Union Cabinet approves closure of tractor unit of HMT in Pinjore, Haryana

Union Cabinet approves closure of tractor unit of HMT in Pinjore, Haryana

28 October, 2016

Hopes of over 1,100 employees for revival of the tractor unit of HMT factory in Pinjore were dashed on Thursday, as the Union Cabinet approved the closure of the factory and disbursement of VRS to all its employees. Asserting that the tractor division was incurring losses and its continuation with its insignificant market share in the sector might not be a financially viable option for HMT Limited, the Cabinet stated that the unit be closed down and focus be shifted on the machine tools unit.

“In view of the deteriorating position of the company and hardships being faced by employees due to non-payment of salaries and other dues, the tractor unit be closed down and attractive Voluntary Retirement Scheme (VRS) be given to its employees at 2007 notional pay scales,” read the order.

A budgetary support of Rs 718.72 crore was announced for the factory for payment of outstanding salaries, other employee-related dues, VRS and clearing of the tractor division’s liabilities towards banks and creditors.

Over 1,100 employees of the tractor unit have not been paid their salaries since July 2014 while statutory dues have been pending since November 2013. “We do not know what to say. The last hope has gone now. There are over 450 employees for whom VRS will not offer much. We had come here for a job and that is all we wanted to keep doing,” said Mahender Singh, president, HMT Employees’ Union.

Advocate V K Bansal, who had been spearheading the cause of the employees, said it had left the employees dejected. “Until now, the employees had a hope that the factory will be revived, but it seems to be over now. The government has left the employees in the dark few days before Diwali,” he said.

However, Kalka MLA Latika Sharma hailed the government’s decision stating that the employees would be relieved as their pending salaries would be released. “One should not merely look at the closure of the factory, but focus on the other aspect of the decision of releasing salaries, which had been pending for the last two years. The families were struggling with a financial crisis.”

She added that HMT’s ailing condition had been continuing for years and the last two years could not be blamed for its closure.

A central public sector enterprise, HMT tractor division was established in Haryana in 1971 to manufacture HMT tractors. However, performance of the company began to decline in the 1990s. The government highlighted that several efforts were made in the past to arrest the declining trend, but no success was achieved, following which the decision on closure was taken.

Source:- http://indianexpress.com/

Top Tractor News

Escorts tractor sales jump 10% in July; expects plants to hit full capacity this month

Escorts tractor sales jump 10% in July; expects plants to hit full capacity this month

During the month of July, the company faced some supply chain challenges, especially with a few suppliers of proprietary items. Farm Equipment and engineering major Escorts Ltd on Saturday reported 9.5 percent increase in tractor sales at 5,322 units in July. The company had sold a total of 4,860 units in the same month last year, Escorts Ltd said in a regulatory filing. Domestic tractor sales in July 2020 at 4,953 tractors registering a growth of 9.9 percent against 4,505 tractors in July 2019. During the month of July, the company faced some supply chain challenges, especially with a few suppliers of proprietary items, Escorts said in a release. "As a result, we could operate only at about 50 percent of our capacity, resulting in unfulfilled demand. The situation has been continuously easing in the last few days of July, and hence we expect to go back to full capacity anytime up to mid-August 2020," highlighted Escorts. The company further said that the supply side situation may continue to be dynamic for another couple of months. "Our inventory levels, both with the company and with channel, continues to be at very low levels. We are optimistic for the coming months as the rural sentiments continue to remain positive, led by timely and widespread monsoon, higher sowing of Kharif crop and adequate availability of retail finance,” added the company. Besides, company's export tractor sales in July 2020 at 369 tractors registering a growth of 3.9 percent against 355 tractors sold in July 2019.

Sonalika Tractors sells 8,219 units in July, up 72% on year

Sonalika Tractors sells 8,219 units in July, up 72% on year

Since the lockdown was eased, tractor sales have grown on the back of pent-up demand, robust rabi harvest, improved kharif sowing backed by good monsoon, increased government spending and healthy water levels in the reservoirs. India's one of the leading tractor manufacturer and number one Export brand from the country, Sonalika Tractor in July'20 records highest-ever domestic growth of 71.7 per cent and overall (Domestic+Exports) 10,223 tractors sale. Domestic sales stood at 8219 tractors compared to 4788 sales the same period last year. The company continues to be on growth trajectory beating industry growth. "Happy to share that we have recorded highest ever domestic growth of 71.7 per cent in July'20 beating industry growth with overall sales at 10,223 tractors. This consistent performance, creating new record high and gaining market share is a testimony of our strong foundation and investment in world's number one vertical integrated plant, largest channel partners, technology savvy supply chain and best team. We have launched new tractors with advanced technology features at the same cost of current products, thus helping the farmers to upgrade and enhance their productivity and income," said Raman Mittal, Executive Director, Sonalika Group, while speaking on the performance. "Our cumulative domestic growth (April-Jul) is at 17.7 percent, which is highest in the entire tractor industry. This superlative performance is resultant of our strategy to continue launching new tractors customized to meet various geographic and application specific requirements of the farmers across globe. We have been consistently growing amidst the prevailing situation with 25 per cent growth (deliveries) in May'20 and 55 per cent growth (Billing) in June'20 and 71.7 per cent growth (Billing) in July'20. We look forward to the uptick in demand and continue our growth momentum by surpassing industry growth in the forthcoming festive season as well," he added.

