पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज प्रतियोगिता में 10 लाख रुपए का पुरस्कार जीतने का मौका

Published - 30 Dec 2021

पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज प्रतियोगिता में 10 लाख रुपए का पुरस्कार जीतने का मौका

जानें, क्या है सरकार की योजना और कैसे जीत सकते हैं पुरस्कार

देश में डेयरी उद्योग को बढ़ावा देने के लिए सरकार की ओर से पशुपालन स्टार्टअप शुरू किया गया है। इस योजना के तहत प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए सरकार की ओर से पुरस्कार भी प्रदान किए जाएंगे। बताया जा रहा है कि इसके लिए एक करोड़ से ज्यादा के पुरस्कार दिए जाएंगे। बता दें कि पिछले दिनों पशुपालन और डेयरी विभाग ने स्टार्टअप इंडिया के साथ साझेदारी में, डॉ वर्गीस कुरियन की जन्म शताब्दी के अवसर पर गुजरात के आणंद में राष्ट्रीय दुग्ध दिवस मनाने के एक कार्यक्रम के दौरान पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज का दूसरा संस्करण लॉन्च किया। इससे पहले स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज का पहला संस्करण 12 सितंबर, 2019 को प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉन्च किया गया था। पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज 2.0 को केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री, श्री पुरुषोत्तम रूपाला द्वारा पशुपालन और डेयरी क्षेत्र के सामने आने वाली छह समस्याओं के समाधान के लिए नवीन और व्यावसायिक रूप से व्यवहारिक हल को तलाशने के लिये लॉन्च किया गया है।

Buy Used Tractor

क्या है पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज प्रतियोगिता

यह सरकार द्वारा शुरू किया गया एक स्टार्टअप है जिसे पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज नाम से लॉन्च किया गया है। जिसमें पशुपालन और डेयरी उद्योग से जुड़ी 6 मुख्य समस्याओं का हल करने के लिए इन्नोवेटिव आइडिया के लिए प्रतियोगिता की जा रही है जिसमें जितने वालों को सरकार 1 करोड़ तक का इनाम देगी। मिली जानकरी के अनुसार हर इन्नोवेटिव आइडिया बताने पर विजेता को 10 लाख रुपए और उपविजेता को 7 लाख रुपए का नकद पुरस्कार देगी। 

प्रतियोगिता आयोजित करने के पीछे सरकार का उद्देश्य

देश में बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी को देखते हुए सरकार ने इस तरह के स्टार्टअप की पहल की है ताकि लोगों को रोजगार मिल सके। इसके साथ ही सरकार चाहती है कि हमारी निर्भरता विदेशों पर कम हो और हम देश में ही अच्छा उत्पादन बढ़ाकर अपनी जरूरतों को पूरा करने के साथ निर्यात को भी बढ़ा सकें। सरकार का मानना है कि इस तरह के स्टार्टअप से डेयरी उद्योग के सामने आ रही समस्याओं के समाधान खोजने में मदद मिलेगी। 

क्या है डेयरी उद्योग की 6 समस्याएं जिनका हल चाहती है सरकार

  1. सीमन डोज के भंडारण और आपूर्ति के लिए लागत प्रभावी, दीर्घकालिक और उपयोगकर्ता के अनुकूल विकल्प
  2. पशुओं की पहचान (आरएफआईडी) और उनका पता लगाने की लागत प्रभावी तकनीक का विकास
  3. हीट डिटेक्शन किट का विकास
  4. डेयरी पशुओं के लिए प्रेग्नेन्सी डाइग्नोसिस किट का विकास
  5. ग्राम संग्रहण केन्द्र से डेयरी संयंत्र तक मौजूद दुग्ध आपूर्ति श्रृखंला में सुधार
  6. कम लागत वाली कूलिंग और दुग्ध परिरक्षण प्रणाली और डेटा लॉगर का विकास
  7. ऊपर बताइ गई समस्या को विस्तार से पढऩे के लिए आप सरकार की ओर से जारी प्रेसनोट का अवलोकन कर सकते हैं। 

