एसबीआई ने बदले नियम, 10 हजार रुपए से ज्यादा निकासी पर अब ओटीपी होगा जरुरी

एसबीआई ने बदले नियम, 10 हजार रुपए से ज्यादा निकासी पर अब ओटीपी होगा जरुरी

Posted On - 19 Sep 2020

जानें, क्या है एसबीआई के नए नियम की प्रक्रिया और इसके फायदे

यदि आपका खाता एसबीआई में है तो आपको यह खबर जानना बेहद जरूरी है क्योंकि एसबीआई ने हाल ही में अपने नियमों में बदलाव किया है। यह नियम एटीएम से कैश की निकासी को लेकर है। अब एटीएम से 10, 000 रुपए से अधिक की निकासी ओटीपी व्यवस्था से की जाएगी। इसका प्रमुख कारण यह है कि आए दिन एटीएम पर होने वाली बढ़ते धाखाधड़ी व ठगी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इसे देखते हुए एसबीआई ने रुपए निकलने संबंधी नियम में बदलाव किया है। यह बदलाव खाता धारकों की सुरक्षा को देखते हुए किया गया है। इससे एक ओर खाताधारक को रुपए निकालने में सुविधा होगी। वहीं आए दिन होने वाले ठगी व धोखाधड़ी के मामलों में कमी आएगी। 

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


अब 10,000 रुपए से ऊपर राशि निकलने पर ओटीपी होगा जरूरी

अक्सर देखा जाता है कि कुछ बदमाश किस्म के लोग एटीएम पर ग्राहकों के साथ एटीएम कार्ड का नं. पता करके ठगी की वारदात को अंजाम देते हैं और रुपए निकाल लेते हैं और ग्राहक बैंक पर दोषारोपण करता है। लेकिन अब एसबीआई की ओर से ओटीपी व्यवस्था लागू की गई है जिससे ऐसे में मामलों में कमी आने की पूरी उम्मीद की जा सकती है। जानकारी के अनुसार एसबीआई के नए नियमों के तहत 10,000 रुपए से ऊपर निकालने के लिए आपको पहले बैंक को रिक्वेस्ट भेजनी होगी। आपकी रिक्वेस्ट पर सहमति देते हुए बैंक आपको आपके मोबाइल पर ओटीपी भेजगा और इसी ओटीपी नंबर को डालकर आप पैसे निकल पाएंगे। इसके लिए आवश्यक यह होगा कि आप जो मोबाइल इस्तेमाल कर रहे हैं उसका नंबर बैंक के पास रजिस्ट्रर्ड होना चाहिए।

 


एसबीआई बैंक में कब से लागू किया गया है यह नियम / भारतीय स्टेट बैंक नई लेन-देन नियम 2020

कैश निकासी को लेकर यह नियम 18 सितंबर से एसबीआई की सभी शाखाओं के एटीएम पर लागू होगा। उन्हें एटीएम से 10,000 रुपए या इससे ज्यादा निकालने के लिए मोबाइल साथ रखना होगा। दरअसल, बैंक ने वन-टाइम पासवर्ड (ओटीपी) आधारित कैश विड्रॉल फेसिलिटी का दायरा बढ़ा दिया है। बैंक अपने ग्राहकों को 10 हजार रुपए से ज्यादा की निकासी के लिए यह सुविधा देता है। अब बैंक के सभी एटीएम पर यह सेवा 24 घंटे उपलब्ध होगी। शुक्रवार से इसे लागू कर दिया गया है। अब तक अतिरिक्त सुरक्षा वाली यह सेवा एसबीआई के एटीएम पर सुबह आठ बजे से शाम को 8 बजे तक उपलब्ध रहती थी। बैंक ने ग्राहकों की सुरक्षा के लिए एक जनवरी 2020 को ओटीपी आधारित इस सेवा को शुरू किया था।


 

ओटीपी से कैसे निकालेगे एटीएम से रुपए

जब कोई ग्राहक जब निकाली जाने वाली रकम दर्ज करेगा तो एटीएम स्क्रीन पर ओटीपी एंटर करने के लिए कहा जाएगा। यह ओटीपी ग्राहक के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजा जाएगा। याद रखें कि ओटीपी आधारित कैश विड्रॉल फेसिलिटी केवल एसबीआई एटीएम पर उपलब्ध है। नेशनल फाइनेंशियल स्विच (एनएफएस) में गैर-एसबीआई एटीएम में यह व्यवस्था नहीं की गई है। अमूमन दूसरे बैंक के एटीएम से विड्रॉल की 10 हजार रुपए की सीमा होती है।

 


बैंलेंस चेक करने व मिनी स्टेटमेंट के लिए भी लागू होगा यही सिस्टम

बैंलेंस चेक करने व मिनी स्टेटमेंट पता करने पर भी ओटीपी सिस्टम लागू किया गया है। बैंक का मानना है कि ऐसा करने से ग्राहकों को अधिक सुरक्षा मिलेगी और फ्रॉड या धोखाधड़ी के मामलों में कमी आएगी। बैंक की इस व्यवस्था को ऐसे समझा जा सकता है। जब एसबीआई का कोई ग्राहक एटीएम के जरिये अपने खाते का बैलेंस चेक करेगा तो तो उसके मोबाइल पर एक मैसेज आएगा। इससे ग्राहक को इस तरह की रिक्वेस्ट का पता चल जाएगा। एसबीआई ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल में इस नई सुविधा के बारे में जानकारी दी है।

 इसके अनुसार, जब भी ग्राहक बैलेंस इनक्वायरी या मिनी स्टेटमेंट के लिए अनुरोध करेगा तो उसके मोबाइल पर एक एसएमएस भेजा जाएगा। बैंक ने कहा कि इसमें बताया जाएगा कि उसके डेबिट कार्ड से इस तरह के ट्रांजेक्शन की प्रक्रिया शुरू की गई है। ऐसे में अगर ग्राहक ने ऐसी रिक्वेस्ट नहीं की होगी तो वह अलर्ट हो जाएगा। अगर अकाउंट होल्डर ने ऐसी कोई रिक्वेस्ट नहीं की है तो वह तुरंत अपना कार्ड ब्लॉक कर सकता है। अब से जितनी बार हमें एटीएम के जरिये बैलेंस इनक्वायरी या मिनी स्टेटमेंट के लिए अनुरोध किया जाएगा, हम वैसे ही ग्राहकों को अलर्ट करेंगे। अगर उन्होंने यह ट्रांजेक्शन नहीं किया है तो वे तुरंत अपना डेबिट कार्ड ब्लॉक कर सकते हैं।

यहां यह बात महत्वपूर्ण है कि अगर ग्राहक ने बैलेंस इनक्वायरी या मिनी स्टेटमेंट की रिक्वेस्ट नहीं की है तो उसे बैंक द्वारा किए गए एसएमएस अलर्ट को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यह उनके बैंक अकाउंट में बैलेंस जानने की किसी जालसाज की कोशिश हो सकती है। इस बारे में तुरंत बैंक को जानकारी देनी चाहिए और कार्ड को फ्रीज करवाना चाहिए।

 

अगर आप अपनी  कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण,  दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।  

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back