Mahindra Tractor Hits "Highest Ever July sales", growth of 28% over last year

Mahindra Tractor Hits "Highest Ever July sales", growth of 28% over last year

Mahindra Tractors Domestic sales in July 2020 were at 24,463 units, as against 19,174 units during July 2019; registered 28% growth. Total tractor sales (Domestic + Exports) during July 2020 were at 25,402 units, as against 19,992 units for the same period last year. Exports for the month stood at 939 units. Commenting on the performance, Hemant Sikka, President - Farm Equipment Sector, Mahindra & Mahindra Ltd. said, "We have sold 24,463 tractors in the domestic market during July 2020, a growth of 28% over last year. These are our highest ever July sales. The strong demand momentum continued, aided by positive sentiments due to good cash flows to farmers, higher Kharif sowing, a timely and normal monsoon cumulatively across June & July and continued higher rural spending by the Government. Localized lockdowns in certain states and COVID related impact on specific suppliers led to supply side challenges during the month. It is expected that the sentiments are likely to remain buoyant translating into robust tractor demand in the coming months. In the exports market, we have sold 939 tractors, a growth of 15% over last year".

पीएम किसान ट्रैक्टर योजना : अब किसान को नया ट्रैक्टर खरीदने पर मिलेगी 50 प्रतिशत तक सब्सिडी

पीएम किसान ट्रैक्टर योजना : अब किसान को नया ट्रैक्टर खरीदने पर मिलेगी 50 प्रतिशत तक सब्सिडी

