कोलकाता में जलभराव की स्थिति, एयरपोर्ट का एक हिस्सा पानी में डूबा

Published - 21 May 2020

कोलकाता में जलभराव की स्थिति, एयरपोर्ट का एक हिस्सा पानी में डूबा

कई लाख करोड़ का नुकसान होने का अंदेशा

अम्फान चक्रवात के दीघा के तट से बुधवार टकराने के साथ ही इस तूफान ने अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया। इसने ओडिशा और पश्चिम बंगाल में भारी तबाही मचाई। तूफान से 72 लोगों की मौत हुई है। जलभराव के कारण कोलकाता में एयरपोर्ट का एक हिस्सा डूब गया है। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बंगाल का इतना नुकसान हुआ है कि इसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है। नुकसान का सही से आकलन कर पाना अभी मुश्किल है। इसके लिए दो-चार दिन लगेंगे। वहीं उत्तर परगना में 5500 मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं।
उत्तर और दक्षिण 24 परगना को सबसे ज्यादा नुकसान- चक्रवती तूफान से उत्तर और दक्षिण 24 परगना को सबसे अधिक नुकसान हुआ है। कई इलाकों से संपर्क टूट गया है। प्राथमिक रिपोर्ट के अनुसार कई लाख करोड़ रुपए की क्षति हुई है। इलाके की बिजली बाधित है व यातायात सेवा बुरी तरह प्रभावित है। जगह-जगह पेड़ गिरे पड़े हैं। इधर कोलकाता में बारिश के कारण कई इलाकों में जलभराव की स्थिति है।

 

 

पश्चिम बंगाल और ओडिशा में लोगों को सुरक्षित निकाला

अब तक पश्चिम बंगाल में पांच लाख और ओडिशा में 1,58,640 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है।  चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ की टीमें तैनात है। वहीं देश की तीनों सेनाएं भी सक्रिय है। 

 

कमजोर पड़ा चक्रवती तूफान

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग बताया कि पिछले छह घंटों के दौरान चक्रवात अम्फान 27 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ा है। आगे चक्रवाती तूफान के रूप में कमजोर हो गया है और बांज्लादेश, कोलकाता के करीब 270 किमी दूर उत्तर- उत्तर पूर्व में स्थित है।

 

सभी कंपनियों के ट्रैक्टरों के मॉडल, पुराने ट्रैक्टरों की री-सेल, ट्रैक्टर खरीदने के लिए लोन, कृषि के आधुनिक उपकरण एवं सरकारी योजनाओं के नवीनतम अपडेट के लिए ट्रैक्टर जंक्शन वेबसाइट से जुड़े और जागरूक किसान बने रहें।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back