• Home
  • News
  • Agriculture News
  • अब बीज बोने से पहले पता चल जाएगा कैसी होगी फसल

अब बीज बोने से पहले पता चल जाएगा कैसी होगी फसल

अब बीज बोने से पहले पता चल जाएगा कैसी होगी फसल

जानें, कैसे होगी गुणवत्तापूर्ण बीज की पहचान और इससे क्या लाभ?

कृषि के क्षेत्र में आए दिन नए नवाचार होते जा रहे हैं। इन प्रयासों का परिणाम ही है कि आज खेती की दशा और दिशा दोनों में सुधार हुआ है। इससे न केवल उन्नत व आधुनिक खेती को बढ़ावा मिला है बल्कि किसानों की आय में भी सुधार हुआ है। किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से सरकार काफी प्रयास कर रही है। इसके अलावा इस दिशा में कृषि वैज्ञानिक, विशेषज्ञों समेत कई स्टार्टअप भी काम कर रहे हैं। इसी क्रम में हाल ही में एग्रीकल्चर स्टार्टअप अगधी ने खास आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी पेश की है। इसकी मदद से बीजों को देखकर ये पता लगाया जा सकेगा कि फसल की गुणवत्ता कैसी है। साथ ही ये भी पता चल जाएगा कि किस बीज के इस्तेमाल से कितनी पैदावार हो सकती है। स्टार्टअप के संस्थापक निखिल दास ने मीडिया को बताया कि इस तकनीक से फसल की पैदावार बढ़ाकर किसानों की आय बढ़ाने में मदद मिलेगी। 

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


बीजों की गुणवत्ता जांचने के लिए इस तकनीक का होगा प्रयोग

जानकारी के अनुसार स्टार्टअप के तहत बीज और फसलों में कमी जानने के लिए मशीन लर्निंग और कंप्यूटर विजन तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। इसकी मदद से किसान को अच्छे बीज और ज्यादा पैदावार मिल सकेगी। किसान कमजोर बीज की बुआई कर नुकसान उठाने से बच जाएंगे। स्टार्टअप की नई तकनीक की मदद से सिर्फ कुछ सेकेंड में पता लगाया जा सकता है कि बीच की गुणवत्ता कैसी है। वहीं, पुरानी तकनीक से किसानों को लंबा इंतजार करना पड़ता है। एआई तकनीक की मदद से बीज की जांच करने, बीज की सैंपलिंग करने और फसल की उपज में अंतर आसानी पता लगाया जा सकेगा, जो आज की जरूरत है।

 


ऐसे होगी बीजों की गुणवत्ता की जांच

बीज में कमियों का पता लगाने के पारंपरिक तरीके फिजिकल टेस्ट पर निर्भर करते हैं। इस तकनीक से ऑटोमैटिक मशीनों से बीजों की जांच की जा सकेगी। अगधी की एआई विजन  तकनीक फोटोमेट्री, रेडियोमेट्री और कंप्यूटर विजन की मदद से बीज की गुणवत्ता की जांच करेगी। बीज की इमेज से उसका रंग, बनावट और आकार निकालकर कंप्यूटर विजन से बीज की कमियों की पहचान की जाएगी। बीजों की छंटाई के लिए किसी व्यक्ति द्वारा निरीक्षण करने की अपेक्षा यह ऑटोमेटिक तकनीक ज्यादा कारगर होगी। यह तकनीक बीजों का प्रोडक्शन करने वाली कंपनियों के लिए अधिक उपयोगी है। अगधी के संस्थापक निखिल दास के अनुसार, नई तकनीक के लॉन्च करने के साथ पैदावार बढ़ाने के लिए अब इलेक्ट्रॉनिक यंत्र बनाने की योजना है।

 

यह भी पढ़ें : कृषि यंत्र अनुदान योजना : सब्सिडी पर मिल रहे हैं ये 7 महत्वपूर्ण कृषि यंत्र


किसान अपने स्तर पर इस तरह कर सकते हैं अच्छे बीज की पहचान

अच्छे बीजों की पहचान करने से पहले आपको यह जानना जरूरी होगा कि आखिर अच्छा बीज कौनसा होता है और इसके क्या मानक हैं। तो जान लें अच्छा बीज वह होता है जिसकी अंकुरण क्षमता अधिक हो तथा बीमारी, कीट, खरपतवार के बीज व अन्य फसलों के बीजों से मुक्त हो। किसान अच्छे बीजों की बुवाई करके पैदावार व अपनी आमदनी बढ़ा सकता है। जबकि खराब गुणों वाले बीजों को बोने से खेती के अन्य कार्य जैसे- खाद, पानी, खेत की तैयारी आदि पर किसान द्वारा किया गया खर्च व मेहनत बेकार हो जाती है। इन सब बातों से बचने के लिए जरूरी है अच्छे बीज का चयन किया जाए। अब सवाल यह उठाता है कि अच्छे बीज का चयन कैसे किया जाए। बीजों का चयन करते समय बीजों की भौतिक शुद्धता, बीजों की आनुवंशिक शुद्धता, बीजों का गुण, आकार एवं रंग, बीजों में नमी की मात्रा, बीजों की परिपक्वता, बीजों की अंकुरण क्षमता तथा बीजों की जीवन क्षमता का पता लगाना बेहद जरूरी है।  


