मौसम अलर्ट : बंगाल की खाड़ी के चक्रवाती प्रभाव से बारिश की संभावना

मौसम अलर्ट : बंगाल की खाड़ी के चक्रवाती प्रभाव से बारिश की संभावना

Posted On - 18 Oct 2021

जानें, देश के किन-किन राज्यों में होगी बारिश और आगे कैसा रहेगा मौसम का हाल

बंगाल की खाड़ी के चक्रवात प्रभाव से देश के कई राज्यों बारिश की संभावना मौसम विभाग की ओर से जताई गई है। इस दौरान मेघ गर्जन के साथ वज्रपात का खतरा भी बताया जा रहा है। हालांकि ये विदा होते मानसून की अंतिम बारिश का दौर है जो 21 अक्टूबर से कम होना शुरू होगा और इसके बाद बारिश की गतिविधियों में लगातार गिरावट आती जाएगी। बता दें कि ये बारिश बंगाल की खड़ी में बने चक्रवाती प्रभाव के कारण है वरना मानसून तो विदाई होने को ही था। 

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक वेस्टर्न डिस्टरबेंस और बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाओं के बीच टकराव के चलते जम्मू कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश पं. बंगाल में अगले 24 घंटे के दौरान तेज हवाओं के बीच बिजली की गरज के साथ तेज बारिश होने का अनुमान है।

देशभर में बन रहे हैं ये मौसमी सिस्टम

  • निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट के अनुसार देश भर में बने मौसमी सिस्टम के अनुसार कम दबाव का क्षेत्र दक्षिण और मध्य मध्य प्रदेश पर बना हुआ है। संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 5.8 किमी तक फैला हुआ है। 
  • एक ट्रफ रेखा मध्य प्रदेश पर कम दबाव के क्षेत्र से जुड़े चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र से लेकर छत्तीसगढ़ और ओडिशा होते हुए मार्तबन की खाड़ी तक फैली हुई है।
  • एक ट्रफ रेखा दक्षिण आंतरिक कर्नाटक से दक्षिण तमिलनाडु तक फैली हुई है।
  • एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र झारखंड और गंगिया पश्चिम बंगाल के आसपास के हिस्सों पर बना हुआ है।

पिछले 24 घंटों के दौरान इन राज्यों में हुई बारिश

बंगाल की खाड़ी में बन रहे चक्रवाती मौसम सिस्टम की वजह से पिछले 24 घंटों के दौरान, राजस्थान के दक्षिण पूर्वी हिस्सों, मध्य प्रदेश के कई हिस्सों, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, दिल्ली एनसीआर के कुछ हिस्सों, विदर्भ, केरल, उत्तरी तटीय ओडिशा, गंगीय पश्चिम बंगाल और झारखंड के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कई स्थानों पर भारी बारिश हुई। वहीं जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और तटीय आंध्र प्रदेश में छिटपुट स्थानों के साथ हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर तेज बारिश हुई। इधर पंजाब, हरियाणा, पूर्वी राजस्थान, बिहार, झारखंड के शेष हिस्से, छत्तीसगढ़, मध्य महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों, तमिलनाडु और तटीय कर्नाटक के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई। इसी प्रकार लक्षद्वीप, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, पूर्वोत्तर भारत और रायलसीमा में हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान यहां हो सकती है बारिश

अगले 24 घंटों के दौरान, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश के पश्चिमी और मध्य भागों, पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों, सिक्किम, असम, मेघालय, तटीय ओडिशा, झारखंड के कुछ हिस्सों और मध्य प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है। वहीं उत्तर पूर्व भारत के बाकी हिस्सों, बिहार के शेष हिस्सों, उत्तर प्रदेश के शेष हिस्सों, छत्तीसगढ़, आंतरिक उड़ीसा, जम्मू कश्मीर के कुछ हिस्सों, लद्दाख, शेष मध्य प्रदेश, विदर्भ के कुछ हिस्सों, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तटीय कर्नाटक केरल, लक्षद्वीप और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। इधर दिल्ली पंजाब और हरियाणा में हल्की बारिश संभव है।

बिहार : प्रदेश में 21 अक्टूबर से पहले नहीं थमेगा बारिश का यह दौर

मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी का लो प्रेशर धनबाद की ओर बढ़ गया है जो चक्रवात के रूप में है। इससे अभी यहां बारिश जारी रहेगी। 21 अक्टूबर तक थम-थम कर बारिश का अनुमान है। वहीं कम दबाव का क्षेत्र तेलंगाना के पास बना हुआ है। इसके कारण दक्षिण-पूर्वी हवाओं का असर राज्य में दिख रहा है। इसके कारण राज्य में अगले दो दिनों तक धनबाद, बोकारो, गुमला, रामगढ़, हजारीबाग, खूंटी, कोडरमा, गढ़वा, चतरा, देवघर और रांची में भारी बारिश की संभावना है। इसके साथ ही तेज हवा भी चल सकती है।

