राजस्थान के किसान ने खजूर की खेती से कमाए करोड़ों रुपए

प्रकाशित - 16 Sep 2022

राजस्थान के किसान ने खजूर की खेती से कमाए करोड़ों रुपए

जानें, किसान केहराराम चौधरी की सफलता की कहानी

खेती-किसानी में जोखिम की संभावना को देखते हुए अब किसान कम जोखिम वाली फसलों की खेती करने में अधिक रूचि ले रहे हैं। अधिकांश किसान चाहते हैं कि उन्हें कम लागत में अधिक मुनाफा हो। ऐसी ही सोच के साथ राजस्थान के किसान केहराराम चौधरी ने खजूर की खेती में हाथ आजमाया और किस्मत ने भी उनका साथ दिया। उन्होंने सात हैक्टेयर में खजूर की खेती से करोड़ों की कमाई कर ये साबित कर दिया कि खेती किसानी घाटे का सौदा नहीं है। यदि सही तरीके से खेती के व्यवसाय को अपनाया जाए तो इससे करोड़ों की कमाई की जा सकती है। 

Buy Used Tractor

7 एकड़ में कर रहे हैं खजूर की आर्गेनिक खेती

राजस्थान के जालौर जिले के दाता गांव के रहने वाले किसान केहराराम चौधरी एक सफल और समृद्ध किसान हैं। इनके पास कुल 7 हैक्टेयर भूमि है। इसमें उन्होंने इजरायली तकनीक से खजूर की ऑर्गेनिक खेती की है। उत्पादन की लागत को कम करने और लाभ की मात्रा को बढ़ाने के लिए उन्होंने ऑर्गेनिक तकनीक को अपनाया है और इसके अच्छे परिणाम उन्हें मिल रहे हैं। इस तकनीक से वे आम किसान की तुलना में अधिक लाभ कमा रहे हैं। बता दें कि आर्गेनिक खेती की तकनीक से उत्पादित सब्जी और फल की बाजार में अच्छी कीमत मिलती है। इसमें फसल लागत कम लगती है और बढिय़ा मुनाफा मिलता है। 

क्या होती है ऑर्गेनिक खेती (Organic Farming)

केहराराम चौधरी इजराइली तकनीक से खजूर की ऑर्गेनिक खेती कर रहे हैं। ऑर्गेनिक खेती में किसी भी रासायनिक खाद एवं उर्वरकों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इसमें वे गोबर की खाद और केंचुआ खाद का ही उपयोग करते हैं। बता दें कि ऑर्गेनिक खेती के लिए सरकार की ओर से भी बढ़ावा दिया जा रहा है। इस प्रकार की खेती में प्राकृतिक रूप से तैयार खाद का उपयोग किया जाता है। इसमें रासायनिक खाद का बिलकुल उपयोग नहीं किया जाता है। यहां यह बताना जरूरी है कि रासायनिक खाद मिट्टी और फसल दोनों के लिए हानिकारक साबित होती हैं। वहीं बीमारियों का कारण भी बनती हैं। वहीं जैविक खेती यानि आर्गेनिक खेती भूमि और हमारे शरीर के लिए सुरक्षित है। 

Buy New Holland 3037 TX

केहराराम ने इस तरह की खजूर की खेती की शुरुआत

केहराराम ने दस साल पहले अनार की खेती शुरू की। वे अपने पहले प्रयास में अनार की खेती में सफल रहे और अच्छा उत्पादन प्राप्त किया। इन्हें देखकर अन्य किसानों ने भी अनार की खेती शुरू की और आज स्थिति ये हैं कि दाता गांव के साथ ही जिले के सैकड़ों किसान अनार की खेती करके लाखों रुपए की कमाई कर रहे हैं। यहां से बड़ी मात्रा में अनार अन्य जगहों पर भेजा जा रहा है। 

अनार के बाद खजूर की खेती में आजमाया हाथ

अनार की सफलतापूर्वक खेती के बाद केहराराम चौधरी ने खजूर की खेती (Date Palm Cultivation) में हाथ आजमाया और इसमें भी उन्हें सफलता मिली। आज केहराराम चौधरी के साथ ही जालौर के दाता गांव के किसान खजूर की खेती से मोटी कमाई कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार केहराराम चौधरी के साथ-साथ जालौर के दाता गांव के किसानों ने 5 साल पहले 3500 रुपए की कीमत पर उद्यान विभाग से खजूर के 2 अलग-अलग किस्म के 600 पौधों से खजूर की खेती की शुरुआत की थी। अब ये खजूर के पौधे परिपक्व हो गए हैं किसानों को अच्छा खासा पैसा कमा कर दे रहे हैं।

