• Home
  • News
  • Social News
  • कोविड-19 वैक्सीन : भारत को मिलेगी रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी

कोविड-19 वैक्सीन : भारत को मिलेगी रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी

कोविड-19 वैक्सीन : भारत को मिलेगी रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी

जानें, वैक्सीन स्पूतनिक-वी अन्य वैक्सीन की तुलना में कितनी है असरदार

कोरोना वायरस संक्रमण के तीव्र गति से भारत में हो रहे प्रसार से यहां के हालात नाजुक हो चले हैं। कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के सारे सरकारी प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमण से लड़ रहे भारत के लोगों के लिए एक राहत भरी खबर निकल कर आई है। मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार जल्द ही रूसी कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-वी की पहली खेप भारत आ रही है। इससे पहले भारत में कोविशील्ड और कोवैक्सिन के साथ कोरोना के खिलाफ जंग जारी है। स्पूतनिक-वी की पहली खेप आने के बाद से भारत में टीकाकरण की रफ्तार और तेज हो जाएगी, क्योंकि दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान में एक और वैक्सीन जुड़ जाएगी। रूसी अधिकारी ने इसकी पुष्टि की है कि 1 मई को भारत में स्पूतनिक-वी वैक्सीन की पहली खेप आ जाएगी। बता दें कि स्पूतनिक-वी वैक्सीन को गमालया नेशनल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा विकसित किया गया है। संभवत: ये वैक्सीन की खेप भारत को एक मई को मिल जाएगी। उम्मीद की जा रही है कि रूस की यह वैक्सीन सप्लाई भारत को कोरोनो वायरस महामारी की दूसरी लहर से बाहर निकलने में मदद करेगी।

AdBuy Old Properties

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


भारत में वैक्सीन को मिली आपात इस्तेमाल की मंजूरी

भारत में रूसी कोरोना टीके स्पूतनिक वी के आपात इस्तेमाल को मंजूरी दे दी गई। भारत के केंद्रीय औषधि प्राधिकरण की एक विशेषज्ञ समिति ने देश में कुछ शर्तों के साथ रूसी कोरोना टीके स्पूतनिक वी के आपात इस्तेमाल को मंजूरी देने की सिफारिश की थी, जिस पर भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने अपनी मुहर लगाई। गमालया इंस्टीट्यूट ने दावा किया की कि स्पुतनिक-वी कोरोना के खिलाफ अब तक विकसित सभी टीकों में सबसे अधिक प्रभावी है।

 

कैसे अन्य वैक्सीन से अलग है स्पूतनिक-वी

रूसी कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-वी, एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन की तरह ही एक वायरल वेक्टर वैक्सीन है। मगर किसी भी अन्य कोरोना वैक्सीन के विपरीत, स्पूतनिक-वी वैक्सीन की दोनों खुराक एक दूसरे से अलग होती हैं। स्पूतनिक वी की दोनों खुराकों में अलग-अलग वैक्टरों का उपयोग सार्स-कोव-2 के स्पाइक प्रोटीन को टारगेट करने के लिए किया गया है। बता दें कि कि सार्स-कोव-2 ही कोरोना वायरस का कारण बनता है। वैक्सीन की प्रकृति में भी स्पूतनिक वी की दो खुराक एक ही टीका के थोड़े अलग संस्करण हैं और इसका उद्देश्य कोरोना के खिलाफ लंबी सुरक्षा प्रदान करना है।


क्या है स्पूतनिक-वी की विशेषता

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के डॉ. एन.के. अरोड़ा क अनुसार स्पुतनिक दो डोज का टीका है। पहली खुराक की संरचना दूसरी खुराक से अलग होगी और पहली खुराक और दूसरी के बीच कम से कम तीन से चार सप्ताह का अंतर होना चाहिए। प्रकाशित आंकड़ों से पता चलता है कि इसमें 91 प्रतिशत प्रभावकारिता है। इस पर कुछ और स्पष्टता भी जल्द आएगी।

AdCOVID safety tips

 