ऐसे करें अच्छे बीज की पहचान

अच्छा बीज वह होता है जिसकी अंकुरण क्षमता अधिक होती है। इसके लिए जरूरी है कि इसके अंदर किसी भी अन्य बीज की मिलावट व कंकड़, पत्थर की मिलावट न हो। इसके अलावा बीज का आकार व रंग में एक जैसे हो और बीज के अंदर नमी की मात्रा सही होना चाहिए ताकि बीज अच्छे से अंकुरित हो सके। अगर बीज में नमी की मात्रा सही नहीं होगी तो बीज के अंदर उपस्थित भू्रण की मृत्यु हो जाएगी तथा बीज अंकुरित नहीं हो पाएगा। बीजों की परिपक्वता सही होना चाहिए ताकि फसल अच्छी हो। 

 

यह भी पढ़ें : पीएम किसान सम्मान निधि योजना : बजट 2021 में किसानों को मिल सकता है तोहफा


बाजार से बीज खरीदने समय किसान इन बातों का रखें ध्यान

  • जब भी किसान बाजार से बीज खरीदें, तो इस बात का ध्यान रखे कि बीज हमेशा भरोसेमंद दुकान या किसान से ही खरीदें। 
  • बीज कटा हुआ नहीं होना चाहिए। क्योंकि कटे बीज से अंकुरण कम होता है।
  • अच्छा बीज कंकड़, पत्थर व धूल रहित होना चाहिए। इसमेें अन्य किसी दूसरे बीज की मिलावट नहीं होनी चाहिए।
  • अच्छा बीज कीटों से मुक्त होना चाहिए।
  • जो भी बीज लें वे रोग मुक्त हो, ऐसे खेत का बीज न ले जो दीमक ग्रस्त रहा हो। 
  • बीज छोटा व सूखा नहीं होना चाहिए।
  • बीजों के अंदर नमी की मात्रा पर्याप्त होना चाहिए ताकि अंकुरण अच्छे से हो सके।
  • बीज में भौतिक शुद्धता का अपेक्षित स्तर होना चाहिए।
  • बीज खरपतवार रहित होना चाहिए, जैसे- सावा, अकरी, मुर्दो, केना आदि बीज की उपस्थिति नहीं होनी चाहिए। 
  • अगर किसान बीजों को लेते समय इन सब बातों का ध्यान रखे तो वह अपने खतों के लिए उत्तम बीज का चयन कर सकता है और अच्छी फसल प्राप्त कर सकता है।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Top Agriculture News

