पीएम मोदी ने किया एशिया के सबसे बड़े बायो सीएनजी प्लांट गोबर-धन का लोकार्पण

पीएम मोदी ने किया एशिया के सबसे बड़े बायो सीएनजी प्लांट गोबर-धन का लोकार्पण

Posted On - 19 Feb 2022

जानें, सीएनजी प्लांट गोबर-धन की 10 खास बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंदौर में बने एशिया के सबसे बड़े बायो सीएनजी प्लांट गोबर-धन का वर्चुअल तरीके से लोकार्पण किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इंदौर के कचरे और पशुधन से गोबर धन और इससे स्वच्छता धन और फिर ऊर्जा धन बनेगा। उन्होंने कहा यह गोबर-धन बायो सीएनजी प्लांट कचरे को कंचन बनाने का काम है। देश के अन्य शहरों और गांवों में भी इस तरह के प्लांट बन रहे है। इससे पशुपालकों को गोबर से आय हो रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कचरे से कंचन बनाने के अभियान की जानकारी अधिक से अधिक लोगों को दी जानी चाहिए। यहां बनने वाली जैविक खाद से धरती मां को जीवन दान मिलेगा। इस प्लांट से लोगों को रोजगार मिलेगा। इस तरह ग्रीन रोजगार विकसित होंगे। 

Buy New Holland 3037 TX

शहरों को कूड़ों के पहाड़ों से मुक्त करने का है लक्ष्य

शहरों को कूड़े के पहाड़ों से मुक्त करने का लक्ष्य है। इंदौर एक मॉडल के रूप में तैयार हुआ है। आज देवगुराडिया में जहां प्लांट है, वहां पहले कूड़े का ढेर होता था, जिसे इंदौर ने बदला है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कूड़े के पहाड़ों से हमारे शहरों को मुक्ति मिले और उन्हें ग्रीन जोन के रूप में तैयार करेंगे।

हमारे पास हैं बायो फ्यूल से इथेनॉल बनाने की क्षमता

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे पास तेल के कुएं नहीं लेकिन बायो फ्यूल से इथेनाल बनाने की क्षमता है। पेट्रोल में एथेनाल का प्रतिशत 8 प्रतिशत तक है। पहले देश में 40 करोड़ एथेनाल ब्लेंडिंग में इस्तेमाल होता था अब 300 करोड़ एथेनाल ब्लेंडिंग के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। भारत सोलर से बिजली बनाने में दुनिया के पांच प्रमुख देशों में शामिल है। 

सीएनजी प्लांट से होगा किसानों को लाभ

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि इंदौर एकमात्र ऐसा शहर है जो 6 तरह के कचरे को अलग करता है। 20 से ज्यादा बाजार जीरो वेस्ट बने है, 3 हजार बेकलेन बनी जहां बच्चे खेलते है। यहां नदियों को पुर्नजीवित किया जा रहा है। इस प्लांट में गीले कचरे से खाद बनाई जाएगी। इस प्लांट में बैक्टीरिया तैयार करने में गोबर का इस्तेमाल करेंगे, किसानों से गोबर खरीदा जाएगा। प्लांट में सौर उर्जा का उपयोग करेगा। 

2020 में शुरू हुआ था प्लांट का निर्माण कार्य

बता दें कि इस सीएनजी प्लांट का निर्माण 2020 में शुरू हुआ था। इस प्लांट पर 150 करोड़ रुपए खर्च आया है। ये प्लांट 15 एकड़ में फैला हुआ है। इस प्लांट में प्रतिदिन 100 टन एकड़ खाद का निर्माण होगा। इस प्लांट में प्रतिदिन 600 टन गीले कचरे की कटाई कर सीएनजी बनाने के लिए स्लरी तैयार की जाएगी। 4 डाइजेस्ट में स्लरी डाला जाएगा, जिससे बायोगैस तैयार होगी। अभी 250 टन क्षमता के दो डाइजेस्टरों में गीला कचरा डालकर बायो सीएनजी गैस तैयार की जा रही है। अन्य दो डाइजेस्टरों में कल्चर तैयार किया जा रहा है, जिसमें मार्च की शुरुआत में गीला कचरा डालकर बायो-सीएनजी का उत्पादन शुरू किया जाएगा।

Buy New Holland Excel 5510

दो शिफ्टों में होगा प्लांट का संचालन

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्लांट का संचालन दो शिफ्टों में किया जाएगा। इसमें सुबह व रात को शिफ्ट में कर्मचारी कार्य करेंगे। अभी यहां 65 कर्मचारी कार्य प्लांट में कार्य कर रहे हैं। सेंट्रल कमांड कंट्रोल रूम से प्लांट की निगरानी की जाएगी।

