रबी फसलों की कटाई के बीच बारिश की संभावना, जानें आपके राज्य के मौसम का हाल

रबी फसलों की कटाई के बीच बारिश की संभावना, जानें आपके राज्य के मौसम का हाल

Posted On - 09 Mar 2022

कई राज्यों में हल्की से मध्यम बारिश का अंदेशा, किसान फसल कटाई के समय रखें विशेष ध्यान

इन दिनों देश के कई राज्यों में रबी फसलों की कटाई शुरू हो चुकी है। किसान खेत-खलिहान में जुटे हुए हैं। अब तक मौसम की मेहरबानी से फसलों की पैदावार अच्छी है। अब किसान इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि मौसम नहीं बिगड़े और वे अपनी फसल को सही सलामत काट लें। लेकिन इस बीच मौसम विभाग ने कुछ राज्यों में बारिश की चेतावनी दी है। ट्रैक्टरजंक्शन की इस पोस्ट में आपको मौसम विभाग की भविष्यवाणी और बारिश की संभावना के बारे में जानकारी दे रहे हैं। तो, बने रहिए ट्रैक्टर जंक्शन के साथ। 

मौसम का हाल : धीरे-धीरे बढ़ने लगी गर्मी, क्या बारिश का कारण बनेगी

देश के मैदानी इलाकों में सर्दी का प्रकोप धीरे-धीरे कम होकर गर्मी बढ़ रही है। कई राज्यों में अधिकतम तापमान 32-35 डिग्री तक पहुंच गया है। ऐसे में किसानों के मन में शंका बनी हुई है क्या गर्मी के कारण मौसम में बदलाव होगा। धूलभरी आंधी और बारिश की संभावना बनेगी क्या?  मौसम विभाग के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान में गर्मी का असर बढऩे लगा है। गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान सहित कई राज्यों में बारिश होने की संभावना है। 8 मार्च को महाराष्ट्र मध्यप्रदेश और राजस्थान के कुछ हिस्सों में बेमौसम की बारिश हो चुकी है। ये बौछारें ज्यादातर प्रकृति में हल्की थी और महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में मध्यम दर्जे की बौछारें देखी गईं। बारिश से फसलों को नुकसान नहीं पहुंचे, इसके लिए किसानों को समय पर सभी प्रबंध कर लेने चाहिए। 

अब आगे क्या रहेगा मौसम का हाल

निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट वेदर के अनुसार ये बेमौसम बारिश 9 मार्च को भी जारी रहने की संभावना है। यह 8 मार्च की तुलना में थोड़ी अधिक रह सकती है। महाराष्ट्र, पूर्वी राजस्थान और पश्चिमी मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में बारिश हो सकती है। एक दो इलाकों में अलग-अलग ओलावृष्टि की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। हालांकि गुजरात में बारिश नहीं होगी। राजस्थान और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में 10 मार्च को भी बारिश हो सकती है। इसके बाद, 11 मार्च को, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में फिर से बारिश हो सकती है।

देशभर में बने मौसमी सिस्टम की जानकारी

निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट वेदर की ओर से देशभर में बने मौसमी सिस्टम की जानकारी भी दी गई है।

  • जम्मू कश्मीर और लद्दाख के आसपास के इलाकों में पश्चिमी विक्षोभ बना हुआ है।
  • दक्षिण राजस्थान के मध्य भागों पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है।
  • एक ट्रफ रेखा दक्षिण पूर्व अरब सागर से केरल और तटीय कर्नाटक होते हुए कोंकण और गोवा तक जा रही है।
  • बांग्लादेश के ऊपर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र देखा जा सकता है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देशभर में हुई मौसमी हलचल

पिछले 24 घंटों के दौरान, केरल में हल्की से मध्यम बारिश के साथ छिटपुट भारी बारिश हुई। उत्तरी मध्य महाराष्ट्र, विदर्भ के कुछ हिस्सों और दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में हल्की से मध्यम बारिश हुई। राजस्थान के दक्षिणी हिस्सों में ओलावृष्टि की गतिविधियां भी हुईं। राजस्थान के मध्य भागों, मध्य प्रदेश के पश्चिमी भागों तटीय कर्नाटक और उत्तराखंड में हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश और गरज के साथ बौछारें पडऩे की संभावना है। एक-दो स्थानों पर वर्षा के भी आसार है। उत्तरी मध्य महाराष्ट्र, विदर्भ के कुछ हिस्सों और पूर्वी राजस्थान, मध्य प्रदेश के पश्चिमी हिस्सों, केरल और तटीय कर्नाटक में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश और गरज के साथ बौछारें पडऩे की संभावना है। गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और जम्मू कश्मीर में हल्की बारिश और हिमपात की संभावना है।

बारिश से फसलों में नुकसान की संभावना 

रबी फसलों में शामिल गेहूं, चना, सरसों, मटर, ज्वार, जौ, प्याज की फसल खेतों में लहलहा रही है। कई जगह अगेती फसल काटी भी जा रही है। अब बदलते मौसम को देख किसान परेशान हैं। महाराष्ट्र में रबी सीजन का प्याज खेतों से किसान निकाल रहे हैं, अगर तेज बारिश होती है तो प्याज की फसल को नुकसान हो सकता है। इसके अलावा बारिश से लगभग सभी फसलों को नुकसान पहुंच सकता है। मौसम के अलर्ट के बाद किसान कटी हुई फसल को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने में जुटे हुए हैं। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार अगर बारिश हुई तो गेहूुं और ज्वार के दाने काले हो जाएंगे।  वहीं काटे गए चने की गुणवत्ता पर भी इसका असर पड़ेगा। वहीं बारिश का खतरा अंगूर के बगीचों पर भी मंडरा रहा है।


अगर आप नए ट्रैक्टर, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु को ट्रैक्टर जंक्शन के साथ शेयर करें।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back