पशुपालन के लिए उन्नत नस्ल : मेवाती गाय का पालन कर कमाएं भारी मुनाफा

पशुपालन के लिए उन्नत नस्ल : मेवाती गाय का पालन कर कमाएं भारी मुनाफा

जानें, इस नस्ल की गाय की पहचान और विशेषताएं देश के ग्रामीण इलाकों में कृषि के साथ पशुपालन एक मुख्य व्यवसाय बनता जा रहा है। आम तौर गाय, भैंस, बकरी आदि दुधारू पशुओं पालन किया जाता है। पशुपालन का मुख्य उद्देश्य दुधारू पशुओं का पालन कर उसका दूध बेचकर आमदनी प्राप्त करना है। यदि ये आमदनी अच्छी हो कहना ही क्या? पशुपालन से बेहतर आमदनी प्राप्त करने के लिए जरूरी है पशु की ज्यादा दूध देने वाली नस्ल का चुनाव करना। आज हम गाय की अधिक दूध देने वाली नस्ल के बारें में बात करेंगे। आज बात करते हैं मेवाती नस्ल की गाय के बारें में। यह नस्ल अधिक दूध देने वाली गाय की नस्लों में से एक है। सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 मेवाती गाय कहां पाई जाती है? यह गाय मेवात क्षेत्र में पाई जाती है। राजस्थान के भरपुर जिले, पश्चिम उत्तर प्रदेश के मथुरा और हरियाणा के फरीदाबाद और गुरुग्राम जिलों में अधिक पाई जाती है। गाय पालन में यह नस्ल काफी लाभकारी मानी जाती है। इस नस्ल की गाय को कोसी के नाम से भी जाना जाता है। मेवाती नस्ल लगभग हरियाणा नस्ल के समान होती है। मेवाती गाय की पहचान / विशेषताएं मेवाती नस्ल की गाय की गर्दन सामान्यत: सफेद होती है और कंधे से लेकर दाया भाग गहरे रंग का होता है। इसका चेहरा लंबा व पतला होता है। आंखें उभरी और काले रंग की होती हैं। इसका थूथन चौड़ा और नुकीला होता है। इसके साथ ही ऊपरी होंठ मोटा व लटका होता है तो वहीं नाक का ऊपरी भाग सिकुड़ा होता है। कान लटके हुए होते हैं, लेकिन लंबे नहीं होते हैं। गले के नीचे लटकी हुई झालर ज्यादा ढीली नहीं होती है। शरीर की खाल ढीली होती है, लेकिन लटकी हुई नहीं होती है। पूंछ लंबी, सख्त व लगभग ऐड़ी तक होती है। गाय के थन पूरी तरह विकसित होते हैं। मेवाती बैल शक्तिशाली, खेती में जोतने और परिवहन के लिए उपयोगी होते हैं। कितना दूध देती है मेवाती गाय यह नस्ल एक ब्यांत में औसतन 958 किलो दूध देती है और एक दिन में दूध की पैदावार 5 किलो होती है। मेवाती नस्ल की गाय की खुराक इस नस्ल की गायों को जरूरत के अनुसार ही खुराक दें। फलीदार चारे को खिलाने से पहले उनमें तूड़ी या अन्य चारा मिला लें। ताकि अफारा या बदहजमी ना हो। आवश्यकतानुसार खुराक का प्रबंध नीचे लिखे अनुसार भी किया जा सकता है। खुराक प्रबंध: जानवरों के लिए आवश्यक खुराकी तत्व- उर्जा, प्रोटीन, खनिज पदार्थ और विटामिन होते