Buy Used Tractor

इन जिलों में की जा रही है खजूर की खेती

राजस्थान के जालौर समेत 12 जिलों में जैसे  बाड़मेर, चूरू, जैसलमेर, सिरोही, श्रीगंगानगर, जोधपुर, हनुमानगढ़, नागौर, पाली, बीकानेर व झुंझुनूं में खजूर की खेती की जा रही है। यहां किसान मेडजूल और बरही किस्म की खजूर की खेती कर रहे हैं। 

खजूर की खेती के लिए सरकार से कितनी मिलती है सब्सिडी

खजूर के मूल उत्पादक खाड़ी देशों जैसी जलवायु को देखते हुए ही राज्य सरकार यहां खजूर की खेती को बढ़ावा दे रही है। इसके लिए किसानों को आयातित और टिश्यू कल्चर से तैयार पौध उपलब्ध कराने के साथ तकनीकी सहयोग भी दिया जा रहा है। खजूर की खेती के लिए सरकार की ओर से किसानों को 75 प्रतिशत अनुदान दिया जाता है। इसके तहत किसानों को टिश्यू कल्चर तकनीक से उत्पादित खजूर के पौधे उपलब्ध कराए जाते हैं। 

Buy Truck

खजूर की मेडजूल और बरही किस्म को लगाने का तरीका

खजूर की मेडजूल और बरही किस्म के पौध को जुलाई से सितंबर के बीच किसी भी किस्म की मिट्टी में लगा सकते हैं। इस किस्म को लगाते समय बात का ध्यान रखें कि इसके एक पौधे से दूसरे पौधे और एक कतार से दूसरी कतार के बीच 8 मीटर की दूरी होनी चाहिए। इस तरह आप एक हेक्टेयर में खजूर के 156 पौधे ही लगा सकते हैं। 

खजूर से सेहत को मिलने वाले लाभ

खजूर की खेती जितनी लाभकारी है उतना ही मानव शरीर के लिए लाभकारी है। खजूर के सेवन से जो लाभ प्राप्त होते हैं, वे इस प्रकार से हैं- 

  • खजूर दूध के साथ खाने से मोटापा बढ़ता है और पानी के साथ लें, तो चर्बी घटाता है।
  • खजूर के सेवन से पेट की खराबी, कब्ज की शिकायत दूर होती है और लीवर, इम्यून सिस्टम होता है मजबूत।
  • खजूर उदर रोगों में लाभकारी होता है। नियमित खजूर खाने वाले से पेट संबंधी   
  • खजूर के पेड़ जिस जगह ज्यादा लगे होतें है, वहां आंखों में रतौंधी रोग नहीं होता। खजूर आंखों की रोशनी बढ़ाने में सहायक है। 
  • खजूर एक एंटी-एजिंग एजेंट के रूप में कार्य करता है। यह बुढापा रोकने में मददगार है।
  • खजूर खाने से कैलोरी और मिठास शरीर को एनर्जी देती है।
  • जिन लोगों को हमेशा कब्ज की शिकायत रहती है, उनके लिए खजूर का सेजवन काफी लाभकारी साबित को सकता है। 
  • खजूर हड्डियों को ताकत देता है।
  • खजूर वात रोग तथा ग्रंथिशोथ यानी थायराइड दूर करता है। 


ट्रैक्टर जंक्शन हमेशा आपको अपडेट रखता है। इसके लिए ट्रैक्टरों के नये मॉडलों और उनके कृषि उपयोग के बारे में एग्रीकल्चर खबरें प्रकाशित की जाती हैं। प्रमुख ट्रैक्टर कंपनियों जॉन डियर ट्रैक्टरहिंदुस्तान ट्रैक्टर आदि की मासिक सेल्स रिपोर्ट भी हम प्रकाशित करते हैं जिसमें ट्रैक्टरों की थोक व खुदरा बिक्री की विस्तृत जानकारी दी जाती है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

अगर आप नए ट्रैक्टरपुराने ट्रैक्टरकृषि उपकरण बेचने या खरीदने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार और विक्रेता आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु को ट्रैक्टर जंक्शन के साथ शेयर करें।

हमसे शीघ्र जुड़ें

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back