महिंद्रा : पिनिनफेरिना ने बनाया रोवर लुक वाला ट्रैक्टर, जाने खास विशेषताएं

महिंद्रा : पिनिनफेरिना ने बनाया रोवर लुक वाला ट्रैक्टर, जाने खास विशेषताएं

Posted On - 06 Dec 2021

जानें, इस नए ट्रैक्टर की खासियत और लाभ 

महिंद्रा ने किसानों के लिए कई प्रकार की श्रेणियों में ट्रैक्टर लांन्च किए हैं जो किसानों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो रहे हैं। ट्रैक्टर निर्माण के क्षेत्र में अग्रीय महिंद्रा एंड महिंद्रा सदा आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल कर कुछ नया डिजाइन करती रहती है। ट्रैक्टर की दुनिया में महिंद्रा का नाम प्रतिष्ठित कंपनी की लिस्ट में शुमार है। हाल ही में महिंद्रा एंड महिंद्रा की सहयोगी कंपनी पिनिनफेरिना ने एक ऐसा खास ट्रैक्टर विकसित किया है जो रोवरी की तरह दिखाता है। मीडिया रिपोट्स में बताया गया है कि महिंद्रा एंड महिंद्रा की सहयोगी कंपनी पिनिनफेरिना ने स्ट्रैडल कॉन्सेप्ट ट्रैक्टर विकसित किया है। इसका लुक ग्रह पर चलने वाले रोवर जैसा दिखाई देता है। बता दें कि अभी तक लांन्च हुए विभिन्न कंपनियों के ट्रैक्टर एक जैसे लुक में नजर आते रहे हैं। जबकि अब इस भ्रम को महिंद्रा की सहयोगी कंपनी पिनिनफेरिना तोडऩे जा रही है। आइए जानते हैं कौनसी खासियत है इस रोवर लुक ट्रैक्टर में जिसकी चर्चा इन दिनों जोरों पर है। 

रोवर लुक स्ट्रैडल कॉन्सेप्ट ट्रैक्टर की खासियतें / विशेषताएं

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रोवर लुक स्ट्रैडल कॉन्सेप्ट ट्रैक्टर की जो खासियतें बताई जा रही है वे इस प्रकार से हैं- 

  • स्ट्रैडल कॉन्सेप्ट ट्रैक्टर का डिजाइन बेहद शानदार है।
  • इसका केबिन किसी हेलिकॉप्टर की तरह डिजाइन किया हुआ दिखता है। 
  • इसकी बॉडी स्पोर्टी विमान जैसी दिखती है। 
  • इसका स्टीयरिंग सिंगल फ्रे पर बनाया गया है। 
  • इस ट्रेक्टर की सीट किसी लग्जरी कार के माफिक बहुत आरामदायक बनाई गई है। 
  • इस रोवर लुक ट्रैक्टर के चारों तरफ क्लियर ग्लास होने की वजह से बाहर का पूरा नजारा देखा जा सकता है। 
  • इसके केबिन तक चढऩे के लिए बेहद आकर्षक प्लेट्स लगाई गई हैं। 

इलेक्ट्रिक पावर से ऑपरेट होगा ये ट्रैक्टर

बता दें कि ये कॉन्सेप्ट ट्रैक्टर जिसे वाइनयार्ड के लिए तैयार किया गया है। इस पर कंपनी आगे कार्य करेगी। अभी तक इस ट्रैक्टर में इंजन और फीचर्स की जानकारी सामने नहीं आई है। हालांकि न्यू हॉलेंड ने इस संबंध में कहा है कि न्यू जनरेशन ट्रैक्टर इलेक्ट्रिक पावर से ऑपरेट होगा। इसे भारत में बनाया जाएगा या नहीं, इस संबंध में महिंद्रा कंपनी ने कोई जानकारी शेयर नहीं की है। फिर भी इस रोवर लुक ट्रैक्टर के प्रति लोगों का उत्साह अभी से ही दिखाई दे रहा है।