हैं। गाय खुराक की वस्तुओं का चयन करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उसे दिया जा रहा खाद्य पदार्थ पोष्टिता से भरपूर हो। इसके लिए पशुपालक खुराक का प्रबंध इस प्रकार बताएं अनुसार कर सकते हैं जिससे पोष्टिकता के साथ ही दूध की मात्रा को भी बढ़ाया जा सके। गाय की खुराक में शामिल करें यह वस्तुएं अनाज और इसके अन्य पदार्थ: मक्की, जौं, ज्वार, बाजरा, छोले, गेहूं, जई, चोकर, चावलों की पॉलिश, मक्की का छिलका, चूनी, बड़वे, बरीवर शुष्क दाने, मूंगफली, सरसों, बड़वे, तिल, अलसी, मक्की से तैयार खुराक, गुआरे का चूरा, तोरिये से तैयार खुराक, टैपिओका, टरीटीकेल आदि। हरे चारे : बरसीम (पहली, दूसरी, तीसरी, और चौथी कटाई), लूसर्न (औसतन), लोबिया (लंबी ओर छोटी किस्म), गुआरा, सेंजी, ज्वार (छोटी, पकने वाली, पकी हुई), मक्की (छोटी और पकने वाली), जई, बाजरा, हाथी घास, नेपियर बाजरा, सुडान घास आदि। सूखे चारे और आचार : बरसीम की सूखी घास, लूसर्न की सूखी घास, जई की सूखी घास, पराली, मक्की के टिंडे, ज्वार और बाजरे की कड़बी, गन्ने की आग, दूर्वा की सूखी घास, मक्की का आचार, जई का आचार आदि। अन्य रोजाना खुराक भत्ता: मक्की/ गेहूं/ चावलों की कणी, चावलों की पॉलिश, छाणबुरा/ चोकर, सोयाबीन/ मूंगफली की खल, छिल्का रहित बड़वे की खल/सरसों की खल, तेल रहित चावलों की पॉलिश, शीरा, धातुओं का मिश्रण, नमक, नाइसीन आदि। मेवाती गाय के रहने का प्रबंध शैड की आवश्यकता: अच्छे प्रदर्शन के लिए, पशुओं को अनुकूल पर्यावरणीय परिस्थितियों की आवश्यकता होती है। पशुओं को भारी बारिश, तेज धूप, बर्फबारी, ठंड और परजीवी से बचाने के लिए शैड की आवश्यकता होती है। सुनिश्चित करें कि चुने हुए शैड में साफ हवा और पानी की सुविधा होनी चाहिए। पशुओं की संख्या के अनुसान भोजन के लिए जगह बड़ी और खुली होनी चाहिए, ताकि वे आसानी से भोजन खा सकें। पशुओं के व्यर्थ पदार्थ की निकास पाइप 30-40 सैं.मी. चौड़ी और 5-7 सैं.मी. गहरी होनी चाहिए। अधिक दूध देने वाली गाय की अन्य प्रसिद्ध उन्नत नस्लें मेवाती गाय के अलावा और भी ऐसी नस्ल हैं जिनसे अधिक दूध उत्पादन लिया जा सकता है। इनमें गिर, साहीवाल, राठी, हल्लीकर, हरियाणवी, कांकरेज, लाल सिंधी, कृष्णा वैली, नागोरी, खिल्लारी आदि नस्ल की गाय प्रमुख रूप से शामिल हैं। कहां मिल सकती है मेवाती सहित अन्य उन्नत नस्ल की गायें अगर आप मेवाती सहित अन्य उत्तम नस्ल की गाय किफायती कीमत पर खरीदना चाहते हैं तो आज ही ट्रैक्टर जंक्शन पर विजिट करें। अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

