अब कृषि विभाग करेगा आम व शाही लीची की ऑनलाइन बिक्री

अब कृषि विभाग करेगा आम व शाही लीची की ऑनलाइन बिक्री

Posted On - 30 May 2020

उपभोक्ताओं को फ्री में की जाएगी होम डिलीवरी

कोरोना संक्रमण काल के दौरान लॉकडाउन का असर कृषि के क्षेत्र पर भी व्यापक रूप से पड़ा है। इससे फल, सब्जी, दूध आदि की स्थानीय बिक्री में गिरावट आई है जिससे किसानों को नुकसान हो रहा है। गर्मियों में जर्दालू आम एवं शाही लीची की अच्छी खासी मांग बाजार में रहती है। व्यापारी इसे खरीदने के लिए किसान के पास नहीं पहुंच पा रहे है जिससे इसकी बिक्री नहीं हो पा रही है। इसे ध्यान में रखते हुए बिहार सरकार ने जर्दालू आम व शाही लीची की ऑनलाइन बिक्री की शुरुआत की है।

सरकार का मानना है कि इससे किसानों को एक बाजार मिल जाएगा जहां किसान इनकी बिक्री कर अच्छा मुनाफा कमा पाएगा। वहीं उपभोक्ताओं को अच्छी गुणवत्ता वाले फल घर बैठे मिल प्राप्त होंगे। फिलहाल यह योजना बिहार के कुछ जिलों तक पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू की जा रही है। इसके सफल होने पर राज्य के अन्य जिले के साथ ही देश के अन्य राज्यों तक इसका विस्तार किया जाएगा। मीडिया में प्रकाशित खबरों के हवाले से बिहार के कृषि मंत्री के अनुसार उद्यान निदेशालय द्वारा जी.आई. तेग प्राप्त मुजफ्फरपुर का शाही लीची एवं भागलपुर का जर्दालू आम ऑनलाइन बिक्री भारतीय डाक विभाग के मध्य से मुजफ्फरपुर, भागलपुर एवं पटना के शहरी क्षेत्र के उपभोक्ताओं के घर तक पहुंचाने के व्यवस्था की गई हैं। मुजफ्फरपुर का शाही लीची का ऑनलाइन क्रय मुजफ्फरपुर एवं पटना के शहरी क्षेत्र के उपभोक्ताओं द्वारा ही किया जा सकेगा। इसी प्रकार भागलपुर के जर्दालू आम का ऑनलाइन क्रय भागलपुर तथा पटना के शहरी क्षेत्र के उपभोगताओं द्वारा ही किया जा सकेगा। 

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

2 व 5 किलो के पैकेट में की जाएगी आपूर्ति- 

राज्य के कृषि विभाग के अनुसार उपभोक्ता को इन फलों की बिक्री 2 से 5 किलो के पैकेट में की जाएगी जो पूर्णतय रसायन मुक्त होंगे। उपभोगताओं को शाही लीची 2 किलोग्राम एवं जर्दालू आम 5 किलोग्राम के आकर्षक पैक में भेजे जाएंगे। यह फल किसी रसायन के उपयोग के बिना अर्थात प्राकृतिक रूप से पका हुआ उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराया जाएगा, जो बाजार कि तुलना में ज्यादा गुणवत्तापूर्ण एवं स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होगा। इसे डाक के माध्यम से उपभोक्ताओं तक पहुंचाया जाएगा। डाक खर्च का वहन संबंधित कृषक उत्पादक संगठन द्वारा किया जाएगा। फ्री होम डिलीवरी के लिए उपभोक्ता को लीची न्यूनतम 2 किलोग्राम एवं आम न्यूनतम 5 किलोग्राम का आर्डर करना अनिवार्य होगा। 

 

 

उपभोक्ता को कैश ऑन डिलीवरी करना होगा भुगतान- 

कृषि मंत्री ने बताया कि घर पर इन फलों के पहुंचने के उपरांत ही उपभोक्ता द्वारा राशी का भुगतान पी.ओ.एस. मशीन अथवा कैश के रूप में अर्थात कैश ऑन डिलीवरी किया जाएगा। मुजफ्फरपुर, भागलपुर एवं पटना के चिन्हित पिन कोड वाले क्षेत्र के उपभोक्ता इन फलों का ऑनलाइन खरीद सकेंगे। 

 

आम तथा लीची के लिए यहां कर सकते हैं आर्डर-  

आम तथा लीची के लिए कोई भी उपभोक्ता आर्डर दे सकते हैं। इसके लिए राज्य सरकार ने तारीख निश्चित कर दी है। मुजफ्फरपुर का शाही लीची के लिए 25 मई से 15 जून तक तथा भागलपुर का जर्दालू आम के लिए 1 से 20 जून तक आर्डर किया जा सकता है। इसके लिए उपभोक्ता बिहार उद्यान निदेशालय की वेबसाईट- http://horticulture.bihar.gov.in/ पर दिये गए लिंक पर आनलाइन आर्डर किया जा सकता है।

 

सभी कंपनियों के ट्रैक्टरों के मॉडल, पुराने ट्रैक्टरों की री-सेल, ट्रैक्टर खरीदने के लिए लोन, कृषि के आधुनिक उपकरण एवं सरकारी योजनाओं के नवीनतम अपडेट के लिए ट्रैक्टर जंक्शन वेबसाइट से जुड़े और जागरूक किसान बने रहें।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back