एमएसपी पर खरीद : मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली बेचने के लिए किसान पंजीयन

एमएसपी पर खरीद : मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली बेचने के लिए किसान पंजीयन

Posted On - 08 Oct 2021

जानें, राज्य के किसान कैसे कराएं पंजीयन और क्या देने होंगे दस्तावेज

देश भर में न्यूनतम समर्थन मूल्य यानि एमएसपी पर सरकार की ओर से किसानों से खरीफ फसलों की खरीद की जा रही है। इसको लेकर सभी राज्य में खरीद केंद्र बनाएं गए हैं। यहां किसान अपनी फसल बेच सकते हैं। इसी क्रम में राजस्थान सरकार ने राज्य के किसानों से खरीफ फसल खरीदी की समय सारणी जारी कर दी है। इसके अनुसार राजस्थान में राज्य के किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर अपनी उपज बेचने के लिए 20 अक्टूबर से पंजीकरण करा सकेंगे। बता दें कि  राज्य में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी केवल पंजीकृत किसानों से ही की जाएगी। 

Buy Used Tractor

राज्य के किसानों को कहां कराना होगा अपना पंजीयन

राजस्थान में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ( Buy at Minimum Support Price ) मूंग, उड़द, सोयाबीन तथा मूंगफली को बेचने के लिए पंजीयन कराना जरूरी होगा। बिना पंजीयन के राज्य सरकार किसानों से फसल नहीं खरीदेगी। इसलिए किसान भाई अपना पंजीयन जरूर कराएं। प्रदेश में समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली की खरीद के लिए ऑनलाइन पंजीकरण बुधवार 20 अक्टूबर से शुरू किए जा रहे हैं। किसान ई-मित्र से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। पंजीयन ई-मित्र से सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक किया जा सकेंगे।

868 से अधिक केंद्रों पर होगी मूंग, उड़द और सोयाबीन की खरीद

राजस्थान सरकार की ओर से किसानों से मूंग, उड़द और सोयाबीन की एमएसपी पर खरीद के लिए 868 से अधिक खरीद केंद्र बनाएं गए हैं। बता दें कि राजस्थान में मूंग, उड़द एवं सोयाबीन की खरीद 1 नवंबर से तथा मूंगफली की खरीद 18 नवंबर से शुरू की जाएगी। राजस्थान सरकार ने राज्य के किसानों की सुविधा लिए अलग-अलग फसलों के लिए अलग-अलग खरीदी केंद्र बनाए हैं। इन खरीद केंद्रों को बनाने में इस बात का विशेष ध्यान रखा गया है कि ये खरीद केंद्र जिलों में फसल उत्पादन के अनुसार बनाएं जाएं। राज्य सरकार की ओर से मूंग के लिए 357, उड़द के लिए 168, मूंगफली के 257 एवं सोयबीन के लिए 86 खरीद केंद्र बनाए गए हैं। 

खरीद केंद्रों पर रहेगी ये व्यवस्था

किसानों को अपनी उपज बेचने में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए खरीद केन्द्रों पर आवश्ययकतानुसार तौल-कांटें लगाए जाएंगे एवं पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाएगा। इसके अलावा खरीद केंद्रों पर समुचित छाया, पानी आदि की उचित व्यवस्था की जाएगी।

किसानों से एमएसपी पर कितनी उपज खरीदेगी सरकार

राजस्थान सरकार की ओर से वर्ष 2021 में किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, सोयाबीन की उपज की खरीद की जानी है। इसके लिए सरकार ने लक्ष्य जारी कर दिया है। इसके तहत मूंग की 3.61 लाख मीट्रिक टन, उड़द की 61807 मीट्रिक टन, सोयाबीन 2.93 लाख तथा मूंगफली 4.27 लाख मीट्रिक टन की खरीद के लक्ष्य की स्वीकृति भारत सरकार ने दी है।

Buy New Tractor

राज्य के किसान कैसे कराएं फसल बेचने के लिए पंजीयन

  • किसानों को उपज बेचने के लिए ई-मित्र से पंजीयन करना जरूरी होगा। 
  • ई-मित्र से पंजीयन कराने के लिए विभिन्न प्रकार का दस्तावेज जैसे जनाधार कार्ड नंबर, खसरा, गिरदावरी की प्रति एवं बैंक पासबुक की प्रति पंजीयन फार्म के साथ अपलोड करनी होगी। 
  • जिस किसान द्वारा बिना गिरदावरी के अपना पंजीयन करवाया जाएगा, उसका पंजीयन समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए मान्य नहीं होगा।
  • एक जनाधार कार्ड से एक ही पंजीयन किया जा सकता है। 
  • इसके साथ ही जिस तहसील में कृषि भूमि है उसी तहसील में पंजीयन करना आवश्यक होगा।

क्या है मूंग, उड़द, सोयाबीन और मूंगफली का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2021

केंद्र सरकार की ओर से हर साल 23, रबी एवं खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किए जाते हैं। यह मूल्य देश भर में एक समान रूप से लागू होते हैं। वर्ष 2021-22 के लिए जो एमएसपी सरकार की ओर से तय किया गया है वे इस प्रकार से है- 

  • मूंग का न्यूनतम समर्थन मूल्य-7275 रुपए प्रति क्विंटल
  • उड़द का न्यूनतम समर्थन मूल्य- 6300 रुपए प्रति क्विंटल 
  • मूंगफली का न्यूनतम समर्थन मूल्य -5550 रुपए प्रति क्विंटल 
  • सोयाबीन का न्यूनतम समर्थन मूल्य- 3950 रुपए प्रति क्विंटल 

फसल बेचने में आ रही है परेशानी तो कहां करें संपर्क

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसल बेचने संबंधी आ रही किसी भी समस्या के समाधान हेतु एक टोल फ्री नंबर भी 20 अक्टूबर से कार्य करना शुरू कर देगा। यह राजफैड का ट्रोल फ्री हेल्पलाइन नंबर- 1800-180-6001 है। किसान भाई इस नंबर पर सुबह 9 से शाम 7 बजे तक अपनी समस्याओं को दर्ज करा सकते हैं। इसके अलावा किसान भाई अपनी शिकायत/समस्या को लिखित में राजफैड मुख्यालय में स्थापित काल सेंटर पर [email protected] पर मेल भी भेज सकते हैं।  

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top