पशुपालन लोन : सात इकाईयों की स्थापना के लिए मिलेगा 90 प्रतिशत ऋण

पशुपालन लोन : सात इकाईयों की स्थापना के लिए मिलेगा 90 प्रतिशत ऋण

Posted On - 17 Sep 2021

जानें, क्या है पशुपालन अवसंरचना विकास निधि योजना और इससे कैसे मिलेगा लाभ

केंद्र सरकार की ओर से किसानों के साथ पशुपालकों के लिए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। इन योजनाओं से पशुपालक किसानों को काफी लाभ हो रहा है। इन योजनाओं का सफल संचालन हो सके और पशुपालकों की आय में भी बढ़ोतरी हो। इसके लिए केंद्र सरकार की ओर से पशुपालन अवसंरचना विकास कोष के तहत 15 हजार करोड़ रुपए के ऋण की पेशकश करने की योजना शुरू की गई है। इसके तहत किसान और पशुपालक ऋण का 90 प्रतिशत तक प्राप्त कर सकते हैं।  

Buy Used Livestocks

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रैक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1  


क्या है पशुपालन अवसंरचना विकास निधि योजना  ( Animal Husbandry Infrastructure Development Fund Scheme )

प्रधान मंत्री के अभी हाल ही में घोषित आत्मनिर्भर भारत अभियान प्रोत्साहन पैकेज में 15 हजार करोड़ रुपये की पशुपालन अवसंरचना विकास निधि (एएचआईडीएफ) की स्थापना के बारे में उल्लेख किया गया है। पशुपालन अवसंरचना विकास निधि (एएचआईडीएफ) को डेयरी प्रसंस्करण और मूल्य संवर्धन अवसंरचना, मांस प्रसंस्करण और मूल्य संवर्धन अवसंरचना और पशु चारा संयंत्र की स्थापना हेतु व्यक्तिगत उद्यमियों, निजी कंपनियों, एमएसएमई, किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) और धारा 8 कंपनियों द्वारा निवेश को बढ़ावा देने के लिए अनुमोदित किया गया है। इसके तहत पशुपालन से संबंधित इकाईयों को शुरू करने के लिए ऋण प्रदान किया जाएगा।


पशुपालन अवसंरचना विकास निधि योजना उद्देश्य

  • दूध और मांस प्रसंस्करण क्षमता और उत्पाद विविधीकरण को बढ़ाने में मदद करके असंगठित ग्रामीण दूध और मांस उत्पादकों को संगठित दूध और मांस बाजार तक अधिक से अधिक पहुंच प्रदान करना।
  • उत्पादक के लिए बढ़ी हुई कीमत उपलब्ध कराना।
  • घरेलू उपभोक्ता के लिए गुणवत्तापूर्ण दूध और मांस उत्पाद उपलब्ध कराना।
  • देश की बढ़ती आबादी की प्रोटीनयुक्त गुणवत्तापूर्ण भोजन की आवश्यकता को पूरा करना और दुनिया में कुपोषित बच्चों की सबसे अधिक आबादी वाले देशों में से एक में कुपोषण को रोकना।
  • उद्यमिता विकसित करना और रोजग़ार सृजित करना।
  • निर्यात को बढ़ावा देना और दूध तथा मांस के क्षेत्र में निर्यात के योगदान को बढ़ाना।
  • किफायती मूल्य पर संतुलित राशन प्रदान करने के लिए गोपशु, भैंस, भेड़, बकरी, सुअर और कुक्कुट को गुणवत्ता केंद्रित पशु चारा उपलब्ध कराना।


पशुपालन अवसंरचना विकास निधि योजना में इन इकाई के लिए मिलेगा ऋण

  • दूध पाउडर निर्माण इकाई
  • आइसक्रीम बनाने की इकाई
  • टेट्रा पैकेजिंग सुविधाओं के साथ अल्ट्रा उच्च तापमान (यूएचटी) दूध प्रसंस्करण इकाई
  • फ्लेवर्ड मिल्क मैन्युफैक्चरिंग यूनिट
  • मट्ठा पाउडर निर्माण इकाई
  • विभिन्न प्रकार के मांस प्रसंस्करण इकाइयों की स्थापना
  • पनीर निर्माण इकाई
  • कोई भी अन्य दूध उत्पाद और मूल्य संवर्धन विनिर्माण इकाई


पशुपालन अवसंरचना विकास निधि योजना से मिलने वाले लाभ

  • लाभार्थी को निवेश के रूप में न्यूनतम 10 प्रतिशत संचय राशि(मार्जिन मनी) का योगदान करना होता है। शेष 90 प्रतिशत राशि अनुसूचित बैंकों द्वारा ऋण के रुप में उपलब्ध कराई जाएगी।।
  • भारत सरकार द्वारा पात्र लाभार्थी को 3 प्रतिशत ब्याज अनुदान दिया जाएगा।
  • मूल ऋण राशि पर 2 वर्ष की मोहलत अवधि और उसके बाद 6 वर्ष की पुनर्भुगतान करने की अवधि होगी।
  • एमएसएमई द्वारा निर्धारित सीमा के अंतर्गत आने वाली स्वीकृत परियोजनाओं को क्रेडिट गारंटी फंड की तरफ से क्रेडिट गारंटी उपलब्ध कराई जाएगी। दी जाने वाली गारंटी उधारकर्ता की क्रेडिट सुविधा का 25 प्रतिशत तक होगी।


योजना का लाभ लेने के लिए कैसे करें आवेदन

डेयरी और मांस प्रसंस्करण और मूल्य वर्धित अवसंरचना ढांचे की स्थापना या मौजूदा बुनियादी ढांचे में वृद्धि के लिए निवेश करने वाले इच्छुक लाभार्थी SIDBI के उदमी मित्र पोर्टल से अनुसूचित बैंक में ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस योजना में आवेदन की प्रक्रिया इस प्रकार रहेगी-

  1. सबसे पहले उद्यमी पोर्टल https://udyamimitra.in/ पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  2. इसके बाद आपके सामने आवेदन प्रक्रिया शुरू करने के लिए पेज खुल जाएगा जहां आपको ऋण के लिए आवेदन करना होगा।
  3. उसके बाद पशुपालन विभाग की ओर से आपके आवेदन की समीक्षा की जाएगी।
  4. बैंक/ऋणदाता विभाग से अनुमोदन प्राप्त करने के बाद ऋण स्वीकृत किया जाएगा।

 

COVID Vaccine Process

 

योजना के संबंध में अधिक जानकारी के लिए यहां करें संपर्क

पशुपालन अवसंरचना विकास निधि योजना के संबंध में अधिक जानकारी के लिए आप पशुपालन और डेयरी विभाग की वेबसाइट  https://dahd.nic.in/hi/ahidf  पर जाकर देख सकते हैं।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्तिपुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

త్వరిత లింకులు

scroll to top