धान की सीधी बुवाई पर सब्सिडी पाने के लिए 30 जून तक कराएं रजिस्ट्रेशन

धान की सीधी बुवाई पर सब्सिडी पाने के लिए 30 जून तक कराएं रजिस्ट्रेशन

Posted On - 23 May 2022

जानें, कैसे करना है आवेदन और क्या देने होंगे दस्ताबेज

गेहूं की फसल की कटाई और विक्रय के बाद किसान खरीफ फसलों की बुवाई के काम में लग जाएंगे। ऐसे कई राज्यों किसान धान की बुवाई करेंगे। जैसा कि धान की बुवाई में अधिक पानी की आवश्यकता होती है। इसे देखते हुए सरकार की ओर से किसानों को पानी की बचत के लिए धान की सीधी बुवाई करने की सलाह दी जा रही है। हरियाणा सरकार की ओर से राज्य में सीधी बुवाई करने वाले किसानों को अनुदान दिया जा रहा है। इसके लिए किसानों से रजिस्ट्रेशन कराने को भी कहा गया है। राज्य सरकार ने इसके लिए मेरी फसल मेरा ब्योरा पर रजिस्ट्रेशन कराने की सुविधा किसानों को दी है। सरकार की ओर से इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के लिए अंतिम तिथि का निर्धारण भी कर दिया गया है। राज्य के किसान 30 जून 2022 तक धान की सीधी बुवाई के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। 

Buy Used Tractor

सीधी बुवाई करने पर किसानों को मिलेगा 4 हजार रुपए प्रति एकड़ अनुदान

हरियाणा सरकार ने इस खरीफ सीजन के लिए एक लाख एकड़ में सीधी बुवाई का लक्ष्य निर्धारित किया हुआ है। इसको लेकर सरकार की ओर से तैयारियां तेज कर दी गई हैं। राज्य सरकार धान की सीधी बुवाई करने वाले किसानों को 4 हजार रुपए प्रति एकड़ की दर से अनुदान (सब्सिडी) देगी। ये सब्सिडी सीधे किसानों के खातों मेें ट्रांसफर की जाएगी। 

12 जिलों के किसानों को मिलेगी धान की सीधी बुवाई के लिए सब्सिडी

हरियाणा सरकार की ओर से धान की सीधी बुवाई के लिए जिन जिलों का चयन किया गया है उनमें 12 जिलों को शामिल किया गया है। उनमें अंबाला, यमुनानगर, करनाल, कुरुक्षेत्र, कैथल, पानीपत, सोनीपत, जींद, हिसार, सिरसा, रोहतक और फतेहाबाद के किसानों को शामिल किया गया है। 

धान की सीधी बुवाई से क्या होगा लाभ

धान की सीधी बुवाई करने से किसानों को कम पानी की आवश्यकता होगी। इस विधि से बुवाई करने पर करीब 20 प्रतिशत पानी की बचत होती है। इस तकनीक से मशीन से सीधे धान की बुवाई की जाती है। इस विधि से बुवाई करने पर नर्सरी से लेकर पौध रोपण तक की कोई आवश्यकता नहीं होती है। इससे पानी की बचत होती है और किसान का श्रम भी कम लगता है। यह तकनीक उन राज्यों के लिए लाभकारी है जहां पानी का स्तर नीचे जा रहा है। यहां सीधी धान की बुवाई करना ही एक विकल्प है। बता दें कि धान की फसल को सबसे अधिक पानी की आवश्यकता होती है। ये ज्यादा पानी चाहने वाली फसल है और हरियाणा में जल स्तर काफी नीचे चला गया है। ऐसे में राज्य सरकार की ओर से किसानों से कम पानी में धान बुवाई करने के लिए सलाह दी जा रही है। इसके लिए धान की सीधी बुवाई करने पर किसानों को प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। 

Buy Used Tractor

मेरी फसल मेरा ब्यौरा पर किसान कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन

किसान अपनी फसल का ब्यौरा ऑनलाइन दर्ज करवाने के लिए अपने नजदीकी अटल सेवा केंद्रों अथवा कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। इसके अलावा स्वयं भी रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। इस पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया इस प्रकार से है- 

  • सबसे पहले आपको मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट haryana.gov.in  पर जाना होगा।
  • यहां होम पेज पर रजिस्ट्रेशन बटन पर क्लिक करना होगा।
  • यहां सर्च बॉक्स में अपना फोन नंबर या आधार दर्ज करना होगा।
  • पंजीकरण प्रक्रिया को जारी रखने के लिए, किसान को व्यक्तिगत जानकारी जैसे आवेदन का नाम, आवेदक की जन्म तिथि और निवास स्थान, बैंक शाखा का नाम और आईएफएससी कोड आदि जानकारी भरनी होगी। 
  • इसके बाद फिर पंजीकरण प्रक्रिया जारी रखने के लिए अगला (नेक्सट) पर क्लिक करने के लिए कहा जाएगा।
  • पंजीकरण प्रक्रिया को समाप्त करने के लिए, किसान को मंडी या आढती का विवरण देना होगा।
  • इस तरह आप मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

  • फसल का नाम, किस्म और बुवाई का समय मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर दर्ज करना होगा।
  • आधार कार्ड के साथ मोबाइल नंबर लिंक होना जरूरी है। क्योंकि संबंधित जानकारी इसी पर एसएमएस से मिलेगी।
  • जमीन की जानकारी के लिए राजस्व रिकॉर्ड के नकल की कॉपी, खसरा नंबर देखकर भरना होगा।
  • बैंक खाते की एकदम सही जानकारी देनी होगी।

मेरी फसल मेरा ब्यौरा योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक दस्तावेज

मेरी फसल मेरा ब्योरा योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए किसानों को कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता होगी जो इस प्रकार से हैं-

  • आवेदन करने वाले किसान का आधार कार्ड
  • परिवार पहचान-पत्र
  • मूल निवास प्रमाण-पत्र
  • आधार से लिंक मोबाइल नंबर
  • जमीन के कागजात (खसरा खतौनी की कॉपी)
  • पासपोर्ट साइज फोटो  


अगर आप नए ट्रैक्टरपुराने ट्रैक्टरकृषि उपकरण बेचने या खरीदने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार और विक्रेता आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु को ट्रैक्टर जंक्शन के साथ शेयर करें

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back