारा एक ऐसा संतुलित तरल फॉर्मूला तैयार किया गया है, जिससे स्थानीय मिट्टी के बारीक कणों में रिसकर पहुंच सके। मगर वह इतनी तेजी से न बह जाए कि पूरी तरह खो जाए। इसका उद्देश्य पौधों की जड़ से 10-20 सेंटीमीटर नीचे की मिट्टी तक पहुंचाना होता है। बता दें कि यह तकनीक करीब 15 साल से विकसित हो रही है, लेकिन पिछले एक साल से व्यावसायिक स्तर पर काम किया जा रहा है जिसके काफी सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं।


एक बार उपचार, 5 साल तक कारगर

नैनोक्ले तकनीक से जमीन के उपचार का करने पर इसका असर करीब 5 साल तक बना रहता है। उसके बाद मिट्टी का घोल दोबारा डालना पड़ता है। इस तकनीक को लेकर दुबई के इंटरनेशलन सेंटर फॉर बायोसेलाइन एग्रीकल्चर ने इसका व्यावयासिक परीक्षण किया है। सेंटर अब 40 फीट (13 मीटर) के कंटेनर मेें मोबाइल मिनी फैक्ट्रियां बना रहा है। यह मोबाइल इकाइयां जरूरत के हिसाब से स्थानीय तौर पर तरल नैनोक्लो तैयार करेंगी। हर जगह, हर देश की मिट्टी का इस्तेमाल होगा। फैक्ट्री एक घंटे में 40 हजार लीटर तरल नैनोक्ले बनाएगी। इस तकनीक से 47 फीसदी तक पानी की बचत होगी। इस घोल को तैयार करने में प्रति वर्ग मीटर करीब 2 डॉलर यानि 1.50 पाउंड की लागत आती है।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Top Agriculture News

नेशनल नर्सरी पोर्टल : अब किसानों को मिलेंगे गुणत्तापूर्ण बीज और पौधे

नेशनल नर्सरी पोर्टल : अब किसानों को मिलेंगे गुणत्तापूर्ण बीज और पौधे

नेशनल नर्सरी पोर्टल : अब किसानों को मिलेंगे गुणत्तापूर्ण बीज और पौधे (National Nursery Portal : Now farmers will get quality seeds and plants), जानें, क्या है नेशनल नर्सरी पोर्टल और इससे किसानों को लाभ?

किसानों की हुई मौज, 7000 रुपए प्रति क्विंटल बिक रही है सरसों

किसानों की हुई मौज, 7000 रुपए प्रति क्विंटल बिक रही है सरसों

किसानों की हुई मौज, 7000 रुपए प्रति क्विंटल बिक रही है सरसों ( Farmers' fun, mustard is being sold at Rs 7000 per quintal ) जानें, प्रमुख मंडियों के सरसों व सरसों खल के ताजा भाव

अप्रैल के कृषि कार्य : सूरजमुखी, उड़द, मूंग, गन्ना, लहसुन और आम में होगा फायदा

अप्रैल के कृषि कार्य : सूरजमुखी, उड़द, मूंग, गन्ना, लहसुन और आम में होगा फायदा

अप्रैल के कृषि कार्य : सूरजमुखी, उड़द, मूंग, गन्ना, लहसुन और आम में होगा फायदा (April's agricultural work), किसान भाइयों के लिए साबित होंगे उपयोगी

अभी हरियाणा सरकार नहीं खरीदेगी गेहूं, दूसरे राज्यों के किसानों पर भी लगाया बैन

अभी हरियाणा सरकार नहीं खरीदेगी गेहूं, दूसरे राज्यों के किसानों पर भी लगाया बैन

अभी हरियाणा सरकार नहीं खरीदेगी गेहूं, दूसरे राज्यों के किसानों पर भी लगाया बैन (Now Haryana government will not buy wheat), न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद

close Icon

Find Your Right Tractor and Implements

New Tractors

Used Tractors

Implements

Certified Dealer Buy Used Tractor