अब प्रगतिशील किसान बनेंगे राष्ट्रीय स्तर के आइकॉन

अब प्रगतिशील किसान बनेंगे राष्ट्रीय स्तर के आइकॉन

बिहार के इस किसान पर बनाई जा रही है डॉक्यूमेंट्री फिल्म, जानें, किसान पर फिल्म बनाने का सरकार का मकसद और कहां होगा प्रदर्शन? बिहार के तिमौथू के मदारीपुर के एक किसान प्रेम के जीवन पर बिहार कृषि विश्वविद्यालय (सबौर) भागलपुर एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म बना रहा है। बता दें कि प्रेम एक प्रगतिशील किसान है और उन्होंने बहुत बड़े फार्म हाउस का डबलपमेंट कर उसमें अंडा लेयर फार्म, मछली पालन, बटेर पालन, कडक़नाथ मुर्गा पालन, डेयरी फार्म, चूजा उत्पादन आदि सभी प्रकार की सुविधाओं को विकसित किया है। किसान प्रेम पर बन रही फिल्म में यह बताया जाएगा कि किसान ने कैसे एक छोटे से तालाब से शुरुआत कर आज अपना इतना बड़ा फार्म हाउस विकसित किया। विश्वविद्यालय की ओर से इस डॉक्यूमेंट्री फिल्म को बनाने के पीछे ये मकसद है कि किसान प्रेम से और किसान प्रेरणा लेकर अपनी आदमनी बढ़ा सके। सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 इंटीग्रेटेड फार्मिंग करने के लिए किसानों के बीच में होगी प्रदर्शित मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार तिलौथू के मदारीपुर में किसान प्रेम के पास बिहार कृषि विश्वविद्यालय (सबौर) भागलपुर की मीडिया टीम उस पर केंद्रित डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाने पहुंची। कृषि विश्वविद्यालय की टीम का नेतृत्व कर रहे कृषि विज्ञान केंद्र बिक्रमगंज के कृषि वैज्ञानिक आरके जलज ने बताया कि बिहार सरकार के आदेश पर ऐसे किसानों को राज्य ही नहीं राष्ट्रीय स्तर पर किसानों का आइकॉन बनाने के लिए उनकी पूरी जीवनी व कार्यप्रणाली पर केंद्रित डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाई जा रही है। इसे कृषि विभाग पूरे देश में इंटीग्रेटेड फार्मिंग करने के लिए किसानों के बीच में प्रदर्शित करेगी। इसे बिहार कृषि विश्वविद्यालय के यूट्यूब साइट पर भी देखा जा सकेगा। फिल्म के लिए शूट किए किसान के जीवन के ये पहलू डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाने के दौरान कृषि विश्वविद्यालय सबौर के मीडिया कर्मियों ने किसान प्रेम की जीवनी व इतने बड़े फर्म हाउस का डेवलपमेंट कैसे किया, किस तरह से यह कृषि की ओर प्रेरित हुए, इसे शूट किया। अंडा लेयर फार्म, मछली पालन, बटेर पालन, कडक़नाथ मुर्गा पालन, डेयरी फार्म, चूजा उत्पादन पर पूरी तरह से फोकस करके फिल्मांकन किया गया। यह भी पढ़ें : फसली ऋण : फसली ऋण वितरण की तारीख में किया संशोधन, अब किसान 15 जुलाई तक ले सकेंगे ऋण कृषि विज्ञान केंद्र से मिली प्रेरणा किसान प्रेम ने डॉक्यूमेंट्री के दौरान कैमरा के सामने बताया कि मैंने यह काम तालाब से शुरू किया था, जो मेरे पिताजी ने खुदवाई थी। मुझे विशेष प्रेरणा कृषि विज्ञान केंद्र में ट्रेनिंग लेने से मिली। अब मैं इतने बड़े फार्म हाउस का निर्माण कर लिया हूं। जहां अंडा लेयर फार्म, मछली फार्म, बटेर फार्म, केला उत्पादन, डेयरी फार्म, कडक़नाथ मुर्गा की जानकारी दी। नई तकनीक अपनाकर गेंदे की खेती से की 11 लाख की कमाई इधर इंदौर के धार जिले के गांव एहमद के 39 वर्षीय किसान राजेश शांतिलाल पाटीदार खेती में नई तकनीकों को अपनाकर इससे काफी अच्छा मुनाफा कमा रहे है। उन्हें उद्यानिकी के तहत 15 बीघे की गेंदे की फसल से 11 लाख का शुद्ध मुनाफा हुआ है। जबकि इन्होंने 20 बीघा क्षेत्र में लगाए अमरुद के 8 हजार पौधों से भी लगाएं हैं। इससे भी अच्छा मुनाफा मिलेगा। मीडिया में प्रकाशित खबरों के हवाले से किसान राजेश ने बताया कि 20 बीघे में गेंदे की फसल लगाई है, जिसमें से 15 बीघे की फसल में साढ़े 15 लाख का उत्पादन हुआ, जिसमें 11 लाख का शुद्ध मुनाफा हुआ। जबकि 5 बीघे की फसल निकालना बाकी है। इसी तरह उद्यानिकी के तहत राजेश ने 20 बीघा में गत अप्रैल से जून के दौरान दो किश्तों में अमरुद के 8 हजार पौधे सघन बागवानी पद्धति से पास-पास लगाए हैं। इससे उत्पादन 3-4 गुना ज्यादा मिलता है। पौधों की किस्म थाईलैंड की है। जिसके पौधे हैदराबाद से बुलवाए थे। इन पौधों की कीमत प्रति पौधा 50 रुपए और कुछ पौधों की कीमत 100 प्रति पौधा है। सिंचाई के लिए फिलहाल एक ड्रिप लाइन लगाई है। पौधे बड़े होने पर दो ड्रिप लाइन और लगाएंगे। उत्तम प्रजाति के इस जामफल की फसल 18 माह में तैयार हो जाती है। यह भी पढ़ें : प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना : सिंचाई साधनों पर 100 प्रतिशत तक सब्सिडी, अभी करें आवेदन 16 लाख की लागत से प्लास्टिक बिछाकर तालाब का किया निर्माण किसान राजेश पाटीदार ने महाराष्ट्र का भ्रमण कर वहां के किसानों द्वारा अपनाई जा रही नई तकनीकों का अवलोकन किया और अपने खेतों में अपनाया। महाराष्ट्र पैटर्न पर पाटीदार ने खेत में साढ़े तीन बीघा में 16 लाख की लागत से प्लास्टिक बिछाकर तालाब का निर्माण भी किया है जिसकी क्षमता 2 करोड़ 40 लाख लीटर है। तीन कुंए हुए एक नदी से पाइप लाइन डालकर इस तालाब को भरा गया है। जिसका उपयोग गर्मी में नदी और कुंओं के पानी के उपयोग के बाद किया जाएगा। अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