अंगूर की खेती के लिए लाभकारी होगा ये ट्रैक्टर

अभिनव स्ट्रैडल ट्रैक्टर को विशेष रूप से शैंपेन, मेडोक और बरगंडी जैसे प्रीमियम वाइन उगाने वाले क्षेत्रों की विशिष्ट संकीर्ण अंगूर के बागों की मांग आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिजाइन किया गया है। ये ऑपरेशन उच्च-गुणवत्ता वाले, उच्च-मूल्य वाली वाइन का उत्पादन करते हैं, जो कि डेढ़ मीटर से कम चौड़ी पंक्तियों में उगाए जाते हैं, अक्सर खड़ी ढलानों पर और छोटे दाख की बारियां पर इसे उगाया जाता है। इन स्थितियों में अंगूरों को हाथ से उठाया जाता है और बेल के रखरखाव का अधिकांश काम पंक्तियों के ऊपर से गुजरने वाले ट्रैक्टर के माध्यम से किया जाता है। ऐसे में ये कॉन्सेप्ट ट्रैक्टर अंगूर उत्पादक किसानों के लिए काफी उपयोगी और लाभकारी साबित होगा।

पिनिनफेरिना के बारे में

पिनिनफेरिना की स्थापना 1930 में बतिस्ता पिनिन फरीना ने की थी। कंपनी का मुख्यालय कैम्बियानो, ट्यूरिन का मेट्रोपॉलिटन सिटी, इटली में है। 14 दिसंबर, 2015 को महिंद्रा समूह ने 168 मिलियन यूरो के सौदे में पिनिनफेरिना एसपीए का अधिग्रहण किया था। पिनिनफेरिना बेहद आधुनिक ट्रैक्टर बनाने के अलावा शानदार कारें भी बनाती है और इसकी बतिस्ता नामक कार बहुत जल्द बाजार में आने वाली है। पिनिनफेरिना की बतिस्ता प्योर-इलेक्ट्रिक हाइपर कार का उत्पादन विकास के अंतिम चरण में है। बतिस्ता हाइपर जीटी की ग्राहक डिलीवरी अगले साल की शुरुआत में निर्धारित है।

महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी के बारें में

महिन्द्रा समूह 6.7 बिलियन अमरिकी डॉलर के सम्पत्ति आधार के साथ भारत के श्रेष्ठ दस औद्योगिक घरानों में से एक है तथा यह दुनिया की श्रेष्ठ तीन ट्रैक्टर निर्माता कंपनियों में से एक है। इन तमाम वर्षों में, महिंद्रा ग्रुप ने भारतीय अर्थव्यवस्था के सभी महत्वपूर्ण क्षेत्रों में महत्वपूर्ण उपस्थिति दर्ज की है। लगातार नये स्तर बनाते हुए, आज यह देश की एक प्रमुख कार्यक्षम कंपनी के रूप में स्थापित हो चुकी है। जानकारी के लिए बता दें कि सन 1945 में, मूलत: कंपनी की स्थापना महिन्द्रा एंड मोहम्मद के रूप में हुई थी। भारत के विभाजन के बाद, गुलाम मोहम्मद पकिस्तान चले गए और पाकिस्तान राष्ट्र के पहले वित्त मंत्री बनाए गए। इसलिए सन्- 1948 में कंपनी का नाम महिंद्रा एंड मोहम्मद से बदलकर महिंद्रा एंड महिंद्रा कर दिया गया। ग्रामीण भारत तक टेक्नोलॉजी की प्रगति को पहुंचाने का मुख्य ध्येय कायम रखते हुए कंपनी ने अपने को एक ऐसे ग्रुप के रूप में ढाला है जो कि विभिन्न व्यवसाय क्षेत्रों में अपनी उपस्थिति के साथ भारतीय और विदेशी बाजारों की मांग को पूरा करती है। ऑटोमोटिव, फार्म उपकरण, वित्तीय सेवाएं, सिस्टेक, आफ्टर मार्केट, सूचना टेक्नोलॉजी स्पेशियलिटी बिजनेस, अधोसंरचना विकास, ट्रेड, रीटेल तथा लौजिस्टिक्स क्षेत्रों में कंपनी काम कर रही है। 62 वर्षों से अधिक के निर्माण अनुभव के साथ, महिंद्रा समूह का टेक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग, मार्केटिंग तथा वितरण में मजबूत आधार है जो कि एक ग्राहक-केन्द्रित संगठन के रूप में इसके विकास के लिए महत्वपूर्ण है। इस समूह में 75,000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं तथा इनकी अत्याधुनिक सुविधाएं भारत व विदेशों में स्थित हैं।  

Subscribe to our Telegram Channel for Industry Updates- https://t.me/TJUNC
Follow us for Latest Tractor Industry Updates-
LinkedIn - https://bit.ly/TJLinkedIN
FaceBook - https://bit.ly/TJFacebok

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top