मौसम अलर्ट : बंगाल की खाड़ी पर फिर बन रहा निम्न दबाव का क्षेत्र

मौसम अलर्ट : बंगाल की खाड़ी पर फिर बन रहा निम्न दबाव का क्षेत्र

Posted On - 13 Nov 2021

कई इलाकों में बारिश की संभावना, जानें, देश में कहां-कैसा रहेगा मौसम

बंगाल की खाड़ी में फिर से निम्न दबाव का क्षेत्र बन रहा है। इससे देश के कई इलाकों में बारिश की संभावना मौसम विभाग ने जताई है।  मौसम विभाग के अनुसार तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में भारी बारिश में कमी आने की संभावना है क्योंकि बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना दबाव गुरुवार को उत्तरी तमिलनाडु को पार कर गया। हालांकि आंध्र प्रदेश में भारी बारिश की गतिविधियां देखी जा सकती हैं। मौसम विभाग की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है कि 13 नवंबर के आसपास बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। यही नहीं 13 नवंबर को ही दक्षिण अंडमान सागर और उसके आसपास एक और नया निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। इसके पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढऩे और बाद के 48 घंटों के दौरान डीप डिप्रेशन में तब्दील होने की संभावना है। इसकी वजह से आने वाले दिनों में एकबार फिर मौसम में बदलाव नजर आ सकता है।

तमिलनाडु में 14 बटालियनों को किया तैनात

मौसम विभाग के हवाले से बताया है कि चेन्नई, कांचीपुरम और विल्पुरम सहित उत्तरी तमिलनाडु के जिलों में बारिश की गतिविधियां नजर आ सकती हैं। इसे देखते हुए मौजूदा वक्त में एनडीआरएफ ने तमिलनाडु में 14 बटालियनों को तैनात किया है। वहीं मौसम का पूर्वानुमान जारी करने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट वेदर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि अगले 24 घंटों के दौरान तटीय आंध्र प्रदेश के आसपास के हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है। वहीं केरल के कुछ हिस्सों, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में एक या दो स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। तटीय ओडिशा, दक्षिण तेलंगाना और लक्षद्वीप के कुछ इलाकों में बारिश संभव है।

झारखंड में तीन दिन हो सकती है बारिश

राज्य के मौसम पूर्वानुमान के अनुसार अगले तीन दिनों तक झारखंड के विभिन्न जिलों में बारिश होगी। मौसम विज्ञानी अभिषेक आनंद ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र गुरुवार को दोपहर पश्चिम-उत्तर पश्चिम से गुजरता हुआ आंध्र प्रदेश के तट पर पहुंचा। इसका असर अगले तीन दिनों तक झारखंड में भी देखने को मिलेगा। शनिवार से राज्य के लगभग सभी जिलों में बादल छाए रहेंगे। इसके साथ ही रांची, खूंटी, रामगढ़, हजारीबाग, बोकारो, गुमला, सरायकेला-खरसावां, पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम और सिमडेगा में हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश की होने संभावना है। इन जिलों में कहीं-कहीं मेघ गर्जन की भी संभावना है। इसके साथ ही तेज हवा चल सकती है। इसके बाद 16 नवंबर से राज्य में ठंड बढ़ेगी। 

पछुआ हवा के कारण बिहार में बढ़ा सर्दी का असर

बिहार में उत्तर व उत्तर-पश्चिमी हवा का प्रवाह जारी है। मौसम विज्ञान के अनुसार अभी कुछ दिनों तक प्रदेश का मौसम ऐसा ही बना रहेगा। प्रदेश में कड़ाके की ठंड को लेकर लोगों को इंतजार करना होगा। नवंबर महीने में आम तौर पर पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होता है। इससे पहाड़ों पर बर्फबारी होती है। ऐसे में मैदानी इलाकों में पारे में गिरावट आती है और कड़ाके की ठंड पड़ती है। इस प्रकार का सिस्टम अभी प्रदेश में नहीं बन रहा है। स्थानीय कारकों से पारे में धीरे-धीरे गिरावट आएगी।

छत्तीसगढ़/रायपुर में हल्की बारिश के आसार

बंगाल की खाड़ी में अवदाब के असर से प्रदेश में नमी आ रही है। इसके चलते रात के तापमान में मामूली बढ़ोत्तरी हुई। ठंडी में भी कमी आई है। मौसम विभाग के अनुसार अवदाब के कारण प्रदेश में एक-दो स्थानों पर हल्की बारिश के आसार भी है।

राजस्थान में मौसम में उतार-चढ़ाव का दौर जारी

राजस्थान में राजधानी जयपुर सहित विभिन्न जिलों के मौसम में उतार चढ़ाव का दौर जारी है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले एक सप्ताह तक मौसम में कुछ खास बदलाव नहीं होगा। दिन में धूप में तेजी बनी रहेगी जबकि सुबह शाम हल्की ठंडक रहेगी। 16 नवंबर बाद उत्तरी हवाएं राजस्थान की तरफ आएंगी जिससे सर्दी का असर बढ़ेगा। इतना ही नहीं नवंबर के तीसरे सप्ताह तक उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में शीत लहर की स्थिति बने रहने की संभावना है। इस वर्ष ला नीना के प्रभाव के कारण उत्तर, मध्य और पूर्वी भारत में सर्दी सामान्य से अधिक रहने की संभावना है।

दिल्ली एनसीआर में घने कोहरे से बढ़ा सर्दी का असर 

दिल्ली राष्ट्रीय राजधान क्षेत्र एनसीआर में घने कोहरे के कारण सर्दी बढ़ रही है। आईआईटीएम के अनुसार दिन के समय हवाओं की गति बहुत कमजोर हो रही है। वहीं शाम और रात के समय हवाओं की स्पीड और भी कम हो रही है जिसकी वजह से प्रदूषक हवा में जम रहे हैं। 14 नवंबर को स्थिति में मामूली सुधार हो सकता है लेकिन 15 नवंबर को फिर से यही स्थिति होने की संभावना है। वहीं, मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में आने वाले दिनों में पारा और तेजी के साथ गिरेगा, जिससे ठंड तो बढ़ेगी ही मौसम में भी काफी परिवर्तन देखने को मिलेगा।  

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top