किसान कल्याण मिशन : किसानों के लिए 100 कृषि कल्याण केंद्र होंगे स्थापित

किसान कल्याण मिशन : किसानों के लिए 100 कृषि कल्याण केंद्र होंगे स्थापित

Posted On - 06 Jan 2021

जानें, क्या है किसान कल्याण मिशन और इससे किसानों को फायदा

उत्तरप्रदेश में बुधवार से किसान कल्याण मिशन की शुरुआत हुई। किसान कल्याण मिशन के तहत 6 जनवरी को प्रदेश के 303 ब्लॉक में कार्यक्रम किए जा रहे हैं। अगले हफ्ते भी 303 ब्लॉक में कार्यक्रम होंगे, जबकि 21 तारीख को 201 विकास खंड में किसान उपयोगी प्रदर्शन, कृषि मेले, वैज्ञानिक वार्ता और प्रगतिशील किसानों को सम्मानित किया जाएगा। यह कार्यक्रम पूरे प्रदेश भर में ब्लाकवार अगले तीन सप्ताह तक कार्यक्रम चलेंगे। जानकारी के मुताबिक 6 जनवरी से पहला चरण और दूसरा चरण में 13 जनवरी को आयोजन होगा, वहीं तीसरा चरण 21 जनवरी को आयोजित किया जाएगा। इसमें किसानों को योजनाओं की जानकारी देने के साथ ही उन्हें लाभान्वित किया जाएगा। वहीं तहसील दिवस या किसी राजकीय अवकाश के दिन किसान कल्याण मिशन के तहत होने वाले कार्यक्रमों के आयोजन नहीं होंगे।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रैक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


किसान कल्याण मिशन की शुरुआत पर क्या बोले मुख्यमंत्री आदित्यनाथ

किसान कल्याण मिशन की शुरुआत के अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में चलाई जा रही है किसान उपयोगी योजनाओं की उलब्धियां भी गिनाईं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2 करोड़ 35 लाख किसान यूपी में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि से लाभान्विंत हो रहे हैं। पिछले तीन साढ़े तीन साल में एक लाख 15 हजार करोड़ रुपए किसानों का गन्ना मूल्य का भुगतान कराया गया है, ये रकम जितनी बड़ी है इतना तो बहुत सारे राज्यों का वार्षिक बजट नहीं होता है। केंद्र से लेकर प्रदेश तक सभी कार्यक्रम और योजनाएं किसानों के कल्याण के लिए हैं, पीएम मोदी के सपने को पूरा करने के लिए 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुना करना है। लेकिन कृषि में हो रहे अमूलचूल परिवर्तन कुछ लोगों को पसंद नहीं आ रहे हैं।

 


क्या है किसान कल्याण मिशन

उत्तर प्रदेश में शुरू हुए किसान कल्याण मिशन का मकसद किसानों की आय बढ़ाना और नई तकनीकी और सरकारी योजनाओं की जानकारी उन तक पहुंचाना है। यह कार्यक्रम उत्तर प्रदेश के सभी 824 विकास खंडों में 6 जनवरी से 21 जनवरी तक चलेगा। बता दें कि मोदी सरकार 2022 तक किसानों की आमदनी बढ़ाकर दोगुनी करने पर फोकस कर रही है। इसके लिए सरकार ने कई योजनाएं चलाई हुई हैं। वहीं राज्य स्तर पर भी किसानों की आय को दुगुनी करने के प्रयास तेज किए जा रहे हैं। 

 

यह भी पढ़ें : रिलायंस कंपनी का जवाब : किसानों को माना अन्नदाता, कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग की कोई प्लानिंग नहीं


किसान कल्याण मिशन के तहत होंगे ये काम

  • किसान कल्याण मिशन तहत कृषि आधारित गतिविधियां जैसे पशुपालन, बागवानी, गन्ना आदि कृषि आधारित उद्योग शामिल किए गए हैं। 
  • प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत आधार, नाम से संबंधित त्रुटियों तथा ओपेन सोर्स से प्राप्त प्रार्थना-पत्र के सत्यापन के लिए अलग से शिविर लगाए जाएंगे। 
  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किए गए किसान कल्याण मिशन में कृषि और किसानों से जुड़ी सभी केंद्र व राज्य योजनाओं की जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। इसमें बागवानी, मंडी परिषद, पशुपालन विभाग, गन्ना, खाद्य एवं आपूर्ति, मत्स्य पालन और पंचायती राज विभाग भी सहभागिता करेंगे।
  • किसान कल्याण मिशन के तहत गोष्ठी, प्रदर्शनी, मेला प्रत्येक विकास खंड में आयोजित किए जाएंगे। 
  • केंद्र सरकार के आत्मनिर्भर पैकेज में किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) के संयोजन तथा इसके माध्यम से सामान्य सुविधा केंद्रों के विकास के साथ ही कृषि आधारित लघु एवं मध्यम उद्योगों के संबंध में कार्ययोजना बनाई जाएगी। प्रत्येक विकास खंड में एफपीओ का गठन कर विस्तृत कार्ययोजना बनाई जाएगी। एफपीओ के माध्यम से किसानों के कल्याण के लिए कई गतिविधियां शुरू की जाएंगी। कृषि विभाग द्वारा किसान कल्याण माइक्रो साइट का निर्माण कराया जाएगा।
  • लाभार्थीपरक योजनाओं यथा-किसान क्रेडिट कार्ड, बैकयार्ड सुअर पालन, अंडा उत्पादन, बायलर पालन एवं पशुधन बीमा योजना आदि के स्वीकृति पत्र अथवा सहायता का वितरण इन मेलों के दौरान कराया जाएगा।  
  • किसान कल्याण अभियान के तहत कितने किसानों से संपर्क स्थापित किया गया यह सूचना जिला स्तर पर एकत्र की जाएगी। किसानों के फोन तथा व्हाट्सअप नंबर भी सूचीबद्ध किए जाएंगे। 
  • अभियान के मुख्य रूप से तीन भाग होंगे। पहला कृषि व सहवर्गी सेक्टर की वृहद् प्रदर्शनी, दूसरा किसान गोष्ठी तथा तीसरा विभिन्न विभागों द्वारा कृषि कल्याण की संचालित योजनाओं के लाभार्थियों को मौके पर ही योजना से लाभान्वित किया जाना। 
  • किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड की स्वीकृति पत्र का वितरण भी कराया जाएगा।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top