किसान क्रेडिट कार्ड योजना क्या है ? अब लोन चुकाने के लिए समय - सीमा की बाध्यता नहीं

किसान क्रेडिट कार्ड योजना क्या है ?  अब लोन चुकाने के लिए समय - सीमा की बाध्यता नहीं

Posted On - 08 Jun 2020

एक क्लिक पर घर बैठे बनेगा पीएम किसान क्रेडिट कार्ड ( kisan credit card Yojana )

ट्रैक्टर जंक्शन पर किसान भाइयों का स्वागत है। सभी जानते हैं कि कोरोना लॉकडाडन के दौरान देश की गड़बड़ाई अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए केंद्र सरकार 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की घोषणा कर चुकी है और राहत पैकेज के अनुसार सरकार पैसा खर्च कर रही है। सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड योजना से किसानों को फायदा पहुंचाने का काम शुरू कर दिया है। अब किसान को क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए बैंक के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं है। किसान अपने मोबाइल व कम्प्यूटर से घर बैठे-बैठे केसीसी बनवा सकता है। किसान क्रेडिट कार्ड के लोन की खास बात यह है कि इसे चुकाने के लिए समय की बाध्यता नहीं होती है। जब आपके पास पैसे की गुंजाइश हो तब आप इसे चुका सकते हैं। समय पर लोन चुकाने वाले किसानों को मात्र 4 प्रतिशत ब्याज का भुगतान करना होता है। तो ट्रैक्टर जंक्शन की इस पोस्ट में आपको मोबाइल व कम्प्यूटर से केसीसी बनवाने की प्रक्रिया बताई जा रही है।

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

किसान क्रेडिट कार्ड योजना 2020 : कम ब्याज और बिना सिक्योरिटी के मिलता है लोन

केंद्र सरकार ने जून 2019 में प्रधानमंत्री किसान क्रेडिट कार्ड योजना लांच की थी। सरकार ने 100 दिनों के भीतर 1 करोड़ किसानों को इस योजना का लाभ पहुंचाने का लक्ष्य रखा था। अब सरकार देश के हर किसान को केसीसी देना चाहती है ताकि उसे कृषि संबंधी छोटी-मोटी जरूरतों के लिए किसी साहूकार के आगे हाथ नहीं फैलाना पड्े। किसान क्रेडिट कार्ड के जरिए किसानों को बेहद कम ब्याज पर बैंक से लोन उपलब्ध कराए जाते हैं। कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने इस योजना की शुरुआत की है। इस योजना में किसानों को लोन चुकाने के लिए समय सीमा इन सब की अधिक बाध्यता नहीं होती है।

 

 

सहकारी किसान कार्ड

पहले किसानों को प्राइवेट सेक्टर से लोन दिए जाते थे जिस पर उन्हें भारी भरकम ब्याज भरना पड़ता था जिसके कारण वे कर्ज के बोझ तले दब जाते थे। इसी समस्या को खत्म करने के लिए सरकार ने किसान क्रेडिडट कार्ड योजना (केसीसी) की शुरुआत की। किसान क्रेडिट कार्ड योजना में कमर्शियल बैंक, को-ऑपरेटिव बैंक और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के जरिए भी किसानों को लोन दिए जाते हैं। इसे प्रधानमंत्री किसान क्रेडिट कार्ड योजना भी कहा जाता है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2020-21 के मद्देनजर इस योजना के लिए 15 लाख करोड़ के आवंटन की घोषणा की है।

 

किसान क्रेडिट कार्ड योजना 2020 की खास बातें / प्रधानमंत्री किसान क्रेडिट कार्ड योजना 2020 के फायदे

•    लोन लेने में कोई जटिल प्रक्रिया नहीं है। योजना के तहत किसानों को आसान प्रक्रिया का पालन कर लोन मिल जाता है।
•    किसानों की आय के अनुसार उन्हें ज्यादा से ज्यादा लिमिट तक लोन दिया जाता है।
•    अन्य लोन के ब्याज की तुलना में किसान क्रेडिट कार्ड के लोन पर बेहद कम ब्याज लगता है।
•    हर तरह की कृषि की जरूरतों के लिए एक ही लोन की सुविधा।
•    फसल बीमा की भी सुविधा इस योजना के तहत दी जाती है।
•    लोन चुकाने के लिए समय-सीमा की कोई बाध्यता नहीं है। जब किसानों की फसल तैयार हो जाएं तब ही जाकर वे अपना लोन चुका सकते हैं। पहले लोन चुकाने की कोई बाध्यता नहीं है।

 

किसान क्रेडिट कार्ड ( Kisan credit card ) योजना में लोन की सीमा

किसान क्रेडिट कार्ड योजना में जहां किसान बिना गारंटी के 1 लाख 60 हजार रुपए तक का ऋण ले सकते हैं। वहीं कोरोना लॉकडाउन के समय किसान 3 वर्षों में केसीसी के तहत 5 लाख रुपए तक का कृषि ऋण ले सकते हैं, जिसमें न्यूनतम ब्याज दर 4 प्रतिशत प्रति वर्ष है। इसके अलावा, 7 करोड़ किसानों को बड़ी राहत देते हुए केसीसी कृषि लोन के पुनर्भुगतान की तिथि बढ़ाकर 31 अगस्त कर दी गई है।

 