मरू मेला : जैसलमेर में विश्वविख्यात मेले का आगाज,  ये अनोखी प्रतियोगिताएं होंगी

मरू मेला : जैसलमेर में विश्वविख्यात मेले का आगाज, ये अनोखी प्रतियोगिताएं होंगी

जानें, मरू मेले की खासियत जिसे लेकर विश्वभर में है इसकी अलग पहचान? राजस्थान पर्यटन विभाग तथा जैसलमेर जिला प्रशासन की ओर से आयोजित, चार दिन तक चलने वाले इस परंपरागत मरू महोत्सव में अबकि बार भी कई नवीन और आकर्षक कार्यक्रमों की धूम रहेगी। इस बार जैसलमेर में यह विश्वविख्यात मरू मेला 24 से 27 फरवरी तक आयोजित किया जा रहा है। हर बार ये मेला अपनी विशेष खासियत के लिए चर्चा में रहता है। देश-विदेश से काफी संख्या में पर्यटक इस मेले को देखने के लिए आते हैं। इस बार भी इस मेले के आयोजन को लेकर पिछले काफी दिनों से तैयारियां की जा रही थी। मेले को लेकर स्थानीय प्रशासन ने की ओर से पुलिस व्यवस्था चाक चौबंद की गई हैं ताकि देश-विदेश से मेले में आने वाले पर्यटकों को किसी प्रकार की असुविधा न हो। सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 मरू महोत्सव के दौरान होंगे ये कार्यक्रम इस बार मरु महोत्सव ‘नया साल, नई उम्मीद, नया जश्न’ की थीम पर केंद्रित है। मरु महोत्सव में रम्मत नाटक, हॉर्स रन, विभिन्न प्रतिस्पर्धाएं, चित्रकला, हेरिटेज वॉक, फोक डांस, मिस मूमल, मिस्टर डेजर्ट, सांस्कृतिक होंगे। इस बार चार दिवसीय मरु महोत्सव के तहत खुहड़ी, गड़ीसर, जैसलमेर व सम में चार रात स्टार नाइट का आयोजन किया जा रहा है। इसके साथ ही दिन में भी विभिन्न कार्यक्रम आयोजित होंगे, जिसमें विभिन्न प्रतियोगिताएं भी शामिल है। मरु महोत्सव के दौरान यहां स्वयं के घरों को सजाने पर प्रशासन द्वारा पुरस्कार दिया जाएगा। चारों दिन लगेगा रात्रि बाजार, रात एक बजे तक रहेगा खुला इस चार दिवसीय मरु महोत्सव के मद्देनजऱ गड़ीसर क्षेत्र में 24 से 27 फरवरी तक चारों ही दिन रात्रि बाजार लगेगा जो रात्रि एक बजे तक खुला रहेगा। इसमें फूड स्टॉल्स, पपेट शो, जादू शो, बहुरूपिया कला आदि के कार्यक्रम होंगे। इसमें कुल्हड़ में चाय-काफी, नाश्ता, हस्तशिल्प उत्पाद, कशीदाकारी, पेचवर्क, सतरंगी राली, जैसलमेरी पाषाण के जाली-झरोखे, बिना जामण के दूध से दही जमा देने वाला हाबूर का पत्थर आदि का प्रदर्शन एवं विक्रय होगा। इस दौरान प्री रिकाडेर्ड म्यूजिक, लोक कलाकारों की जगह-जगह मोरचंग, रावण हत्था, खड़ताल, ढोलक की लहरियों पर प्रस्तुतियां होंगी। सैलानियों के लिए कैमल राइडिंग होगी। इस दौरान पर्यटकों के लिए मिस मूमल एवं मिस्टर डेजर्ट की पांरपरिक वेशभूषा में फोटो खिंचवाने की भी व्यवस्था उपलब्ध रहेगी। यह भी पढ़ें : फसली ऋण : फसली ऋण वितरण की तारीख में किया संशोधन, अब किसान 15 जुलाई तक ले सकेंगे ऋण मरू मेले के वे प्रसिद्ध आकर्षण जिसे देखने देश-विदेश से आते हैं पर्यटक मरू मेले के दौरान विभिन्न परंपरागत कलाओं का प्रदर्शन किया जाता है जो अपने आप में अनूठा है। ये प्रतिष्ठित कलाएं प्राचीन काल से प्रचलित हैं; यह रेगिस्तानी त्यौहार जैसा अवसर होता है, जो इन निर्धारित कलाकारों की मेहनत की इष्टतम उपयोगिता को बाहर निकालता है। इन कलाओं को देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक यहां आते हैं। मरू मेले के दौरान होने वाली ये प्रसिद्ध कलाएं इस प्रकार से हैं- कठपुतली कला यह राजस्थानी संस्कृति का अभिन्न अंग है, जो हमेशा किसी भी मेले में शामिल होता है। कठपुतली ने हमेशा पारंपरिक नाटक खंड में एक प्रमुख भूमिका निभाई है, जो विशेष रूप से राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों में दिखाई जाती है। इस प्रकार, विदेशी पर्यटकों को कठपुतली की लुभावनी गतिविधि के माध्यम से राजस्थान की जीवंत संस्कृति में अंतर्दृष्टि मिलती है। डेजर्ट फेस्टिवल इन निर्धारित कलाकारों को वर्ष के अधिकांश समय में आर्थिक रूप से समर्थन देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। नट की कला प्रतिभाशाली कलाबाजों के आश्चर्यजनक कौशल आगंतुकों को गोज़बंप देने के लिए पर्याप्त हैं। स्पाइन-चिलिंग एक्टिविटी को अंजाम देने में कई वर्षों का समय लगता है, जो उन कड़ी मेहनत के संस्करणों को बोलते हैं जो इन बहादुर-दिलों ने अपने जुनून में डाल दिए थे। यहां तक कि, ग्रामीण महिलाएं अपने सिर पर मटका रखकर और साथ ही साथ नृत्य करते हुए