सरसों में दाना झडऩे की संभावना, गेहूं में अभी नहीं करें सिंचाई, दलहनी फसलों की देखभाल भी जरूरी

सरसों में दाना झडऩे की संभावना, गेहूं में अभी नहीं करें सिंचाई, दलहनी फसलों की देखभाल भी जरूरी

Posted On - 22 Feb 2021

जानें, इस मौसम में रबी फसल में किन-किन बातों रखना है ध्यान?

इस समय पश्चिमी विक्षोभ के कारण मौसम में परिवर्तन दिखाई दे रहा है। एक ओर शीतलहर का दौर कम हुआ है वहीं तापमान में बढ़ोतरी हो रही है। आने वाले समय में कई जगहों पर हल्की से लेकर मध्यम बारिश की संभावना भी जताई जा रही है। वहीं पिछले दिनों महाराष्ट्र में ओलावृष्टि से फसल को नुकसान हुआ है। कर्नाटक में कोडगू में ओले गिरने से भी नुकसान की सूचना मिली है। इस समय चल रही ताजा परिस्थितियों को देखते हुए कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों के लिए रबी फसल के संदर्भ में जरूरी सलाह दी है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

सरसों की फसल के लिए सलाह

  • सरसों की खेती कर रहे किसानों के लिए सलाह जिन किसानों की तोरिया या सरसों की फसल पूरी तरह पक गई है व अतिशीघ्र कटाई करें। 75-80 प्रतिशत फलिओं का भूरा होना ही परिपक्वता का संकेत है। अधिक पकने पर दाने झडऩे की संभावना होती है।
  • फसल में माहू (एफिड) कीट की शिशु और वयस्क दोनों ही हानिकारक अवस्थाएं है। किसान सरसों की फसल में चेपा की निगरानी करें। इस कीट की अधिक प्रकोप होने पर नियंत्रण के लिए इमिडाक्लोप्रिड 17.8 एस.एल. 250 मि.ली. प्रति हेक्टेयर की दर से घोल बनाकर 10-15 दिन के अंतराल पर आवश्यकतानुसार दो से तीन बार छिडक़ाव करें। 
  • सरसों फसल में निचली पत्तियों पर रोग के लक्षण दिखाई देने पर मेटालेकिसल एक ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से छिडक़ाव करें। रोग की तीव्रता के अनुसार 10-12 दिन बाद एक छिडक़ाव और किया जा सकता है। 

 

 

गेहूं की फसल के लिए सलाह

  • अभी जिन स्थानों पर आने वाले दिनों में बारिश की संभावना है वहां के किसान अभी गेहूं की फसल में सिंचाई न करें, अभी हल्की बारिश गेहूं की फसल के लिए लाभदायक है।
  • जिन स्थानों पर बारिश नहीं होती है वहां किसान मिट्टी में उपस्थित नमी एवं दाना भरते समय आवश्यकता अनुसार सिंचाई करें।
  • गेहूं की फसल में रोगों, विशेषकर रतुआ की निगरानी करते रहें। काला, भूरा अथवा पीला रतुआ आने पर फसल में डाइथेन एम-45 (2.5 ग्राम/लीटर पानी) का छिडक़ाव करें। 
  • जिन किसानों के गेहूं की फसल अभी दुधिया अवस्था वहां यदि दीमक की संभावना हे तो गेहूं की फसल को दीमक से बचाने के लिए किसान 2.5 लीटर क्लोरोपाइरीफास दवा प्रति हेक्टेयर सिंचाई जल के साथ दे सकते हैं। 
  • गेहूं में फाल आर्मी वर्म कीट की इल्लियों का प्रकोप होने पर इमामेक्टिन बेंजोएट 5 स्त्र 50 ग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से छिडकाव करें 7 गेहूं की इल्ली या माहू का प्रकोप होने पर इमिडाक्लोप्रीड 100 मिली/एकड़ पानी में घोलकर छिडक़ाव करें। 

 

चना की फसल के लिए सलाह

  • रबी फसल के अंतर्गत आने वाले चना की फसल एवं अन्य दलहन फसलों में कीड़े-मकौड़े इत्यादि लगने की संभावना है। इसको देखते हुए मौसम साफ होते ही अनुशंसित कीटनाशकों का उपयोग करें। 
  • चने में इल्लियों के नियंत्रण हेतु प्रोफेनोफास एवं साइपरमेथ्रिन मिश्रित कीटनाशक 400 मि.ली. प्रति एकड़ की दर से 200 लीटर पानी में घोल कर छिडक़ाव करें। 
  • फलीभेदक कीट लगने की स्थिति में इसकी रोकथाम के लिए इंडोक्साकार्बा 14.5 एससी 12-15 मिलीलीटर/पंप की दर से स्प्रे करें। 

 

दलहनी फसलों के लिए सलाह

  •  दलहनी फसलों में पीला मोजेक रोग दिखाई देने पर रोगग्रस्त पौधों को उखाड़ कर नष्ट कर दें तथा मेटासिस्टाक्स या रोगोर कीटनाशक दवा एक मि.ली. या एक लीटर पानी में घोल बनाकर छिडक़ाव करें। 
  •  दलहनी फसलों में उकठा (विल्ट) रोग दिखाई देने पर सिंचाई न करें अथवा स्प्रिंकलर द्वारा सिंचाई करें। 

 

सूरजमुखी एवं तिलहनी फसलों के लिए सलाह

  • फसल में पहली सिंचाई फसल बोने के 35-40 दिन बाद देना चाहिए एवं पहली सिंचाई के समय नत्रजन की शेष मात्रा डालनी चाहिए। 
  • पत्तियों पर भूरा धब्बा रोग दिखने पर ताम्रयुक्त फफूंदनाशी 3 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से छिडक़ाव करें। 
  • रबी तिलहनी फसलों में कीड़े-मकौड़े की वर्तमान मौसम को देखते हुए अधिक प्रकोप होने की संभावना को देखेते हुए अनुशंसित कीटनाशकों का उपयोग करें। साफ मौसम में निंदाई कर भी सकते है।   

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back