• Home
  • News
  • Tractor News
  • एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी किसानों को सस्ती दर पर लोन दिलाने में करेगी मदद

एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी किसानों को सस्ती दर पर लोन दिलाने में करेगी मदद

एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी किसानों को सस्ती दर पर लोन दिलाने में करेगी मदद

एस्कॉर्ट्स कंपनी और इंडसइंड बैंक ने समझौता ज्ञापन किए हस्ताक्षर

ट्रैक्टर सहित एग्री मशीनरी निर्माण के लिए प्रसिद्ध एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी अब किसानों को सस्ती दर पर लोन दिलाने में उनकी मदद करेगी। इसके लिए एस्कॉर्ट्स कंपनी ने इंडसइंड बैंक से टाईअप किया है। ये दोनों मिलकर किसानों की वित्तीय जरूरतों के हिसाब से लोन उपलब्ध कराने में अहम भूमिका अदा करेंगे। मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी और इंडसइंड बैंक ने किसानों सस्ती ब्याज दरों पर ऋण प्रदान करने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। दोनों संस्थाएं ग्राहकों की वित्तीय जरूरतों को समझने और उसके अनुसार वित्तीय कार्यक्रम तैयार करने के लिए काम करेंगी। इससे किसानों को आधुनिक कषि उपकरणों की खरीद के लिए ऋण मिलने में आसानी होगी।

कार्यक्रम का क्या है उद्देश्य

एस्कॉर्ट्स कंपनी और इंडसइंड बैंक मिलकर जो वित्तीय कार्यक्रम तैयार करेंगे इसका मुख्य उद्देश्य कृषि उत्पादकता और आय बढ़ाने के लिए आधुनिक उपकरणों में निवेश को प्रोत्साहित करना होगा। एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी के सीईओ शेनु अग्रवाल ने कहा कि ग्रामीण उद्योग रिकॉर्ड गति से बढ़ रहा है और हम अपने ग्राहकों को तकनीकी रूप से उन्नत कृषि पद्धतियों की ओर बढ़ते हुए देख रहे हैं। यहां हमारी भूमिका उन्हें सर्वोत्तम उत्पाद प्रदान करना और खरीद की प्रक्रिया को यथा संभव सरल बनाना है। इस समझौता ज्ञापन के तहत, इंडसइंड बैंक ग्रामीण ग्राहकों की अपनी समझ और पूरे भारत में अपनी पैठ का उपयोग एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी को भारत के कृषक समुदाय के मुकाबले अपने बड़े लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करने के लिए करेगा। इंडसइंड बैंक के कंज्यूमर फाइनेंस डिवीजन के प्रमुख एसवी पार्थसारथी के अनुसार, इंडसइंड बैंक और एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी के बीच साझेदारी का उद्देश्य किसानों को समर्थन देने के लिए पारदर्शिता, सहजता और सुविधा प्रदान करना है।


कृषि कार्यों के लिए किसानों ने लिया सबसे अधिक ऋण

एक हालिया सर्वेक्षण में सामने आया कि किसानों द्वारा 69.6 प्रतिशत ऋण संस्थागत स्रोतों जैसे सरकारी एजेंसियों, बैंकों और सहकारी समितियों से लिए गए थे जबकि 20.5 प्रतिशत पेशेवर साहूकारों से लिए गए थे। इनमें से केवल 57.5 प्रतिशत कृषि उद्देश्यों के लिए लिया गया था। इससे प्रमाणित होता है कि इस क्षेत्र में ऋण का एक बड़ा हिस्सा अभी भी बैंकों, सहकारी समितियों और सरकारी एजेंसियों के अलावा अन्य स्रोतों से आता है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) द्वारा किए गए एक हालिया सर्वेक्षण - अखिल भारतीय ऋण और निवेश सर्वेक्षण - में कहा गया है कि भारत में 50 प्रतिशत से अधिक कृषि परिवारों पर 2019 में प्रति परिवार औसत बकाया ऋण 74,121 रुपए था।


इंडसइंड बैंक के बारें में

इंडसइंड बैंक भारत में नई पीढ़ी के निजी बैंकों में पहला है। इसकी स्थापना 1994 में हुई। इसका उद्घाटन अप्रैल 1994 में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने किया था। इंडसइंड बैंक ने भारतीय और गैर-भारतीय निवासियों दोनों के प्रमुख निवेशों के साथ अपना परिचालन शुरू किया। इसके अलावा, इंडसइंड बैंक 1,558 शाखाओं और 2453 एटीएम के साथ पूरे देश में फैल गया है। बैंक की लंदन, दुबई और अबू धाबी में मौजूदगी है। इंडसलैंड बैंक ने भारतीय निवासियों के बीच एक प्रसिद्ध नाम प्राप्त किया है और एक प्रतिष्ठित वित्तीय संस्थान साबित हुआ है। 100 प्रतिशत ग्राहक संतुष्टि सुनिश्चित करके बैंक का उद्देश्य ग्राहक के प्रति संवेदनशील होना है।


एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी के बारे में

एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी भारत में अपने उत्कृष्ट ट्रैक्टर निर्माण के लिए लोकप्रिय है। एस्कॉर्ट ट्रैक्टर जिसकी स्थापना 1944 लाहौर पाकिस्तान में हुई थी। जब 1947 को भारत और पाकिस्तान का बंटवारा हो गया और जब भारत आजाद राष्ट्र बना तब एस्कॉर्ट कंपनी का मुख्यालय लाहौर से दिल्ली स्थानांतरित हो गया। साल 1959 में एस्कॉर्ट में एस्कॉर्ट एग्री मशीनरी बनाई और उसके बाद उसने ट्रैक्टर निर्माण क्षेत्र में कदम रखा। इसी के साथ एस्कॉर्ट ट्रैक्टर का कंपनी का मूल स्वरूप 1961 में शुरू हुआ और जहां इसने स्वतंत्र रूप से ट्रैक्टर और इसके इंजन बनाएं। कंपनी ने 1974 में पहली बार अपना ट्रैक्टर निर्यात किया। एस्कॉर्ट ट्रैक्टर ने अपना पहला स्वतंत्र ट्रैक्टर ने 1980 में अपना एस्कॉर्ट ट्रैक्टर 335 लॉन्च किया था जो हल्के पूर्व 2 सिलेंडर ट्रैक्टर था जो छोटे किसानों के लिए काफी फायदेमंद रहा। भारत में फार्म मशीनीकरण के पायनियर के रूप में जानी जाने वाली इस कंपनी ने न केवल खेती के लिए ट्रैक्टर बनाए हैं, बल्कि सभी रूपों में कृषि का समर्थन करने के लिए उत्कृष्ट मशीनें भी बनाई हैं। हर प्रसाद नंदा और युडी नंदा एस्कॉर्ट्स गु्रप के संस्थापक हैं। निखिल नंदा की देखरेख में, एस्कॉर्ट्स समूह को ट्रैक्टरों के लिए उबेर के साथ मिलकर अद्वितीय कृषि-समाधान मिलते हैं।  

 

Tractor Junction also Offer a Monthly Subscription of Tractor Sales (Wholesale, Retail, Statewise, Districtwise, HPwise) Report. Please Contact us for the detailed report.

Subscribe our Telegram Channel for Industry Updates-
 https://t.me/TJUNC
Follow us for Latest Tractor Industry Updates-
LinkedIn - https://bit.ly/TJLinkedIN
FaceBook - https://bit.ly/TJFacebok

Top Tractor News

नीरज चोपड़ा को गिफ्ट में मिला जॉन डियर 5075 ट्रैक्टर

नीरज चोपड़ा को गिफ्ट में मिला जॉन डियर 5075 ट्रैक्टर

नीरज चोपड़ा को गिफ्ट में मिला जॉन डियर 5075 ट्रैक्टर (John Deere Tractor), जानें, जॉन डियर 5075 ट्रैक्टर के स्पेसिफिकेशन्स, फीचर्स और कीमत

जॉन डियर ट्रैक्टर 2021 : जॉन डियर TREM-IV सीरीज में चार ट्रैक्टर लांच

जॉन डियर ट्रैक्टर 2021 : जॉन डियर TREM-IV सीरीज में चार ट्रैक्टर लांच

जॉन डियर ट्रैक्टर 2021 : जॉन डियर TREM-IV सीरीज में चार ट्रैक्टर लांच ( John Deere Tractor 2021 ) जानें, जॉन डियर 5405 गियर प्रो, जॉन डियर 5305, जॉन डियर 5310 गियर प्रो, जॉन डियर 5075ई ट्रैक्टर के स्पेसिफिकेशन और फीचर्स

सीएनजी ट्रैक्टर डीजल के मुकाबले सस्ता, जानिए विशेषताएं और लाभ

सीएनजी ट्रैक्टर डीजल के मुकाबले सस्ता, जानिए विशेषताएं और लाभ

सीएनजी ट्रैक्टर डीजल के मुकाबले सस्ता, जानिए विशेषताएं और लाभ (CNG tractor), सीएनजी ट्रैक्टर से किसानों को हर साल होगा लाखों रुपए का फायदा

Shubhabrata Saha Ex Mahindra tractor head joins MCF As MD

Shubhabrata Saha Ex Mahindra tractor head joins MCF As MD

Shubhabrata Saha Ex Mahindra tractor head joins MCF As MD, Mangalore Chemicals and Fertilizers (MCF) has delegated Shubhabrata Saha as its Managing Director for a very long time.

close Icon

Find Your Right Tractor and Implements

New Tractors

Used Tractors

Implements

Certified Dealer Buy Used Tractor