अपने शरीर को संतुलित करते हुए अपने अविश्वसनीय कौशल का प्रदर्शन करती हैं। ऊंटों पर कलाबाजी भी की जाती है, जो प्रशिक्षित पेशेवरों द्वारा की जाती है। इस प्रकार, ये अद्भुत गतिविधियां राजस्थानी संस्कृति की विरासत को अपनी महिमा में ले जाती हैं। कालबेलिया नृत्य इस महोत्सव के दौरान कालबेलिया नृत्य का अपना अलग आकर्षण है। इसमें कालबेलिया महिलाओं का प्रदर्शन कुछ ऐसा है जिसे हर कोई दर्शक देखना पसंद करता है। यह राजस्थानी संस्कृति में सबसे पुराने नृत्य रूपों में से एक है। गेयर एंड फायर डांसिंग यह चौंका देने वाली गतिविधि निश्चित रूप से किसी के लिए अनुशंसित नहीं है, क्योंकि विशेषज्ञ भी किनारे पर अपना जीवन जीते हैं। स्थानीय स्टंटमैन अपने मुंह में मिट्टी का तेल डालते हैं, आग की लपटों को पकड़ते हैं। यह स्पाइन चिलिंग अनुभव हजारों आगंतुकों का ध्यान आकर्षित करता है, जो कुल मिलाकर अविश्वसनीय लगता है। यही कारण है कि जब पर्यटक अपने गोल्डन ट्राएंगल टूर पैकेज में अपना पसंदीदा टूर चुनते हैं, तो वे राजस्थान को प्राथमिकता देते हैं। ऊंट की दौड़ प्रतियोगिता यह रेगिस्तान त्योहार मरू उत्सव दौरान होने वाली सबसे प्रतीक्षित घटना है। ऊंटों को उनके सभी शानदार ऐश्वर्य में सजाया जाता है और फिर एक भयंकर दौड़ के लिए रास्ता बनाया जाता है, जो रोमांचकारी भीड़ के बीच एक सनसनी पैदा करता है। यह अविश्वसनीय अनुभव रेगिस्तान के त्योहार में सबसे अद्भुत स्थलों में से एक है, जो रेगिस्तान में एक विशाल महत्व ओड कैमल्स को भी दर्शाता है। इस प्रकार, ऊंटों को देश के इस हिस्से में उनके मूल्य का जश्न मनाने के लिए पूरे उत्साह के साथ सजाया गया है। पोलो मैच यह कार्यक्रम डेजर्ट फेस्टिवल में एक प्रमुख आकर्षण होता है। बीएसएफ (सीमा सुरक्षा बल) के जवानों से बनी दो टीमें पोलो की भीषण लड़ाई में हॉर्न बजाती हैं। लेकिन, खेल के इस संस्करण में एक बड़ा मोड़ है। घोड़ों के लिए चयन करने के बजाय, खिलाड़ी इस आश्चर्यजनक खेल को खेलने के लिए ऊंटों की पीठ पर बैठ जाते हैं। यह निश्चित रूप से सभी पर्यटकों के लिए एक आवश्यक अनुभव है। पनिहारी मटका रेस यह गतिविधि राजस्थान की संस्कृति को सबसे सुंदर तरीके से मनाती है। मिट्टी-बर्तनों में पानी ले जाना विशिष्ट विशेषताओं में से एक है, जो देश के इस हिस्से में वर्षों से प्रचलित है। इस प्रकार, उनके सभी शानदार कपड़े पहने महिलाएं इस पेचीदा प्रतियोगिता में भाग लेती हैं, जिसके लिए उन्हें अपने सिर पर पानी के बर्तन रखने और महिमा के लिए प्रतिस्पर्धा करने की आवश्यकता होती है। कई स्थानीय महिलाएं इस आकर्षक गतिविधि में भाग लेती हैं, जो रेगिस्तान त्योहार पर एक बड़ा आकर्षण है। मूंछ प्रतियोगिता यह एक विचित्र प्रतियोगिता है, जो ग्रामीण पुरुषों के बीच अविश्वसनीय रूप से लोकप्रिय है। राजस्थान में मूंछें मर्दानगी और गर्व की निशानी हैं। इस प्रकार, अपनी अद्भुत संस्कृति का जश्न मनाने के लिए, कई पुरुष सबसे बड़ी मूंछों वाले आदमी के खिताब का दावा करने के लिए अपनी मूंछों को दिमाग की लंबाई तक बढ़ाते हैं। यह विशेष अभ्यास केवल राजस्थान में ही अनुभव किया जा सकता है। यह भी पढ़ें : प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना : सिंचाई साधनों पर 100 प्रतिशत तक सब्सिडी, अभी करें आवेदन पगड़ी बांधने की प्रतियोगिता पगड़ी को राजस्थानी पुरुषों के लिए प्रतिष्ठित पहचान के रूप में माना जाता है। यह समाज में उनके कद की गरिमा, गौरव और प्रतिष्ठा का प्रतीक है। इस प्रकार, पगड़ी बांधने की प्रतियोगिता रेगिस्तान के त्योहार में होने वाली बहुप्रतीक्षित घटनाओं में से एक बन जाती है। इस अद्भुत अभ्यास में अपने हाथ आजमाने वाले विदेशियों के साथ, घटना के मानक एक अद्वितीय स्तर तक बढ़ जाते हैं। लेकिन, यह हंसी के फटने को भी सुनिश्चित करता है क्योंकि विदेशी पगड़ी बांधने की कुछ उल्लासित शैलियों को अंजाम देते हैं। मारू-श्री (मिस्टरडेर्ट प्रतियोगिता) सभी स्थानीय पोशाक पहनकर इस प्रतिष्ठित खिताब को जीतने के लिए अपनी पूरी कोशिश करते हैं। सभी स्थानीय पुरुषों ने पारंपरिक रूप में धोती, पगड़ी और उभरी हुई मूंछें पहनकर मर्दाना रूप धारण किया जाता है। प्रतियोगिता के तहत सबसे आकर्षक व्यक्तित्व प्रतियोगिता जीतता है। अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

