मौसम अलर्ट :  तूफान जोवाद की आहट, इन राज्यों में होगी भारी बारिश 

मौसम अलर्ट :  तूफान जोवाद की आहट, इन राज्यों में होगी भारी बारिश 

Posted On - 29 Nov 2021

जानें, मौसम विभाग का पूर्वानुमान और बारिश को लेकर चेतावानी

बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव का क्षेत्र बनने के कारण तूफान उठने की संभावना मौसम विभाग की ओर से जताई जा रही है। इससे तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश में भारी बारिश संभावना है। वहीं अन्य राज्यों में भी हल्की से लेकर मध्यम बारिश हो सकती है। मौसम विभाग की ओर से जारी पूर्वानुमान और चेतावनी के अनुसार इस समय एक निम्न दबाव का क्षेत्र तमिलनाडु के दक्षिणी तटों पर बना हुआ है जिसके प्रभाव से उत्तर पूर्वी दिशा से नम हवाएं आंध्र प्रदेश तथा तमिलनाडु को प्रभावित कर रही हैं। अगले 2 दिनों के दौरान कटिया आंध्र प्रदेश सहित तमिलनाडु के कई जिलों में भारी बारिश हो सकती है।

निम्न दबाव के क्षेत्र से आएगा तूफान जोवाद

मौसम विभाग के अनुसार एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिणी अंडमान सागर के ऊपर बना हुआ है। इसके प्रभाव से इस जगह पर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बन सकता है। यह निम्न दबाव का क्षेत्र और अधिक शक्तिशाली होकर डिप्रेशन में तब्दील हो सकता है। यह पश्चिम उत्तरपश्चिम दिशा में आगे बढ़ते 3 दिसंबर तक उत्तरी आंध्र प्रदेश या दक्षिणी ओडिशा के तट के आसपास पहुंच सकता है। इसके गहरे डिप्रेशन में बदलने की संभावना नजर आ रही है। परंतु यह समुद्री तूफान में बदलेगा या नहीं यह कह पाना अभी मुश्किल है। यदि यह समुद्री तूफान में बदलता है तो इसका नाम जोवाद होगा। 

2 से 5 दिसंबर के दौरान इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना

मौसम विभाग की ओर से जारी पूर्वानुमान के अनुसार निम्न दबाव का क्षेत्र यदि शक्तिशाली तूफान में तब्दील होता है तो इसके प्रभाव से 2 दिसंबर से 5 दिसंबर के बीच उत्तरी आंध्र प्रदेश के टच के साथ-साथ उड़ीसा पश्चिम बंगाल के तटीय भागों में भारी वर्षा हो सकती है।

इस तरह आएगा तूफान जोवाद

मौसम विभाग के अनुसार यदि तूफान जोवाद आता है तो इस दौरान समुद्र में ऊंची लहरें उठेंगी तथा साथ ही हवाओं की रफ्तार भी बहुत अधिक होगी। हवाओं की रफ्तार 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती हैं कुछ स्थानों पर 80 से 90 किलोमीटर की रफ्तार से भी हवाओं के चलने की संभावना है। 3 दिसंबर से 5 दिसंबर के बीच मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वह समुद्र में न जाएं तथा सावधानी रखें।  

मौमस विभाग का पूर्वानुमान और चेतावनी

मौसम विभाग की ओर से जारी किए गए पूर्वानुमान के अनुसार एक ताजा सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के 30 नवंबर, 2021 की रात से उत्तर-पश्चिम और आसपास के मध्य भारत को प्रभावित करने की संभावना है। मध्य और ऊपरी क्षोभमंडल स्तरों पर मध्य अक्षांश के पश्चिमी क्षेत्रों में इस ट्रफ के प्रभाव में और निचले स्तर के ट्रफ के साथ इसकी संभावित बातचीत पुरवाई के कारण अधिक नमी आ रही है।

