मौसम अलर्ट : मानसून की विदाई से पहले इन राज्यों में हो सकती है बारिश

मौसम अलर्ट : मानसून की विदाई से पहले इन राज्यों में हो सकती है बारिश

Posted On - 06 Oct 2021

जानें, मौसम विभाग का पुर्वानुमान और मानसून की विदाई की तारीख

मानसून विदाई की ओर अग्रसर हो रहा है। मौसम विभाग का अनुमान है कि अक्टूबर के पहले सप्ताह में ही मानसून राजस्थान से विदा हो जाएगा। वहीं जाते-जाते मानसून कुछ राज्यों हल्की बारिश कर सकता है। वहीं यूपी में मानसून अगले सप्ताह में विदा होगा। फिलहाल यूपी में अभी बारिश का दौर जारी है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार बुधवार यानी 6 अक्टूबर से उत्तर पश्चित भारत के कुछ हिस्सों से दक्षिण-पश्चिम मानसून की वापसी की शुरुआत हो जाएगी। यूपी में मानसूनी बारिश का सिलसिला अभी एक सप्ताह और चलेगा। 14 अक्टूबर तक उत्तर प्रदेश से इसकी विदाई हो जाएगी। हालांकि, मानसून की विदाई की शुरुआत छह अक्टूबर से राजस्थान से होगी। इसके यूपी से विदा होने में एक सप्ताह का समय लगेगा। 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रैक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 

अगले 24 घंटों के दौरान कहां-कहां हो सकती है बारिश

निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट के अनुसार इस समय उत्तर-पश्चिम भारत से मानसून की जल्द वापसी के लिए स्थितियां अब अनुकूल होती जा रही हैं। चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और आसपास के क्षेत्र पर बना हुआ है। इसके अलावा एक और चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर है, जो समुद्र तल से 5.8 किमी ऊपर तक फैला हुआ है और ऊंचाई के साथ दक्षिण की ओर झुका हुआ है। वहीं एक ट्रफ रेखा बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पश्चिम में बने हुए चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र से तमिलनाडु और केरल होते हुए दक्षिण-पूर्व अरब सागर तक फैली हुई है।

उधर पाकिस्तान के मध्य भाग पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। इन सब मौसमी परिस्थितियों के कारण अगले 24 घंटों के दौरान कर्नाटक, केरल के कुछ हिस्सों, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तमिलनाडु, महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों और मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा पश्चिम बंगाल, सिक्किम, शेष पूर्वोत्तर भारत, ओडिशा के कुछ हिस्सों, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों, तटीय आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। वहीं बिहार और झारखंड में हल्की बारिश की संभावना है।

मानसून की विदाई के साथ ही सर्दी की होगी शुरुआत

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक, मानसून की विदाई के साथ अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से नमी लेकर आने वाली हवा की जगह भूमध्य सागर से ईरान, अफगानिस्तान के मरुस्थल की शुष्क हवा ले लेगी। अनुमान है कि 15 अक्टूबर से हल्की ठंडी भी पडऩे लगेगी और लोगों को गुलाबी सर्दी का अहसास होने लगेगा।

अबकी बार देरी से विदा हो रहा है मानसून

अबकी बार मानसून अन्य वर्षा की तुलना में देरी से विदा हो रहा है। आइएमडी के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के वरिष्ठ अधिकारी आरके जेनामणि के अनुसार इस बार 1960 के बाद से दक्षिण-पश्चिमी मानसून की दूसरी सबसे देरी से वापसी है। 2019 में उत्तर-पश्चिम भारत से मानसून की वापसी नौ अक्टूबर को शुरू हुई थी। उत्तर-पश्चिम भारत से दक्षिण-पश्चिमी मानसून की वापसी आमतौर पर 17 सितंबर से शुरू हो जाती है।

इस साल देशभर में हुर्ई है सामान्य बारिश

आइएमडी ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि अगले 24 घंटों के दौरान उत्तर-पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों से दक्षिण-पश्चिमी मानसून की वापसी के लिए स्थितियां अनुकूल बनी हुई हैं। उन्होंने बताया कि जून से सितंबर तक चार महीने के दौरान सामान्य वर्षा हुई। 1 जून से 30 सितंबर तक अखिल भारतीय मानसून वर्षा 1961-2010 के 88 सेमी (इसके एलपीए का 99 फीसद) की लंबी अवधि के औसत के मुकाबले 87 सेमी रही है। यह लगातार तीसरे वर्ष है जब देश में सामान्य या सामान्य से अधिक वर्षा दर्ज की गई है। 2019 और 2020 में बारिश सामान्य से अधिक रही।

