मौसम विभाग की चेतावनी, कई राज्यों में होगी भारी बारिश

मौसम विभाग की चेतावनी, कई राज्यों में होगी भारी बारिश

Posted On - 17 Sep 2021

मौसम अपडेट : जानें, कहां-कहां होगी बारिश और आगे कैसे रहेगा मौसम का हाल

मौसम विभाग ने देश के कई राज्यों में भारी से लेकर अति भारी बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग ने अभी मानसून के फिर से सक्रिय होने के संकेत दिए हैं। इसमें कहा गया है कि एक बार फिर से झमाझम बारिश शुरू होने वाला है। इससे मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी राजस्थान और गुजरात में जोरदार बारिश हो सकती है।

मौसम विभाग की मानें तो आने वाले 2 हफ्तों में मानसून की झमाझम बारिश का सिलसिला जारी रहेगा। मौसम वैज्ञानिकों के ताजा अनुमान के मुताबिक पूर्वी भारत में 18 सितंबर से झमाझम बारिश का एक और दौर शुरू होने जा रहा है। हम आपको बता दें कि इस समय मध्य प्रदेश के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जिसके चलते मध्य प्रदेश के साथ-साथ उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड ,पूर्वी राजस्थान और गुजरात के इलाकों में जोरदार बारिश की संभावना बनी हुई है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 

 

Weather Forecast : बंगाल की खाड़ी में साइक्लोनिक सरकुलेशन बनने की संभावना

मौसम विभाग का कहना है पूर्वी राजस्थान और गुजरात में 18 सितंबर से मूसलाधार बारिश का सिलसिला एक बार फिर से शुरू हो जाएगा। इसी के साथ बंगाल की खाड़ी में साइक्लोनिक सरकुलेशन बनने की संभावना है, जिसकी वजह से उड़ीसा बंगाल बिहार और झारखंड के साथ-साथ पूर्वोत्तर भारत में भी जोरदार बारिश का सिलसिला देखा जाएगा। कुल मिलाकर इस बार सितंबर के महीने में मानसून की वापसी की शुरुआत होती हुई ही नहीं दिख रही है।


मध्यप्रदेश में इन जगहों पर हो सकती है भारी बारिश

मध्यप्रदेश में सितंबर के पिछले दो हफ्तों से बारिश का दौर जारी है। मौसम विभाग के अनुसार शुक्रवार 17 सितंबर 2021 को सभी संभागों होशंगाबाद , भोपाल, उज्जैन सागर, रीवा, ग्वालियर इंदौर, चंबल, जबलपुर और शहडोल में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बारिश की संभावना जताई है। वहीं राजगढ़, झाबुआ, रतलाम, उज्जैन, आगर, शाजापुर, भिंड, मुरैना और श्योपुरकलां जिलों में अति भारी बारिश के चलते येलो अलर्ट जारी किया गया है। वहीं 9 जिलों और 4 संभागों में बिजली गिरने और चमकने के आसार है। बता दें कि मध्यप्रदेश में अभी तक 859 मिलीमीटर बारिश हुई है, जो सामान्य बारिश (889.5 मिमी.) की तुलना में तीन फीसद कम है। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में अभी तीन से चार दिन तक बारिश का सिलसिला जारी रहने के आसार हैं।


राजस्थान में 18 और 19 सितंबर को भारी बारिश की चेतावनी

मौसम विभाग की मानें तो राजस्थान में 18 व 19 सितंबर को अति भारी बारिश की संभावना जताई गई है। वहीं 17 सितंबर से 23 सितंबर तक पूर्वी राजस्थान के जयपुर, भरतपुर, अजमेर, कोटा व उदयपुर संभाग के जिलों में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश और राज्य के दक्षिणी हिस्से में कुछ स्थानों पर भारी से अति भारी बारिश होगी। पश्चिमी राजस्थान की बात करें तो बीकानेर व जोधपुर संभाग के जिलों में हल्की, मध्यम व भारी बारिश की संभावना है। 24 से 30 सितंबर तक राजस्थान में सामान्य से ज्यादा बारिश की संभावना है।