लिंक- https://pib.gov.in/PressReleaseIframePage.aspx?PRID=1781203

पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज 2.0 में दिए जाने वाले पुरस्कारों का विवरण

पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज 2.0 में दिए नकद पुरस्कार दिए जाएंगे इसके अलावा और अन्य गतिविधियां इस प्रकार से रहेंगी। जिनका विवरण इस प्रकार से है।

1. नकद पुरस्कार

6 समस्या क्षेत्रों में से प्रत्येक के लिए, एक विजेता को 10 लाख रुपए और एक उपविजेता को 7 लाख रुपये नकद पुरस्कार के रूप में दिए जाएंगे।

2. इन्क्यूबेशन

12 विजेताओं को इन्क्यूबेशन का मौका मिलेगा। इनक्यूबेटर 3 महीने तक इन स्टार्टअप्स के वर्चुअल इनक्यूबेशन, मेंटर मैचमेकिंग, पीओसी डेवलपमेंट और टेस्टिंग सुविधाओं के लिए लैब सुविधा (केस-टू-केस के आधार पर), बिजनेस और इन्वेस्टर वर्कशॉप आयोजित करने और कार्यक्रम के पूरा होने के बाद 9 महीने तक स्टार्टअप की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए जिम्मेदार होगा।

3. वर्चुअल मास्टरक्लास

प्रतियोगिता के लिए आवेदन करने वाले सभी स्टार्टअप्स और इनोवेटर्स को मेंटरशिप प्रदान करने के लिये 6वर्चुअल मास्टरक्लास (प्रत्येक समस्या के लिये एक) का आयोजन किया जाएगा।

Buy Used Tractor

4. मेंटरशिप

प्रत्येक विजेता को 6 महीने के लिये पशुपालन और डेयरी विभाग से एक अनुभवी परामर्शदाता सौंपा जाएगा।

5. सबके सामने आने का अवसर

कार्यक्रम के विजेताओं के उत्पादों / समाधानों को अधिकतम दृश्यता सुनिश्चित करने के लिये कृषि भवन में मंत्री कार्यालय और नई दिल्ली में सचिव कार्यालय में प्रदर्शित किया जाएगा।

प्रदर्शन का दिन

समस्या क्षेत्रों में आवेदक पूल से चुने गये शीर्ष 30स्टार्टअप के लिए वर्चुअल प्रदर्शन दिवस का आयोजन किया जाएगा। इन स्टार्टअप्स को निम्नलिखित अवसर प्राप्त होंगे।

  • दर्शकों जिसमें मंत्रालयों, सरकारी विभागों के अधिकारियों, कोऑपेरिटिव, कॉर्पोरेट निकायों, निवेशक आदि शामिल होंगे, के समक्ष उत्पाद को रखने का अवसर मिलेगा।
  • प्रतिभागियों को मिले व्यक्तिगत वर्चुअल बूथ पर अपने उत्पाद/सेवाओं के प्रदर्शन का अवसर मिलेगा।
  • प्रारंभिक उत्पाद, खरीद के ऑर्डर और वित्त तक पहुंच होगी।

प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए कहां करना होगा आवेदन

इस तरह देखा जाए तो डेयरी मंत्रालय ने पशुओं की संख्या बढ़ाने, पहचान के लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करने, दूध की आपूर्ति सुनिश्चित करने कोल्ड स्टोरेज आदि तैयार करने और गुणवत्ता सुधारने जैसी चुनौतियां दी हैं। मंत्रालय ने चुनौतियां के साथ ये भी साफ किया है वो कारोबारियों से इन समस्याओं को हल करने में क्या उम्मीदें रखते हैं। अगर आप भी डेयरी उद्योग से जुड़े हैं और किसी आइडिये पर काम कर रहे हैं तो आप www.startupindia.gov.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back