सरसों का भाव : सरसों में फिर आई तेजी, 8 हजार रुपए प्रति क्विंटल पहुंचा भाव

Published - 20 Jul 2021

सरसों का भाव : सरसों में फिर आई तेजी, 8 हजार रुपए प्रति क्विंटल पहुंचा भाव

जानें, प्रमुख मंडियों में सरसों का भाव (Mustard Price) और आगे बाजार का रूख 

इस बार सरसों किसानों के लिए मोटी कमाई का जरिया साबित हो रही है। इस साल की शुरुआत से ही सरसों के भाव ऊंचे रहे और इसके भावों में अभी भी तेजी जारी है। एक ओर सरसों में तेजी से किसान खुश है तो दूसरी ओर आम उपभोक्ता और व्यापारी चिंतित नजर आ रहे हैं। बाजार एक्सपट्सों के अनुसार इस समय मंडियों में सरसों की आवक कम होने से सरसों में तेजी का रूख दिखाई दे रहा है। इसके पीछे कारण यह माना जा रहा है कि किसान एक साथ अपनी सरसों बाजार में न बेचकर धीरे-धीरे सरसों को बाजार में बेचने के लिए ला रहे हैं। इससे बाजार में कृत्रिम कमी पैदा हो गई। ऐसा नहीं है कि इस सरसों का उत्पादन कम हुआ है।सरसों की खेती में बंपर पैदावार होने के बावजूद बाजार में सरसों की पर्याप्त आवक का अभाव बना हुआ है। इससे व्यापारी भी किसानों को उनके अनुसार भाव दे रहे हैं। इससे किसानों को काफी फायदा हो रहा है। मीडिया में प्रकाशित समाचारों की ओर नजर डाले तो पता चलता है कि इस बार सरसों के भाव पूरे साल ऊंचे रहे हैं। 

Buy Used Tractor

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 


8 हजार रुपए प्रति क्विंटल पहुंचा भाव, अन्य तिलहनों में भी सुधार

सलोनी, कोटा और आगरा में सरसों का भाव 7,900 रुपए से बढ़ाकर 8,000 रुपए क्विंटल कर दिया है। वहीं अन्य मंडियों में भी सरसों के भावों में तेजी देखी गई है। इसी प्रकार अन्य तिलहनों में भी सुधार आया है। सूत्रों के अनुसार मांग बढऩे से बिनौला में सुधार आया वहीं स्थानीय खपत बढऩे से मूंगफली तेल तिलहन कीमतों में सुधार देखने को मिला। मांग निकलने और विदेशों में खाद्य तेल कीमतों में सुधार की वजह से सीपीओ और पामोलीन तेल कीमतें भी काफी मजबूत बंद हुईं।


प्रमुख मंडियों में सरसों के भावों में कितना उछाल

सलोनी आगरा मंडी में 100 रुपए की तेजी के साथ सरसों का भाव 8000 रुपए प्रति क्विंटल पर आ गया है। इसी प्रकार सलोनी कोटा, सलोनी अलवर और शमसाबाद में भाव भी 100 रुपए की तेजी के साथ सरसों के भाव 8 हजार रुपए प्रति क्विंटल चल रहे हैं। अलवर कंडीशन भाव 7250 से 7300 रुपए के आसपास चल रहे हैं। ग्वालियर एंड मोरेना कंडीशन भाव 7000 से 7100 रुपए के आसापास है। सरसों आगरा बीपी में 100 रुपए की तेजी के साथ सरसों के भाव 7800 रुपए हो गए हैं। आगरा शारदा में सरसों के भावों में 109 रुपए की तेजी दर्ज की गई, भाव 7800 रुपए प्रति क्विंटल हुए। इसके अलावा रूचि गुना और बारां में सरसों के भाव 7375 रुपए प्रति क्विंटल तो गंगापुर सिटी में सरसों के भाव 7100 रुपए प्रति क्विंटल चल रहे हैं। वहीं भरतपुर, कुम्हेर और नदबई में 169 रुपए की तेजी के साथ सरसों के भाव 7140 रुपए प्रति क्विंटल पर बने हुए हैं।