कहां,  कब हो सकती है बारिश

  • पश्चिम विक्षोभ के कारण 30 नवंबर से 2 दिसंबर के दौरान गुजरात, उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिण-पश्चिम मध्य प्रदेश और दक्षिण राजस्थान के आसपास के क्षेत्रों में व्यापक रूप से व्यापक बारिश या गरज के साथ छिटपुट बारिश होने की संभावना है। वहीं एक दिसंबर को भारी बारिश होने का अनुमान है।
  • एक दिसंबर को गुजरात राज्य में भारी से बहुत भारी वर्षा की संभावना है और 2 दिसंबर को गुजरात क्षेत्र में अलग-अलग भारी वर्षा की संभावना है। 
  • एक दिसंबर को उत्तरी कंकण में भी भारी वर्षा की संभावना है।
  • दो दिसंबर को अधिकतम गतिविधि के साथ एक से दो दिसंबर के दौरान पश्चिमी मध्य प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, हरियाणा, पश्चिम उत्तर प्रदेश में गरज के साथ छिटपुट बारिश होने के साथ ही बिजली गिरने की संभावना है।
  • दो दिसंबर को अधिकतम गतिविधि के साथ एक से दो तारीख के दौरान जम्मू-कश्मीर-लद्दाख-गिलगित-बाल्टिस्तान-मुजफ्फराबाद, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में छिटपुट गरज के साथ छिटपुट बारिश या बर्फबारी होने की संभावना है।

श्रीलंका के तटों पर बना चक्रवाती परिसंचरण, इन राज्यों में होगी भारी बारिश

निचले स्तरों में कोमोरिन क्षेत्र और उससे सटे श्रीलंका के तटों पर एक चक्रवाती परिसंचरण बना हुआ है और परिसंचरण के उत्तर में निचले स्तरों पर तमिलनाडु तट और दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश पर तेज उत्तर-पूर्वी हवाएं चल रही हैं। 29 नवंबर को अरब सागर में परिसंचरण के उभरने और उसके बाद उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढऩे की संभावना है। इसके प्रभाव से कई राज्यों में भारी बारिश का पूर्वानुमान है। 

29 नवंबर को इन जगहों पर हैं भारी बारिश के आसार

  • 29 नवंबर को तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल, केरल और माहे और लक्षद्वीप क्षेत्र में हल्की से मध्यम काफी व्यापक / व्यापक वर्षा होने की संभावना है। 
  • 29 नवंबर के दौरान तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में भारी बारिश की संभावना है। इसी प्रकार केरल और माहे में अलग-अलग जगह पर भारी बारिश हो सकती है।

30 नवंबर से 2 दिसंबर के दौरान यहां हो सकती है भारी बारिश

  • 30 नवंबर, 2021 के आसपास दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। इसके बाद के 48 घंटों के दौरान और अधिक चिह्नित होने और पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढऩे की संभावना है।
  • इसके प्रभाव में, 30 नवंबर से 2 दिसंबर के दौरान अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में अलग-अलग भारी वर्षा की संभावना है और एक दिसंबर को बहुत भारी वर्षा की संभावना है।
  • इसके प्रभाव में, 3 दिसंबर 2021 की रात से उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश और ओडिशा में वर्षा बढऩे की संभावना है।

ताजा अपडेट : मध्यप्रदेश केे कई जिलों में बारिश की संभावना

मौसम विभाग से मिली ताजा अपडेट जानकारी के अनुसार 48 घंटे बाद बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में फिर कम दबाव के क्षेत्र बनने वाला है। 29 नवंबर को बंगाल की खाड़ी में अंडमान के पास एक कम दबाव का क्षेत्र और 30 नवंबर को अरब सागर में भी एक चक्रवात बनने जा रहा है। 2 सिस्टमों के एक्टिव होने से हवाओं के साथ वातावरण में नमी बढऩे की संभावना है।  मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी दो दिन तक हल्की ठंड बनी रहेगी, इसके बाद राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के कई जिलों में बादल छाने लगेंगे। इससे न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी होने लगेगी। वहीं बादल भी छाने लगेंगे। साथ ही मध्यप्रदेश के कई जिलों में बारिश भी हो सकती है। वहीं पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आगामी 30 नवंबर से 6 दिसंबर तक मौसम परिवर्तनशील रहेगा इस दौरान आसमान पर बादल विकसित होने तथा कहीं कहीं हल्की बारिश होने की संभावना है।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top