जायद फसलें : मध्य प्रदेश में 6 लाख हेक्टेयर में ली जाएंगी जायद फसलें, लक्ष्य तय

जायद फसलें : मध्य प्रदेश में 6 लाख हेक्टेयर में ली जाएंगी जायद फसलें, लक्ष्य तय

Posted On - 08 Apr 2021

मध्यप्रदेश में जायद फसल : 5 लाख हेक्टेयर में मूंग लेने का लक्ष्य

मध्यप्रदेश राज्य में रबी की फसल की कटाई जोरों से चल रही है। इसी के साथ यहां पर किसानों से गेहूं की खरीद शुरू हो गई है। इन सब गतिविधियों के बीच कृषि विभाग की ओर से इस वर्ष के लिए जायद फसलों के लक्ष्य भी तय कर दिए गए हैं। इस वर्ष प्रदेश के 6 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में जायद फसलें लेने का लक्ष्य रखा गया है, इसमें मूंग, उड़द, मूंगफली, मक्का एवं ग्रीष्मकालीन धान शामिल हैं। कृषि विभाग के मुताबिक राज्य में इस वर्ष 6 लाख 21 हजार हेक्टेयर में जायद फसलें लेने का अनुमान है। इसमें मुख्यत: मूंग फसल सबसे अधिक 5 लाख 12 हजार हेक्टेयर में लेने का लक्ष्य है। अन्य फसलों में उड़द 53 हजार हेक्टेयर में, ग्रीष्मकालीन धान 27500 हेक्टेयर में, मक्का 24000 हेक्टेयर में एवं मूंगफली 4800 हेक्टेयर में लेने का लक्ष्य है। 

Buy Used Tractor

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


जानें, किस जिले को कितना लक्ष्य

बता दें कि प्रदेश के होशंगाबाद (नर्मदा पुरम) संभाग में धान को छोडक़र अन्य सभी जायद फसलें बहुतायत में ली जाती हैं। संभाग में केवल मूंग का लक्ष्य आधे से अधिक लगभग 3.11 लाख हेक्टेयर रखा गया है, जो राज्य में सबसे अधिक है। संभाग में अन्य फसलों में उड़द 1050, मक्का 1450, एवं मूंगफली 100 हेक्टेयर में लेने का लक्ष्य तय किया गया है। जानकारी के मुताबिक प्रदेश के अन्य संभागों में सभी जायद फसलें जबलपुर में 1.34 लाख हेक्टेयर में, सागर में 14600 हेक्टेयर में, रीवा में 19100, शहडोल में 1600, इंदौर में 29900, उज्जैन में 17300, मुरैना में 11400, ग्वालियर में 8200 एवं भोपाल संभाग में 71700 हेक्टेयर में लेने का लक्ष्य है।


प्रदेश में जायद 2021 में फसलों का तय लक्ष्य

 

फसल लक्ष्य
मूंग 512227
उड़द 53294
मूंगफली 4807
मक्का 24035
धान 27552

 

Buy New Tractor

तवा नहर के कमांड क्षेत्र में ही करें मूंग की बोनी

कृषि मंत्री कमल पटेल ने हरदा के किसानों से अपील की है कि मूंग की बुआई तवा नहर के कमांड एरिया में ही करें। उन्होंने कहा कि 35 हजार हेक्टेयर रकबे में बुआई का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। निर्धारित रकबे में ही बुआई करें, इससे ज्यादा में नहीं। उन्होंने किसानों से आग्रह करते हुए अपील की है कि किसान अपनी मर्जी से बांध के गेट को न खोलें और न बंद करें। सिंचाई में यदि कोई समस्या है, तो जिले के अधिकारियों, स्थानीय जन-प्रतिनिधियों और मुझसे संपर्क करें। पटेल ने मीडिया को बताया कि प्रतिदिन नहर में 500 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। इससे हरदा में 17 हजार 500 और टिमरनी में भी 17 हजार 500 हेक्टेयर रकबा क्षेत्र में मूंग फसल की सिंचाई की जाएगी। उन्होंने सभी किसानों से आग्रह किया कि नहर के पानी को रोक कर, बंद कर, डैम के गेट खोलकर या बंद कर कानून को अपने हाथ में न लें अन्यथा वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।


मुहाल में नहर के लिए हुआ भूमि-पूजन

मंत्री पटेल ने खिरकिया ब्लॉक के ग्राम मुहाल में नहर के लिये भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित नहर के निर्मित हो जाने पर 3 हजार हेक्टेयर रकबा सिंचित होगा। इससे हरदा जिले को शत-प्रतिशत सिंचित रकबे वाला जिला बनाने का लक्ष्य पूरा किया जा सकेगा।


भदभदा में अत्याधुनिक सीमन उत्पादन प्रयोगशाला का लोकार्पण

हाल ही में राज्य के मुख्यमंत्री चौहान ने मिशन अर्थ के अंतर्गत भदभदा भोपाल में 47 करोड़ 50 लाख रुपए की लागत से स्थापित देश की दूसरी अत्याधुनिक सीमन उत्पादन प्रयोगशाला का डिजीटली लोकार्पण किया है। इसी के साथ ही विभिन्न ग्राम पंचायतों में 260 करोड़ रुपए की लागत से बनी 985 सामुदायिक गौ-शालाओं का लोकार्पण और 50 करोड़ रुपए से बनने जा रही 145 सामुदायिक गौ शालाओं का शिलान्यास भी किया गया।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top