हाफेड को सरसों का स्टॉक करने की सलाह

मीडिया में प्रकाशित समाचारों के हवाले से बाजार के जानकारों का सुझाव है कि सहकारी संस्था हाफेड को अभी भी बाजार से सरसों की खरीद कर उसका स्टॉक बनाकर रखना चाहिए ताकि सोयाबीन के बीज की कमी जैसी दिक्कत आगे सरसों की खेती के लिए पैदा न हो। अगर बीजों का समुचित इंतजाम रहा तो किसान अगली फसल में सरसों की बुवाई बढ़ा सकते हैं और पैदावार दोगुनी हो सकती है। मौजूदा सत्र में सरसों के अच्छे दाम मिलने से किसान उत्साहित हैं। 

Tractor Junction Mobile App


सरसों व सोयाबीन सहित अन्य खाद्य तेलों की कीमतें बढ़ी

बाजार जानकारों के अनुसार विदेशी बाजारों में तेजी के रुख और त्योहारी मांग निकलने से स्थानीय तेल-तिलहन बाजार में सोमवार को सरसों, सोयाबीन, मूंगफली तेल-तिलहन और सीपीओ तेल सहित लगभग सभी खाद्य तेलों के भाव में बढ़ोतरी देखने को मिली। बाजार सूत्रों ने मीडिया को बताया कि मलेशिया एक्सचेंज में 0.2 प्रतिशत की तेजी रही जबकि शिकागो एक्सचेंज में भाव सामान्य बने रहे। विदेशी बाजारों में तेजी से स्थानीय तेल तिलहन कीमतों पर अनुकूल असर हुआ और कीमतों में सुधार हुआ है। 


सरसों के तेल में मिलावट पर रोक जारी होने से मांग में आई तेजी

सूत्रों के अनुसार सरसों में किसी अन्य तेल की मिलावट पर रोक थी, वह आगे भी जारी रहेगी। उच्च न्यायालय ने 27 जुलाई तक सुनवाई टाल दी है। इससे उपभाक्ताओं को शुद्ध तेल मिलना जारी रहेगा। इससे सरसों के तेल की मांग में भी इजाफा हुआ है। अब उपभोक्ता बिना किसी हिचकिचाहड़ के सरसों तेल की खरीदारी कर रहे हैं जिससे मांग में तेजी आई है। इधर मंडियों में सोयाबीन और सरसों की आवक कम है। लेकिन अचार बनाने वाली कंपनियों सहित प. बंगाल, उड़ीसा, बिहार, उत्तर प्रदेश जैसी जगहों पर कच्ची घानी तेल की मांग निरंतर बढ़ रही है। इसके अलावा त्यौहारों का मौसम के भी करीब होने से देशी तेलों की मांग बढ़ी है।


कितनी बढ़ी सरसों तेल की कीमत

पिछले दिनों के दौरान सरसों पक्की घानी और कच्ची घानी तेल की कीमतों में 35 रुपए की बढ़ोतरी हुई है। पक्की घानी तेल 16 जुलाई को 2,430 प्रति टिन था, वो अब बढक़र 2,465 रुपए प्रति टिन हो गया है। वहीं, सरसों कच्ची घानी- 2,530 से 2,564 रुपए प्रति टिन हुआ।


बाजार में सरसों तेल के थोक भाव (प्रति क्विंटल में) इस प्रकार से रहे

  • सरसों तिलहन- 7,545 से 7,595 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपए।
  • सरसों तेल दादरी- 15,100 रुपए प्रति क्विंटल।
  • सरसों पक्की घानी- 2,465 से 2,515 रुपए प्रति टिन।
  • सरसों कच्ची घानी- 2,565 से 2,675 रुपए प्रति टिन।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back