छोटे व सीमांत किसान ही कर सकेंगे इस योजना में आवेदन, जाने आवेदन की प्रक्रिया व योजना से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें किसानों को खेती के कार्य के लिए कई कृषि उपकरणों की जरूरत पड़ती है। इन कृषि उपकरणों की सहायता से किसान खेती का कार्र्य आसानी से कर सकते हैं। इससे उनका काम जल्दी तो होता ही है साथ ही समय की बचत भी हो होती है। बाजार में आज तरह-तरह के कृषि उपकरण बिक्री के लिए मौजूद है। पर ये इतने महंगे है कि एक गरीब किसान इन्हें खरीदने में सक्षम नहीं है। ऐसे किसानों के लिए जो आर्थिक रूप से कमजोर है और कृषि उपकरण नहीं खरीद पा रहे हैं उनके लिए कृषि यंत्र योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत किसान को ट्रैक्टर सहित अन्य कृषि उपकरण खरीदने के लिए सरकार की ओर से 20 से 50 प्रतिशत तक की सब्सिडी (अनुदान) दिया जाता है। ये छूट अलग-अलग राज्यों के नियमानुसार अलग-अलग हो सकती है। वहीं हर राज्य में इसके लिए लक्ष्य निर्धारित होते हैं लक्ष्यों की पूर्ति के लिए समय-समय पर योजनाओं के लिए आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं। आपको इसके लिए कृषि विभाग की योजनाओं का अवलोकन करना चाहिए। इससे आपको यह पता चलेगा कि किस राज्य में इसके लिए आवेदन मांगे गए है। फिलहाल यह योजना के लिए मध्यप्रदेश राज्य में जारी है। इसमें मध्यप्रदेश राज्य के किसान आवेदन कर इसका लाभ उठा सकते हैं। इसके लिए 30 जुलाई तक आवेदन ई-पार्टल पर आवेदन किए जा सकते हैं। आवेदन के बाद लाटरी निकाली जाएगी। इसमें चयन होने पर ही किसान को ट्रैक्टर या अन्य कृषि यंत्र खरीदने के लिए सब्सिडी मुहैया कराई जाती है। इसलिए किसान पहले से ट्रैक्टर या अन्य कृषि यंत्र खरीदने की गलती नहीं करें। लाटरी में चयन होने के बाद ही किसान कृषि यंत्र खरीद सकते हैं। क्या है कृषि यंत्र योजना कृषि यंत्र योजना के तहत किसानों को उनकी श्रेणी के अनुसार ट्रैक्टर सहित अन्य कृषि उपकरण खरीदने के लिए 20 से 50 प्रतिशत तक की सब्सिडी दी जाती है। जो किसान खेती करने के लिए ट्रैक्टर खरीदना चाहते है तो वह इस योजना के तहत 20 से 50 प्रतिशत की सब्सिडी पर ट्रैक्टर सहित अन्य कृषि यंत्र प्राप्त कर सकते है। यह योजना किसानों के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो रही है। इस योजना में सब्सिडी प्राप्त करने के लिए किसान को इसके लिए आवेदन करना होगा। फिलहाल ये योजना मध्यप्रदेश राज्य में जारी है। कृषि यंत्र योजना की महत्वपूर्ण बातें इस योजना में आवेदन देश के छोटे एवं सीमांत किसान ही कर पाएंगे। इस योजना में किसानों को लोन और सब्सिडी दोनों ही दी जाती है। योजना का लाभ उठाने के लिए रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा। योजना का लाभ किसानों के खातों में सीधा पंहुचाया जाएगा। योजना के माध्यम से किसान को केवल एक ही ट्रैक्टर पर सब्सिडी दी जाएगी। योजना में महिला किसानों को प्राथमिकता दी जाएगी। इस योजना का लाभ केवल उन्हीं किसानों को दिया जाएगा जो अन्य ऐसी ही किसी योजना से जुड़े हुए न हो। कृषि यंत्र योजना के उद्देश्य इस योजना के तहत किसानों को ट्रैक्टर के लिए सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान करना। अगर किसान के पास कृषि के लिए पर्याप्त साधन होंगे तो इसे न केवल कृषि विकास दर को गति मिलेंगी बल्कि किसानों को आर्थिक स्थिति में भी सुधार आएगा। किसानों को कृषि के लिए आधुनिक साधन मिल जाएंगे तो इससे वे कम समय में अपना कृषि कार्य करके उत्पादन बढ़ा सकेंगे जिससे उनकी आय में वृद्धि हो सकेगी। कृषि यंत्र योजना से किसान को लाभ इस योजना का लाभ देश के सभी किसान उठा सकते है। देश के किसानों को इस योजना के तहत ट्रैक्टर खरीदने पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी। जिससे उन्हें काफी लाभ होगा। इस योजना से मिलने वाला लाभ किसान को सीधे उसके बैंक खाते मे प्राप्त होगा। इसलिए आवेदक का बैंक अकाउंट होना चाहिए। साथ ही किसान आवेदन स्वीकृति के तुरंत बाद ही नए ट्रैक्टर की खरीदी कर सकता है। इस योजना से जोडऩे वाले किसान अन्य किसी कृषि यंत्र सब्सिडी योजना में जुड़ा नहीं होना चाहिए। इसके तहत परिवार से केवल एक ही किसान आवेदन कर सकता है। देश की महिला किसानों को केंद्र सरकार द्वारा इस योजना के तहत अधिक लाभ प्रदान किया जाएगा। इस योजना का लाभ लेने हेतु आवेदक किसान के पास खुद के नाम से कृषि योग्य भूमि होना आवश्यक है। इस योजना के तहत किसानों को ट्रैक्टर के लिए लोन की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। आवेदन के लिए पात्रता यह योजना केवल छोटे और सीमांत किसानों के लिए ही है, लिहाजा बड़े किसान और जमींदर इस योजना का लाभ नहीं ले पाएंगे। किसान के पास खुद की भूमि होने चाहिए। किसान के पास पहले से ही किसी ऐसी योजना लाभार्थी न रहा हो। आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेज आवेदक का आधार कार्ड। जमीन के कागजात। आवेदक का पहचान प्रमाण व मतदाता पहचान कार्ड/पैन कार्ड/पासपोर्ट/आधार कार्ड/ड्राइविंग लाइसेंस। आवेदक का बैंक अकाउंट पासबुक। आवेदक मोबाइल नंबर। आवेदक की पासपोर्ट साइज फोटो। आवेदन की प्रक्रिया इस योजना के तहत ट्रैक्टर लेने के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो सुनिश्चित करें कि आपने सभी पात्रता पूरी कर ली है। इसके बाद ऊपर बताए गए सभी दस्तावेज के साथ कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा तहसील कार्यालय में और कृषि विभाग के माध्यम से भी आवेदन कर सकते हैं। आवेदन करने के बाद दस्तावेज सत्यापन होगा। प्रधानमंत्री किसान ट्रैक्टर योजना के लिए पात्र होने पर आपको ट्रैक्टर दे दिया जाएगा। अभी फिलहाल इसके लिए मध्यप्रदेश राज्य में ई-पार्टल पर ओटीपी के माध्यम से रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है जो 30 जुलाई तक जारी है। मध्य प्रदेश : https://dbt.mpdage.org/index.htm अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

close Icon

Find Your Right Tractor and Implements

New Tractors

Used Tractors

Implements

Certified Dealer Buy Used Tractor