मध्यप्रदेश में 10 तक होगी मानसून की विदाई, हो सकती है हल्की बारिश

मौसम विभाग के अनुसार वर्तमान में मध्य प्रदेश में कोई वेदर सिस्टम सक्रिय नहीं है, लेकिन राजस्थान में एक प्रतिचक्रवात बना हुआ है। साथ ही अरब सागर से नमी आ रही है। इस वजह से मप्र प्रदेश में कहीं-कहीं बौछारें पड़ रही हैं। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक बुधवार को भोपाल, इंदौर, जबलपुर, होशंगाबाद (नमोदापुरम) संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बौछारें पडऩे की संभावना बनी हुई है। वहीं 10 अक्टूबर तक मप्र से भी मानसून विदा हो सकता है।

राजस्थान/दिल्ली एनसीआर में मानसून की विदाई का सिलसिला शुरू

उधर, 10 तारीख से पहले पश्चिमी राजस्थान से मानसून की विदाई का सिलसिला शुरू होने की भी संभावना है। हालांकि विदा होते मानसून की वजह से अभी राजधानी दिल्ली और एनसीआर के शहरों के लोग उमस भरी गर्मी का एहसास हो रहा हो लेकिन जल्द ही उन्हें इससे राहत मिल जाएगी। सप्ताह भर में ही सुबह और शाम के समय सर्दी की आहट आने लगेगी। कुल मिलाकर 15 अक्टूबर से पहले ही दिल्ली-एनसीआर के लोगों को हल्की सर्दी महसूस शुरू होने लगेगी।

अक्टूबर मध्य के बाद तापमान भी सामान्य से नीचे जाते रहने का पूर्वानुमान है। हालांकि ठीकठाक सर्दी के लिए अभी अगले माह का इंतजार करना होगा। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, 6 अक्टूबर (बुधवार) को राजस्थान से मानसून की विदाई हो जाएगी। इसके बाद 8 अक्टूबर के आसपास यह दिल्ली-एनसीआर और फिर 10 अक्टूबर को समूचे उत्तर भारत से विदा हो जाएगा।

हवा की दिशा के साथ बदलेगा मौसम का मिजाज

मानसून की विदाई के बाद हवा की दिशा उत्तर पश्चिमी हो जाएगी। यह हवा जम्मू कश्मीर की ओर से आएगी। इसके साथ पहाड़ों की ठंडक भी दिल्ली एनसीआर तक पहुंचने लगेगी। हवा की दिशा बदलने के साथ ही सुबह-शाम के मौसम में फर्क महसूस होने लगेगा। इस दौरान सुबह शाम के समय लोगों को हल्की सर्दी का अहसास होने लगेगा।

अक्टूबर के अंत तक होने लगेगा सर्दी का एहसास

मौसम विभाग के मुताबिक, अक्टूबर के तीसरे सप्ताह से अधिकतम और न्यूनतम तापमान में भी बदलाव नजर आने लगेगा। अभी जो तापमान सामान्य से ऊपर चल रहे हैं, वह सामान्य से नीचे आ जाएंगे। इसी माह के अंत तक गर्मी की बजाए गुलाबी ठंडक का एहसास होने लगेगा। महेश पलावत (उपाध्यक्ष, स्काईमेट वेदर) के मुताबिक, मानसून की विदाई के साथ ही हवा की दिशा बदल जाती है। हवा की दिशा बदलते ही मौसम बदलने लगता है। सप्ताह भर में सुबह-शाम का बदलाव और दो सप्ताह में तापमान की गिरावट दिखाई देने लगेगी। उधर, डा. एम महापात्रा (महानिदेशक, मौसम विज्ञान विभाग) का कहना है कि सप्ताह भर के भीतर मानसून चला जाएगा। इसके बाद हवा की दिशा बदलेगी। धीरे धीरे मौसम और तापमान दोनों बदलते जाएंगे।

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्तिपुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top