प्लांट में सीएनजी के निर्माण की यह है प्रक्रिया

प्रोजेक्ट हेड नितेश त्रिपाठी के मुताबिक जैविक कूड़े को डीप बंकर में डाला जाता हैं, फिर वहां से ग्रैब क्रेन से उठाकर प्री-ट्रीटमेंट एरिया में मिलिंग होती है। इसके बाद इसे स्लरी में कंवर्ट करते हैं। स्लरी को डायजर्स में डाइजेस्ट किया जाता है और उससे बायोगैस बनाई जाती है। इसके बाद बायोगैस को स्टोरेज एरिया में ले जाया जाता है, जिसमें मीथेन 55-60 होता है। इसके बाद फिर उसे गैस क्लीनिंग और अपग्रेडेशन में ले जाया जाता है। पूरी प्रक्रिया कंट्रोल रूम के कंप्यूटर और मशीनों से संचालित होती है। आम भाषा में महीने भर से कम वक्त तक ये डाइजस्टर टैंक स्लरी को पचाते हैं, जिससे इनका बायो मिथेनेशन हो सके और एक रासायनिक प्रक्रिया से यहां बायो गैस तैयार होती है।

सीएनजी प्लांट की 10 खास बातें

  • इंदौर में यह सीएनजी प्लांट (Indore Bio CNG Plant) देवगुराडिया ट्रेंचिंग ग्राउंड में स्थापित किया गया है। 15 एकड़ का यह मैदान जहां सीएनजी प्लांट बनाया गया है, एक समय में यहां कचरे का ढेर हुआ करता था।
  • यह प्लांट पूरे एशिया महाद्वीप में ऑर्गेनिक वेस्ट से बायो गैस बनाने वाला सबसे बड़ा और देश का पहला प्लांट है। 
  • इस प्लांट से प्रतिदिन 17, 500 किग्रा. बायोगैस बनाई जाएगी. इसके साथ ही 100 टन उच्च गुणवत्ता वाली खाद भी इससे तैयार होगी। 
  • इस प्लांट को 150 करोड़ की लागत से बनाया गया है। यहां हर दिन 550 मीट्रिक टन गीले कटरे का निपटान होगा। 
  • यह तकनीक हर साल 1,30,000 टन कार्बन-डाइ-ऑक्साइड को कम करके घनी आबादी वाले शहरों की वायु गुणवत्ता को शुद्ध करने में सहायता करेगी।
  • साल में 200 से ज्यादा बार गीले कचरे की जांच और शुद्धता की जांच करने पर पता चला कि सूखा कचरा गीला के साथ नहीं आ रहा है।
  • 96 फीसदी मीथेन के साथ बायो-सीएनजी तैयार हो जाएगा।
  • इस प्लांट से तैयार होने वाली बायो सीएनजी में से 50 प्रतिशत गैस का इस्तेमाल सार्वजनिक वाहनों के लिए किया जाएगा और बाकी का इस्तेमाल अन्य उद्योगों के लिए होगा। 
  • बताया जा रहा है कि इंदौर में करीब 400 बसें इस प्लांट से तैयार बायो गैस से चलाई जाएंगी। 
  • यह सीएनजी प्लांट पीपीपी मॉडल पर आधारित है। जिस कंपनी ने यह प्लांट तैयार किया है वह 20 साल तक प्रति वर्ष इंदौर म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन को 2.5 करोड़ रुपए देगी।

विश्व बायोगैस फोरम से करवाया जाएगा प्रमाणीकरण

जर्मनी में 12 डाइजेस्टर के माध्यम से गीले कचरे का उपयोग कर बिजली बनाई जाती है। इंदौर में भी इसी तर्ज पर बायो गैस का निर्माण किया जाएगा। इंदौर में तैयार हुए 550 टन क्षमता वाले इस बायो सीएनजी प्लांट को फिलहाल एशिया का सबसे बडा प्लांट बताया जा रहा है। अभी जर्मन में ही इस तरह का बायोगैस प्लांट होने का दावा किया जा रहा है। विश्व बायोगैस फोरम के माध्यम से इस प्लांट का प्रमाणिकरण करवाया जाएगा। इसके बाद यह संभावना जताई जा रही है कि यह प्लांट विश्व का सबसे अधिक क्षमता वाला बायो सीएनजी प्लांट हो सकता है। 

अगर आप अपनी कृषि भूमिअन्य संपत्तिपुराने ट्रैक्टरकृषि उपकरणदुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back