कोरोना : ब्लैक फंगस के बाद अब व्हाइट फंगस ने बढ़ाई मुसीबत

Published - 25 May 2021

कोरोना : ब्लैक फंगस के बाद अब व्हाइट फंगस ने बढ़ाई मुसीबत

जानें, क्या है व्हाइट फंगस और इससे बचने के लिए क्या बरते सावधानियां

भारत में 2020 से जारी महामारी दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना के बाद ब्लैक फंगस और अब एक ओर नई बीमारी व्हाइट फंगस के रूप में सामने आई है। इसने डॉक्टरों की मुसीबत बढ़ा दी है। अभी देश में कोरोना के मामलों में भले ही कमी आई हो लेकिन ब्लैक फंगस के मामले बढऩे लगे हैं और अब व्हाइट फंगस के मामले भी देखने में आ रहे हैं। मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार पूरे देश में महामारी की तरह फैल रहे ब्लैग फंगस के बाद अब व्हाइट यानी सफेद फंगस ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है। सोशल मीडिया पर इससे जुड़ी कई डरावनी खबरें फैल रही हैं। इससे लोगों में इस बीमारी को लेकर काफी दहशत होने लगी है। इन सब के बीच ये जानना जरूरी हो जाता है कि आखिर ये व्हाइट फंगस बीमारी है क्या और ये कैसे फैलती है और इसकी बचाव के लिए हम क्या सावधानियां बरत सकते  हैं। आज हम इसी विषय को लेकर आए हैं ताकि आप इस बीमारी से सचेत  रहे और सावधानी बरते ताकि इससे बचा जा सके।

Buy Used Tractor

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


क्या है व्हाइट फंगस

व्हाइट फंगस बीमारी म्यूकॉरमाइसाइट्स नामक फफूंद से होती है जो नाक के माध्यम से बाकी अंग में पहुंचती है। ये फंगस हवा में होता है जो सांस के जरिए नाक में जाता है। इसके अलावा शरीर के कटे हुए अंग के संपर्क में अगर ये फंगस आता है तो ये संक्रमण हो जाता है। डॉक्टरों के अनुसार ये संक्रमण जो खून के माध्यम से शरीर के हर अंग को प्रभावित करता है। 

Buy Kubota MU4501 4WD


शरीर के किन अंगों कर सकता है प्रभावित

मीडिया में प्रकाशित खबरों के आधार पर विशेषज्ञों के मुताबिक ये नया संक्रमण ब्लैक फंगस से भी ज्यादा खतरनाक है क्योंकि ये केवल एक अंग नहीं, बल्कि फेफड़ों और ब्रेन से लेकर हर अंग पर असर डालता है। चिकित्सकीय भाषा में इसे कैंडिडा कहते हैं, जो रक्त के जरिए होते हुए शरीर के हर अंग को प्रभावित करता है। ये नाखून, स्किन, पेट, किडनी, ब्रेन, प्राइवेट पार्ट और मुंह के साथ फेफड़ों को संक्रमित कर सकता है। 


क्या होते हैं व्हाइट फंगस के लक्षण

  • डाक्टर के अनुसार व्हाइट फंगस के लक्षणों में सिर में तेज दर्द होता है।
  • नाक बंद होना या नाक में पपड़ी सी जम जाती है।
  • आंखें लाल होने के साथ इसमें सूजन दिखाई देती है।
  • पीडि़त व्यक्ति का जी मिचलाता है और उल्टियां होती है। 
  • हाथ, पैरों के ज्वाइंट में तेज दर्द होता है।
  • ब्रेन पर इसका असर होता है तो व्यक्ति की सोचने समझने की क्षमता पर असर दिखता है। 
  • इस बीमारी से पीडि़त व्यक्ति को बोलने में भी समस्या होती है। 
  • शरीर में छोटे-छोटे फोड़े दिखाई देते हैं जो सामान्यतौर पर दर्द रहित रहते हैं।


ब्लैक फंगस से किस तरह है अलग है व्हाइट फंगस

डॉक्टरों के अनुसार व्हाइट फंगस (एस्परगिलोसिस) ब्लैग फंगस जितना खतरनाक नहीं है। ब्लैक फंगस का हमला जहां शरीर के आंतरिक हिस्सों पर है वहीं व्हाइट फंगस शरीर के बाहरी भाग पर होता है। इस संक्रमण का घर रहते इलाज किया जा सकता है। ऐसे बहुत कम मामले हैं जिसमें अस्पताल जाने की जरूरत पड़ी है। ब्लैक फंगस में सर्जरी आदि की जरूरत पड़ती है जबकि व्हाइट फंगस डॉक्टर की सलाह मात्र से दवाएं आदि लेकर ठीक की जा सकती है। व्हाइट फंगस से मृत्यु का खतरा बहुत कम है जबकि ब्लैक फंगल के मामले में 20 से 80 प्रतिशत मृत्युदर दर्ज की गई है। यह तेजी से नहीं फैलता इसलिए इसका इलाज किया जा सकता है।