सिंचाई के साधन : बिना किसी सरकारी मदद के किसानों ने सिंचाई के लिए बना डाली डेढ़ किलोमीटर लंबी नहर

सिंचाई के साधन : बिना किसी सरकारी मदद के किसानों ने सिंचाई के लिए बना डाली डेढ़ किलोमीटर लंबी नहर

कम खर्च पर किया नहर का निर्माण, अब खेतों में लहलहा रही है फसलें आदिवासी समाज आज भी समाज की मुख्य धारा से कटे हुए है और अलग-थलग रह रहे हैं। यही कारण है कि यह समाज आज भी गरीब, अशिक्षित है। यही नहीं इन्हें सरकारी मदद भी बहुत ही कम मिल पाती है। हालांकि सरकार इसको समाज की मुख्य धारा में लाने हेतु योजनाएं संचालित कर रही है पर ये नकाफी साबित हो रहा है। इसके बावजूद इन आदिवासियों में मेहनत और लगन से काम करने का जो जज्बा है वे तारीफे काबिल है। बिना किसी सरकारी मदद और संसाधनों के ये अपने परंपरागत तरीकों को अपनाकर आज भी खेतीबाड़ी का काम कर अपना गुजर-बसर कर रहे हैं। इनके परंपरागत जुगाड़ के तरीके काफी रोचक और इंजीनियरों को आश्चर्य में डाल देने वाले है। इसका एक उदाहरण दक्षिणी राजस्थान के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र कोटड़ा के किसानों ने पेश किया है। सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 मूलभूत सुविधाओं का अभाव, कोई सरकारी मदद नहीं, फिर भी बना डाली नहर मीडिया में प्रकाशित खबरों के आधार पर यहां के किसानों के पास न मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। इनके पास न तो बिजली है, न मोटर और न ही कोई सरकारी सहायता मुहैया हो पा रही है। इसके बावजूद इन किसानों का जज्बा काफी प्रेरणा देने वाला है। इन किसानों ने अपने खेतों में सिंचाई के लिए पानी की कमी के चलते देशी जुगाड़ अपनाकर करीब डेढ़ किलोमीटर लंबी नहर बनाई है जिसका पानी उनके खेतों में जाता है। इस काम के लिए न तो उन्होंने सरकार से मदद ली और न ही ज्यादा खर्चा किया। बस अपने देशी जुगाड़ से इस नहर का निर्माण कर लिया। इसकी बदौलत आज भी ये आदिवासी किसान बंजर भूमि पर खेती कर रहे हैं। कैसे किया नहर का निर्माण मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार उदयपुर से 120 किमी दूर कोटडा अंचल के वीर गांव में 20 किसानों के पास करीब 40 बीघा जमीन है। कमजोर आर्थिक स्थिति के चलते ये लोग ना तो ट्यूबवेल लगवा पा रहे थे और ना बारिश के बाद दूसरी फसल उगा पा रहे थे। ऐसे में इन्होंने खेतों से डेढ़ किलोमीटर दूर बहने वाली नदी का पानी खेतों तक लाने का विचार किया। दरअसल इस गांव में नदी ऊंचाई पर है और उसके आसपास की जमीन कहीं ऊंची तो कहीं नीची है। आदिवासियों ने नदी का पानी खेतों तक पहुंचाने के लिये दो जगह ब्रिज बनाए तो दो जगह जमीन को गैंती-फावड़े से नीचे किया। उसके बाद उस नहर में प्लास्टिक बिछाया। नहर में जब तक पानी बहता है तब तक न तो प्लास्टिक खराब होता और न ही फटता है। इस तरह इन आदिवासी किसानों ने देशी जुगाड़ से डेढ़ किलोमीटर लंबी नहर का निर्माण बिना किसी सरकारी मदद के कर लिया। अब केवल हर साल प्लास्टिक बदलने का होता है खर्चा किसानों ने मीडिया को बताया कि कई बार तेज बारिश में छोटे पत्थर बह जाते हैं और प्लास्टिक फट जाती है। अब वे हर साल बारिश के बाद नहर का मुआयना कर इसमें जरूरी सुधार करते हैं और प्लास्टिक बदलते हैं। अब हर साल प्लास्टिक पर ही खर्च होता है। लेकिन इससे खेतों तक पानी आसानी से पहुंच जाता है। नहर बन जाने से उनकी समस्या का समाधान हो गया। अब ये नदी के पानी से गेहूं और सौंफ की फसल भी उगा रहे हैं। अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

close Icon

Find Your Right Tractor and Implements

New Tractors

Used Tractors

Implements

Certified Dealer Buy Used Tractor