मानसून पूर्व आंधी व हल्की बारिश से आ सकती तापमान में कुछ गिरावट

Published - 29 May 2020

मानसून पूर्व आंधी व हल्की बारिश से आ सकती तापमान में कुछ गिरावट

मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में तेज बारिश के आसार

भारतीय मौसम विभाग ने अब मानसून के एक जून को केरल पहुंचने की संभावना जताई है। इससे पहले विभाग की ओर से 5 जून तक मानसून के केरल पहुंचने की बात कही थी। इस हिसाब से अब मानसून पूर्व में संभावित तिथि से चार दिन पहले ही केरल पहुंच जाएगा। मौसम विभाग के अनुसार दक्षिण-पूर्व और उससे सटे पूर्वी-मध्य अरब सागर के ऊपर 31 मई से 4 जून के दौरान एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है जो कि मानसून के पहली जून को केरल पहुंचने के अनुकूल हैं।

मौसम विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में यह भी कहा गया है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून मालदीव-कोमोरिन क्षेत्र के कुछ हिस्सों, दक्षिण बंगाल की खाड़ी के कुछ हिस्सों और अंडमान सागर एवं अंडमान निकोबार द्वीप समूह के शेष हिस्सों में आगे बढ़ा है। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून और आगे ही बढ़ता जाएगा क्योंकि अगले 48 घंटों के दौरान मालदीव-कोमोरिन क्षेत्र के कुछ और हिस्सों में इसके लिए परिस्थितियां अनुकूल होती जा रही हैं। यह केरल में मानसून के दाखिल होने और बारिश के मौसम की शुरुआत के लिए शुभ संकेत है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

पश्चिमी विक्षोभ से तटीय कर्नाटक पर बना रहा चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र

मौसम की जानकारी देने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट के अनुसार उत्तर भारत की तरफ एक पश्चिमी विक्षोभ आने वाला है। यह सिस्टम इस समय उत्तरी अफगानिस्तान और आसपास के भागों पर है। एक ट्रफ पूर्वी उत्तर प्रदेश से बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और असम होते हुए नागालैंड तक फैला हुआ है। तटीय कर्नाटक पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। इसके अलावा अरब सागर के दक्षिण-पूर्वी हिस्सों पर बना चक्रवाती सिस्टम अब दक्षिण-पश्चिमी भागों पर पहुंच गया है। एक ट्रफ छत्तीसगढ़ से तेलंगाना और रायलसीमा होते हुए आंतरिक तमिलनाडु तक बनी हुई है। एक अन्य चक्रवाती सिस्टम बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पश्चिमी हिस्सों पर दिखाई दे रहा है।

 

 

अगले 24 घंटों के दौरान यहां हो सकती है बारिश

अगले 24 घंटों के दौरान पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत में असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में बारिश की गतिविधियां कुछ हद तक कम हो जाएंगी लेकिन मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में बारिश बढ़ेगी। पश्चिम बंगाल एवं बिहार के कई हिस्सों और झारखंड के पूर्वी हिस्सों में बारिश की गतिविधियां संभव हैं। उत्तर प्रदेश और ओडिशा में भी कुछ स्थानों पर हल्की बारिश के आसार हैं। एक नया पश्चिमी विक्षोभ पश्चिमी हिमालयी राज्यों में बारिश की गतिविधियों को बढ़ाएगा।

 

उत्तरी भारत में फिलहाल गर्मी से निजात नहीं, हल्की बारिश से तापमान में आ सकती है मामूली गिरावट

मौसम विभाग के अनुसार उत्तरी पंजाब, हरियाणा, पश्चिम उत्तर प्रदेश और दिल्ली में भी कुछ जगहों पर धूल भरी आंधी चलने या बादलों की गर्जना के साथ हल्की वर्षा होने के आसार हैं। हरियाणा, दिल्ली, दक्षिण-पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान के कुछ हिस्सों में भीषण गर्मी जारी रहेगी। लेकिन इस दौरान आंधी व हल्की बारिश से तापमान में मामूली गिरावट की उम्मीद है। राजस्थान, मध्य प्रदेश के कई हिस्सों, छत्तीसगढ़ और आंतरिक महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों पर लू का प्रकोप जारी रहने की उम्मीद है। बीते 24 घंटों के दौरान राजस्थान समेत हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, विदर्भ, मराठवाड़ा और मध्य महाराष्ट्र के कई हिस्सों में गर्मी अपने चरम पर पहुंची। इन भागों में जबरदस्त लू का प्रकोप देखने को मिला। दिल्ली और राजस्थान में सामान्य जन-जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और गुजरात के भी कुछ हिस्सों में लू का प्रकोप जारी रहा। असम, मणिपुर, त्रिपुरा और मेघालय पर भारी से अति भारी बारिश हुई।

शेष पूर्वोत्तर भारत, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार के पूर्वी भागों और गंगीय पश्चिम बंगाल में भी कुछ स्थानों पर मध्यम से तेज बौछारें दर्ज की गई। केरल, दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक और तमिलनाडु में कहीं-कहीं हल्की से मध्यम बारिश हुई। जम्मू-कश्मीर, मुजफ़्फ़ऱाबाद, गिलगित-बाल्टिस्तान और उत्तराखंड में हल्की वर्षा रिकॉर्ड की गई।

 

सभी कंपनियों के ट्रैक्टरों के मॉडल, पुराने ट्रैक्टरों की री-सेल, ट्रैक्टर खरीदने के लिए लोन, कृषि के आधुनिक उपकरण एवं सरकारी योजनाओं के नवीनतम अपडेट के लिए ट्रैक्टर जंक्शन वेबसाइट से जुड़े और जागरूक किसान बने रहें।
 

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back