व्हाइट फंगस से किन लोगों को अधिक खतरा

डॉक्टरों के अनुसार कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके मरीज जो लंबे समय तक ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहे उनमें ये व्हाइट फंगस मिला है। हालांकि ये पहले भी कैंसर, एसचआईवी मरीजों में देखा गया है। इसके अलावा ये संक्रमण कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों में होता है, विशेष रूप से मधुमेह, एचआईवी पेसेन्ट या स्टेरॉयड का प्रयोग करने वाले लोगों में इसका संक्रमण देखने को मिला है। इसके अलावा बच्चों को इससे जल्दी संक्रमित होने का खतरा है। यह बच्चों में दूध की निप्पल और डायपर के गीलेपन की वजह से ज्यादा होता है। इसके अलावा यह आइसोलेशन के कारण उन बुजुर्ग लोगों में भी देखा गया है जो साफ सफाई का ख्याल नहीं रखते और समय पर कपड़े आदि नहीं बदलते। डायबिटीज और कैंसर के मरीजों को भी यह जल्दी अपनी गिरफ्त में लेता है। 

Buy Used Tractor


व्हाइट फंगस से बचाव के लिए क्या बरते सावधानियां

  • अपने घर व उसके आसपास नियमित रूप से साफ-सफाई रखें।
  • प्रतिदिन स्नान करें और साफ कपड़े पहने।
  • प्रतिदिन कुछ देर धूप में रहे और अपने घर के खिडक़ी व दरवाजों को कुछ देर खुला रखें ताकि हवा और प्रकाश आ सके। बता दें कि ये फंगस नमी वाले जगहों पर काफी तेजी से फैलता है। 
  • व्हाइट फंगस के संक्रमण में शरीर, जीभ पर या मुंह में सफेद चकते पड़ जाते हैं। इसलिए समय-समय पर इसका निरीक्षण करते रहना चाहिए। 
  • अगर कुछ भी ऐसा दिखाई पड़ता है तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें। अपनी मर्जी से दवा आदि का सेवन नहीं करें।  
  • जो मरीज ऑक्सीजन या वेंटिलेटर पर हैं उनके ऑक्सीजन या वेंटिलेटर उपकरण विशेषकर ट्यूब आदि जीवाणु मुक्त होने चाहिए।
  • ऑक्सीजन सिलेंडर ह्यूमिडिफायर में स्ट्रेलाइज वाटर का प्रयोग करना चाहिए, जो ऑक्सीजन मरीज के फेफड़े में जाए वह फंगस से मुक्त हो।
  • जिन मरीजों का रैपिड एंटीजन और आरटी-पीसीआर टेस्ट निगेटिव हो और जिनके एचआरसीटी में कोरोना जैसे लक्षण हों, उनका रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट कराना चाहिए।


अभी तक कहां-कहां मिल है व्हाइट फंगस के मामले


मीडिया से मिली जानकारी के आधार पर पिछले दिनों हिसार में व्हाइट फंगस के दो केस मिले हैं। जिला नागरिक अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में उपचाराधीन शुगर पीडि़त दोनों महिलाएं कोरोना संक्रमित हैं। वहीं रोहतक पीजीआई में भी करीब 10 मरीजों का उपचार चल रहा है। बता दें कि व्हाइट फंगस का पता लगाने के लिए भी ब्लैक फंगस की तरह केओएच यानी फंगल कल्चर टेस्ट किया जाता है। वहीं पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल यानी पीएमसीएच में माइक्रोबायोलॉजी विभाग के हेड डॉ. एसएन सिंह के मुताबिक अब तक ऐसे चार मरीज मिले हैं, जिनमें कोरोना जैसे लक्षण थे पर वो कोरोना नहीं बल्कि व्हाइट फंगस से संक्रमित थे। मरीजों में कोरोना के तीनों टेस्ट रैपिड एंटीजन, रैपिड एंटीबॉडी और आरटी-पीसीआर टेस्ट निगेटिव थे। व्हाइट फंगस का पता चलने पर वो सिर्फ एंटी फंगल दवाओं से ठीक हो गए है।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back