किसान क्रेडिट कार्ड 2020 की पात्रता

•    खेती-किसानी से जुड़ा कोई भी शख्स चाहे वह अपने खेत में खेती करता हो यो किसी और की जमीन पर किसानी करता हो, किसान क्रेडिट कार्ड बनवा सकता है।
•    केसीसी के लिए आवेदन करने वाले व्यक्ति की लोन की अवधि समाप्त होने तक न्यूनतम उम्र 18 साल और अधिकतम 75 साल होना चाहिए। 
•    60 साल से ज्यादा उम्र के आवेदक के लिए एक सह-आवेदक होना जरूरी है।
•    यह आवेदक का नजदीकी रिश्तेदार हो सकता है। सह-आवेदक की उम्र 60 साल से कम होना जरूरी है।
•    कोई एक किसान या फिर दो किसान मिलकर भी इस योजना का लाभ ले सकते हैं जो मिलकर कृषि करते हैं।
•    स्वयं सहायता समूह जिसमें किसान, बंधुआ किसान हों वे भी इस योजना का लाभ ले सकते हैं।
•    इसके अलावा मत्स्य पालन करने वाले और एनीमल हसबैंडरी सेक्टर के लोग भी इस योजना का लाभ ले सकते हैं। अगर आप मछली पालन कर रहे हैं, बकरी, भेड़ या फिर मुर्गी पालन कर रहे हैं तो भी आप किसान क्रेडिट योजना का लाभ ले सकते हैं।

 

यह भी पढ़ें : सखी योजना क्या है : गांवों की 58 हजार महिलाओं को मिलेगी नियुक्ति

 

मोबाइल से किसान क्रेडिट  कार्ड के आवेदन की प्रक्रिया

 

 

•    किसान क्रेडिट कार्ड और इसके माध्यम से लोन प्राप्त करने के लिए, किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
•    यहां क्लिक करें https://eseva.csccloud.in/KCC/Default.aspx
•    इस लिंक पर क्लिक करने के बाद, आप कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट पर जा सकते हैं। इसके बाद, आपको 'न्यू अप्लाई न्यू केसीसी ’पर क्लिक करना होगा। उसके बाद, आपको प्रत्येक विवरण भरना होगा। मोबाइल से केसीसी के लिए आवेदन करने का यह सबसे आसान तरीका है।
•    उपरोक्त प्रक्रिया को पूरा करने के लिए, आपको अपना आधार नंबर भरना होगा, लेकिन इस दौरान आपको यह ध्यान रखना होगा कि किसान का केवल आधार नंबर, जिसका नाम किसान सम्मान निधि योजना से जुड़ा हो, मान्य है। 
•    सही आधार नंबर दर्ज करने के बाद, पीएम किसान वित्तीय विवरण फॉर्म खुल जाएगा। इसके बाद, आपको 'ताजा केसीसी जारी करना' पर क्लिक करना होगा।
•    अब, आपको ऋण राशि और लाभार्थी का मोबाइल नंबर भरना होगा। इसके साथ ही आपको अपने गांव का नाम और खसरा नंबर भरना होगा। पूरी जानकारी देने के बाद, आपको 'विवरण सबमिट करें' पर क्लिक करना होगा।
•    सबमिट करने पर एक नया पेज खुलेगा, जिसमें आपको भुगतान करना होगा। इसे सीएससी आईडी के बैलेंस से जमा करना होगा।
•    ऐसा करने के बाद, आपका किसान क्रेडिट कार्ड तैयार हो जाएगा।
•    इसके अलावा केसीसी के लिए कई बैंक ऑनलाइन आवेदन की सुविधा देते हैं। उनके ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन फॉर्म प्राप्त किया जा सकता है।

 

केसीसी आवेदन के जरूरी दस्तावेज

केसीसी के लिए आवेदक से अलग-अलग बैंक अलग-अलग डॉक्युमेंट्स मांगते हैं, लेकिन कुठ बेसिक डॉक्युमेंट्स आवेदक के पास होने ही चाहिए। इनमें आईडी प्रूफ और एड्रेस प्रूफ के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस होने चाहिए। इसके अलावा आवेदक का एक पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ भी आवदेन के लिए जरूरी है।

 

 

किसान क्रेडिट कार्ड योजना में ब्याज दर

कोरोना वायरस लॉकडाउन में किसानों को राहत देने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड के लोन पर सिर्फ 4 फीसदी प्रति वर्ष की दर से ब्याज वसूला जाएगा। इसके लिए अंतिम तिथि 31 अगस्त 2020 निर्धारित है। आपको बता दें कि खेती-किसानी के लिए केसीसी पर लिए गए तीन लाख रुपए तक के लोन की ब्याजदर वैसे तो 9 फीसदी है। लेकिन सरकार इसमें 2 परसेंट की सब्सिडी देती है। इस तरह यह 7 फीसदी पड़ता हैञ लेकिन समय पर लौटा देने पर 3 फीसदी और छूट मिल जाती है। इस तरह इसकी दर ईमानदार किसानों के लिए मात्र 4 फीसदी रह जाती है। आमतौर पर बैंक किसानों को सूचित कर 31 मार्च तक कर्ज चुकाने के लिए कहते हैं। अगर उस समय तक कर्ज का बैंक को भुगतान नहीं करते हैं तो उन्हें 7 फीसदी ब्याज देना होता है।

 

सभी कंपनियों के ट्रैक्टरों के मॉडल, पुराने ट्रैक्टरों की री-सेल, ट्रैक्टर खरीदने के लिए लोन, कृषि के आधुनिक उपकरण एवं सरकारी योजनाओं के नवीनतम अपडेट के लिए ट्रैक्टर जंक्शन वेबसाइट से जुड़े और जागरूक किसान बने रहें।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back