वैक्सीन की भारत में क्या होगी कीमत

कंपनी ने इसकी कीमत को लेकर कहा है कि भारत में स्पूतनिक 1 के एक डोज के लिए अधिकतम 10 डॉलर (करीब 750 रुपए) खर्च करने होंगे। हालांकि, स्पूतनिक वैक्सीन की आधिकारिक कीमत का ऐलान नहीं हुआ है। फिलहाल, भारत में जो दो वैक्सीन है, उसे केंद्र सरकार 250 रुपए में खरीदती है। 


भारत के साथ ही इन देशों ने भी दी स्पूतनिक-वी को मंजूरी

तुर्की, चिली और अल्बानिया के अलावा, 60 अन्य देशों ने स्पुतनिक-वी को मंजूरी दे दी है। जिनमें रूस, बेलारूस, अर्जेंटीना, बोलीविया, सर्बिया, अल्जीरिया, फिलिस्तीन, वेनेजुएला, पैराग्वे, तुर्कमेनिस्तान, हंगरी, यूएई, ईरान, रिपब्लिक ऑफ गिनी, ट्यूनीशिया, आर्मेनिया, मैक्सिको, निकारागुआ, रिपब्लिका श्रीपस्का (बोस्निया और हर्जेगोविना की इकाई), लेबनान, म्यांमार, पाकिस्तान, मंगोलिया, बहरीन, मोंटेनेग्रो, सेंट विंसेंट और ग्रेनेडाइंस, कजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान, गैबॉन, सैन-मेरिनो, घाना, सीरिया, किर्गिस्तान, गुयाना, मिस्र, होरासुर, ग्वाटेमाला, मोल्दोवा, स्लोवाकिया, अंगोला, कांगो गणराज्य, जिबूती, श्रीलंका, लाओस, इराक, उत्तरी मैसेडोनिया, केन्या, मोरक्को, जॉर्डन, नामीबिया, अजरबैजान, फिलीपींस, कैमरून, सेशेल्स, मॉरीशस, वियतनाम, एंटीगुआ और बारबुडा, माली, पनामा, भारत, नेपाल और बांग्लादेश शामिल हैं।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं। 

Top Social News

हार्वेस्टर, थ्रेसर और ट्रैक्टर चालकों के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट होगी जरूरी

हार्वेस्टर, थ्रेसर और ट्रैक्टर चालकों के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट होगी जरूरी

हार्वेस्टर, थ्रेसर और ट्रैक्टर चालकों के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट होगी जरूरी (Corona negative report will be necessary for harvesters, threshers and tractor drivers), जानें, कोरोना काल में किसान खेत में कार्य करते समय क्या-क्या बरते सावधानियां

कोरोना  :  राजस्थान सहित तीन राज्यों में लगा कंप्लीट लॉकडाउन, नई गाइड लाइन जारी

कोरोना : राजस्थान सहित तीन राज्यों में लगा कंप्लीट लॉकडाउन, नई गाइड लाइन जारी

कोरोना : राजस्थान सहित तीन राज्यों में लगा कंप्लीट लॉकडाउन, नई गाइड लाइन जारी (Corona : Complete lockdown, new guide line released), जानें, क्या खुला रहेगा और क्या रहेगा बंद और किन्हें मिलेगी छूट

कोरोना वैक्सीन : इस राज्य में 45 साल से ऊपर वालों का अब बिना रजिस्ट्रेशन नहीं होगा टीकाकरण

कोरोना वैक्सीन : इस राज्य में 45 साल से ऊपर वालों का अब बिना रजिस्ट्रेशन नहीं होगा टीकाकरण

कोरोना वैक्सीन : इस राज्य में 45 साल से ऊपर वालों का अब बिना रजिस्ट्रेशन नहीं होगा टीकाकरण ( Corona Vaccine: Those above 45 years in this state will not be vaccinated without registration now ) कैदियों, भिखारियों का बिना पहचान पत्र के भी टीकाकरण संभव

कोरोना महामारी : लॉकडाउन में ई-पास कैसे बनवाएं

कोरोना महामारी : लॉकडाउन में ई-पास कैसे बनवाएं

कोरोना महामारी : लॉकडाउन में ई-पास कैसे बनवाएं ( Corona Epidemic: How to get an e-pass in lockdown ) जानें, ई-पास बनवाने के लिए कहां करें आवेदन और क्या देने होंगे दस्तावेज

close Icon

Find Your Right Tractor and Implements

New Tractors

Used Tractors

Implements

Certified Dealer Buy Used Tractor