कोरोना महामारी के दौरान कृषि विशेषज्ञों की किसानों को सलाह

कोरोना महामारी के दौरान कृषि विशेषज्ञों की किसानों को सलाह

Posted On - 26 May 2021

कृषि सलाह :  गाइडलाइन की पालना करते हुए कृषि कार्य करें किसान, इन बातों का रखें ध्यान और ये बरते सावधानियां

देश में कोरोना महामारी का प्रकोप जारी है। इस बार शहर की अपेक्षा गांवों में अधिक संक्रमण फैल रहा है। पहले कोरोना शहर के लोगों को ही प्रभावित कर रहा था लेकिन अब ये बीमारी गांव में तेजी से फैल रही है। वहीं गांवों में शहर जैसी सुविधाएं नहीं होने के कारण कोरोना संक्रमण का इलाज लेने में भी ग्रामीणों को परेशानी हो रही है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए आज हम किसान भाइयों को कृषि विशेषज्ञों द्वारा दी गई सलाह को साझा कर रहे है ताकि आप इस संक्रमण काल मेें अपने को सुरक्षित रखते हुए कृषि कार्य को आसानी से कर सकें। अब चूंकी खरीफ की फसल का समय निकट आ गया है और किसान अपने खेत की तैयारी करने का काम शुरू करेंगे। इस दौरान कोरोना का जोखिम भी बना रहेगा। इसे देखते हुए किसानों को चाहिए कि कृषि वैज्ञानिकों की सलाह के अनुरूप खेती किसानी के काम को पूरा करें ताकि खुद को सुरक्षित रखते हुए खेती के काम को पूरा किया जा सके। हाल ही में इसे लेकर कृषि विज्ञान केंद्र कोटा ने किसानों के लिए एडवाइजरी जारी की है। इसके अनुसार किसानों को सलाह दी गई है कि वे वैश्विक महामारी के दौरान गाइडलाइन की पालना करते हुए कृषि कार्य करें। लेकिन कुछ अहम बातों का गंभीरता से पालन करें। कृषि विज्ञान केंद्र कोटा के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉ. महेन्द्र सिंह ने कृषकों को सलाह दी कि वे खेत में इस्तेमाल किए गए कपड़े धो लें और धूप में सूखने दें। उन्हें दोबारा 48 घंटों के बाद ही इस्तेमाल करें। दूसरे दिन वही कपड़े नहीं पहनें।

Buy Used Tractor

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 


यह जारी की गई है एडवाइजरी

कृषि विज्ञान केंद्र कोटा ने किसानों के लिए एडवाइजरी जारी की है। इसके अनुसार किसानों को इन बातों का ध्यान रखना चाहिए। इससे काफी हद तक कोरोना संक्रमण से बचा जा सकता है। इसमें जो एतियात बताई गईं हैं वे इस प्रकार से हैं-

  • खेती कार्य में स्वयं के औजारों का उपयोग करें।
  • एक-दूसरे के साथ मिलकर धूम्रपान नहीं करें।
  • पीने के लिए पानी व गिलास स्वयं का साथ ले जाएं।
  • खेतों में पर्याप्त मात्रा में साबुन, डिटर्जेंट और पानी रखें।
  • दोपहर का आराम किसी कमरे, झोपड़ी, पेड़ के नीचे या खेतों में एक-दूसरे के नजदीक नहीं करें।
  • हमेशा एक-दूसरे से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाये रखें।
  • यदि किसी को खांसी, सिरदर्द, बदन दर्द, सर्दी और बुखार के लक्षण हों तो तुरंत नजदीकी अस्पताल में संपर्क करें।
  • मुंह पर हमेशा मास्क लगाकर रखें।


पशुओं का रखें इस तरह से ध्यान

  • पशुओं में खुरपका, मुंहपका, गलघोटू एवं ब्लेक क्वार्टर रोग से बचाव के लिए टीका लगवाएं।
  • पशुओं को पिलाने के लिये पीने का ताजा-ठंडा पानी हमेशा उपलब्ध रखें।
  • पशुओं का दिन में चार बार पानी पिलाएं।
  • पशुओं को चारा सुबह-शाम ठंडे मौसम में खिलायें और पशु आहार में खनिज लवण तथा नमक की आपूर्ति करें।


मृदा परीक्षण के लिए नमूने प्रयोगशाला में भिजवाएं

केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉ. महेन्द्र सिंह ने इसके साथ ही किसानों का यह सलाह भी दी है कि वे मृदा परीक्षण के लिए मिट्टी के नमूने लेकर अपने क्षेत्र के कृषि पर्यवेक्षक के माध्यम से प्रयोगशाला में भिजवाएं ताकि मृदा में पोषक तत्वों की कमी का पता लगाकर उसकी पूर्ति के उपाय किए जा सकें।

Buy New Tractor


देश में अब तक कोरोना संक्रमण की स्थिति

देश में पिछले 24 घंटे के अंदर कोरोना वायरस के 1 लाख 95 हजार 485 नए मामले आए हैं। कोविड-19 इंडिया. ओगेनाइजेशन के आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटे में कोरोना की वजह से 3 हजार 496 लोगों ने जान गंवा दी। फिलहाल देश में कोरोना के 25 लाख 81 हजार 741 ऐक्टिव केस हैं। बीते 24 घंटे में कोरोना से 3 लाख 26 हजार 671 लोग ठीक हुए हैं। इसके साथ ही अब देश में कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या बढक़र 2 करोड़ 69 लाख 47 हजार पार हो गई है तो वहीं 3 लाख 7 हजार 249 लोगों ने कोरोना की वजह से अब तक दम तोड़ा है। वहीं 2 करोड़ 40 लाख 47 हजार 760 कोरोना मरीज अब तक ठीक हो चुके हैं। हालांकि भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर मंद पड़ती नजर आ रही है फिर भी एतियात बरतना जरूरी है। 


कोरोना वायरस को फैलने से ऐसे रोकें

  • हाथों को अच्छी तरह से धोएं और हाथों की सफाई का पूरा ध्यान रखें।
  • खांसी या छींकते समय अपने मुंह और नाक को अच्छी तरह से ढककर रखें।
  • अपने हाथ और उंगलियों से आंख, नाक और मुंह को बार-बार न छूएं।
  • सार्वजनिक स्थानों, सार्वजनिक यातायात के साधनों में कुछ भी छूने या किसी से हाथ मिलाने से बचें।
  • रेस्पिरेटरी यानी सांस से जुड़ी बीमारी के लक्षण किसी में दिखें तो उससे दूर ही रहें।
  • जिन जगहों पर इस बीमारी का प्रकोप फैला है, वहां यात्रा करने से बचें।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top