हरियाणा में 18 से 21 के बीच गरज - चमक के साथ बारिश की संभावना

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन खिचड़ के अनुसार हरियाणा में 21 सितंबर तक मौसम आमतौर पर परिवर्तनशील संभावित है। 17 सितंबर के आसपास राज्य में कुछ एक स्थानों पर बारिश होने की संभावना है। वहीं 18 से 21 सितंबर के बीच ज्यादातर स्थानों पर गरज चमक के साथ बारिश होने की संभावना है।


छत्तीसगढ़/ बिलासपुर : 19 सितंबर को हो सकती है तेज बारिश

पांच दिनों से लगातार झड़ी के बाद 24 घंटे से बिलासपुर में बारिश थम गया है। जिसके कारण वातावरण में हल्की उमस महसूस होने लगी है। आसमान में काले बादल अभी भी डेरा डाले हुए हैं। मौसम विभाग की मानें तो बिलासपुर संभाग में हल्की बारिश की संभावना अभी बनी हुई है। तापमान में वृद्धि हो सकती है। फिलहाल अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस के नीचे है। लालपुर स्थित मौसम वेधशाला के मौसम विज्ञानी डा.एचपी चंद्रा के मुताबिक 17 सितंबर कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज चमक के साथ छींटे पडऩे की संभावना है। प्रदेश में अधिकतम तापमान में वृद्धि संभावित है, किंतु सरगुजा संभाग में विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है। फिलहाल बिलासपुर का अधिकतम तापमान 28.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज है। वहीं पेंड्रारोड का तापमान 24.8 डिग्री पहुंच चुका है। मौसम विभाग की मानें तो 19 सितंबर से मानसून तंत्र फिर से प्रभावशील हो जाएगा। जिसके बाद मध्यम से तेज बारिश हो सकती है।


ओडिशा, पश्चिम बंगाल, झारखंड में होगी बारिश

बंगाल की खाड़ी में बने एक और सिस्टम चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र के रूप में पूर्वोत्तर बंगाल की खाड़ी के ऊपर आ रहा है। इसके अलावा, एक नए सिस्टम के गठन के संकेत पहले से ही पूर्वोत्तर खाड़ी और उससे सटे पूर्वी मध्य खाड़ी के ऊपर एक ट्रफ रेखा के रूप में हैं, और संभवत: कल, उसी क्षेत्र में एक परिसंचरण देखा जाएगा। यह सिस्टम अगले 24 घंटों में और अधिक प्रभावी हो जाएगा। मौसमी सिस्टमों के अनुसार, यह प्रणाली इस महीने बनने वाली पिछली प्रणालियों की तरह तेज नहीं होगी, लेकिन फिर यह ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तट के करीब, हवाओं के क्षेत्र के रूप में आगे बढ़ेगी। 19 सितंबर तक, सिस्टम के भूभाग में स्थानांतरित होने की उम्मीद है। इस मौसमी सिस्टम से उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, झारखंड और पूर्वी भारत के आसपास के क्षेत्रों में अच्छी बारिश होने की उम्मीद है।


बिहार में अभी तेज बारिश की संभावना नहीं

बिहार में शुक्रवार की सुबह राज्य के ज्यादातर हिस्सों में बादल छाए रहे, हालांकि तेज बारिश की संभावना राज्य में नहीं के बराबर है। पटना के मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक कुछ इलाकों में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश हो सकती है। पश्चिमी चंपारण में बारिश के आसार अधिक हैं। राज्य में मौसम का मिजाज तेजी से बदल रहा है। सितंबर के पहले हफ्ते में राज्य के ज्यादातर हिस्सों में लोगों को तेज गर्मी और उमस का सामना करना पड़ा तो दूसरे हफ्ता खत्म होते-होते कई इलाकों में बारिश से मौसम सुहाना हो गया। राज्य में मानसून अब अपने ढलान पर है। पटना के मौसम विज्ञान केंद्र ने अगले पांच दिनों के लिए मौसम पूर्वानुमान में राज्य के किसी जिले के लिए कोई चेतावनी जारी नहीं की है। हालांकि इस बीच स्थानीय कारणों से कुछ जिलों में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश होती रहेगी।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्तिपुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

త్వరిత లింకులు

scroll to top