 राज्य के मौसम पूर्वानुमान में बताया गया है कि सोमवार और मंगलवार को उत्तरी और मध्य जिलों में भारी बारिश के साथ वज्रपात की भी संभावना है। बता दें कि धनबाद में सोमवार सुबह से हल्की बारिश हो रही है। शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों और पड़ोस के जिले-बोकारो, गिरिडीह और जामताड़ा में भी मौसम का हाल एक जैसा है। पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य में सबसे ज्यादा बारिश रांची में दर्ज की गई।

छत्तीसगढ़ / बिलासपुर : गरज के साथ बारिश के आसार, बिजली गिरने की संभावना

मौसम वेधशाला के मौसम विज्ञानी डा.एचपी चंद्रा के मुताबिक फिलहाल मौसम में कुछ खास परिवर्तन नहीं होगा। प्रदेश में अधिकतम और न्यूनतम तापमान में विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है। एक निम्न दाब का क्षेत्र तेलंगाना और उसके आसपास स्थित है, इसके साथ ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा 5.8 किलोमीटर ऊंचाई पर स्थित है। इसके प्रभाव से अगले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज चमक के साथ छीटें पडऩे की संभावना है। इस दौरान प्रदेश के कई इलाकों में बिजली गिरने की चेतावनी भी है।

मध्य प्रदेश : अगले दो दिन तक जारी रहेगा बारिश का सिलसिला, इन जिलों में हो सकती है बारिश

दक्षिणी महाराष्ट्र और उसके आसपास कम दबाव का क्षेत्र बना होने के कारण और मध्य प्रदेश में विपरीत दिशा की हवाओं (पूर्वी-पश्चिमी) का टकराव हो रहा है। मौसम विभाग के अनुसार इन दो वेदर सिस्टम की वजह से भोपाल समेत देश के अधिकतर जिलों में आज गरज के साथ बौछारें पडऩे का क्रम जारी रहेगा। मौसम वैज्ञानिकों ने राज्य के भोपाल, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद, ग्वालियर एवं चंबल संभागों के अधिकांश जिलों में बारिश होने का अलर्ट जारी किया है। 

मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आज उज्जैन, ग्वालियर, होशंगाबाद, भोपाल, इंदौर, चंबल संभागों के जिलों में बारिश होने के आसार हैं जबकि राज्य के अन्य जिलों में सागर, जबलपुर, रीवा व शहडोल संभागों के जिलों में कुछ जगहों पर बौछारें पड़ सकती हैं। वहीं मंडला, बालाघाट, सिवनी, डिंडोरी, उमरिया, बुरहानपुर, राजगढ़, श्योपुरकला, शिवपुरी, बैतूल, गुना जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश की भी संभावना व्यक्त की गई है। मौसम विभाग के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला के अनुसार प्रदेश में बारिश का सिलसिला अगले दो दिनों तक जारी रहने के आसार हैं। उसके बाद ही मौसम साफ होगा।

दिल्ली एनसीआर क्षेत्र सहित हरियाणा, राजस्थान में भी होगी बारिश

आईएमडी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर जानकारी साझा करते हुए बताया है कि पूरी दिल्ली, गुरुग्राम, गोहाना, गन्नौर, होडल, औरंगाबाद, पलवल, फरीदाबाद, बल्लभगढ़, पानीपत, सोहाना और आसपास के इलाकों में गरज के साथ बारिश जारी रहेगी। बता दें कि दिल्ली में बीते रविवार (17 अक्टूबर) से लगातार बारिश हो रही है। देर शाम को लगभग पूरे राज्य में मूसलाधार बारिश हुई।

मौसम विभाग के अनुसार लगातार बारिश होने के कारण आने वाले 24 घंटे में हवा का स्तर औसत श्रेणी तक पहुंच सकता है। इस दौरान मानेसर, नूंह, रेवाड़ी, नारनौल, करनाल, कोसली (हरियाणा), बुलंदशहर, गुलोठी, नोएडा, गाजियाबाद, ग्रेटर नोएडा, शामली, अतरोली, देवबंद, नजीबाबाद, मुजफ्फरनगर, कांधला, बिजनौर, खतौली, सकोटी टांडा, हस्तिनापुर, चांदपुर, बड़ौत, दौराला, मेरठ, मोदीनगर, हापुड़, किठौर, बढ़मुक्तेश्वर, पिलखुआ, सिकंदराबाद, जट्टारी, खुर्जा, मुरादाबाद, टूंडला, मथुरा, अलीगढ़, हाथरस, आगरा (यूपी), नदबई, भरतपुर, नगर (राजस्थान) में बारिश हो सकती है।

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top