प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना की शुरूआत, 55 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना की शुरूआत, 55 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

Posted On - 10 Sep 2020

मछली पालकों सहित मत्स्य व्यवसाय से जुड़े लोगों को होगा फायदा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम मत्स्य संपदा योजना (पीएमएमएसवाई) को लॉन्च कर दिया है। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि इस योजना के तहत 55 लाख लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे। इस योजना के लिए सरकार व्यापक स्तर कार्यक्रम चलाएगी। इससे मत्स्य व्यवसाय से जुड़े किसानों को लाभ होने के साथ ही मत्स्य का एक्सपोर्ट भी बढ़ेगा। इस कार्यक्रम के तहत मछली क्रायोबैंक स्थापित किए जाएंगे। जिससे किसानों को उन्नत किस्म की प्रजातियों की मछली के शुक्राणुओं की उपलब्धता हो सकेगी जिससे किसान मछली उत्पादन बढ़ा सकेंगे।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 


प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना क्या है 

एक ऐसी योजना जो भारत में मत्स्य क्षेत्र के सतत और जिम्मेदार विकास के माध्यम से क्रेंद्र सरकार द्वारा नीली क्रांति लाने के लिए शुरू की गई है। इस योजना के तहत इसमें 5 साल में अतिरिक्त 70 लाख टन मछली का उत्पादन हो सकेगा। यह मत्स्य एक्सपोर्ट को दोगुना बढ़ाकर 1,00,000 करोड़ रुपए कर देगी। यह योजना मछली उत्पादन के साथ ही उत्पादकता, प्रौद्योगिकी, आधुनिकीकरण और मूल्य श्रृंखला, ट्रेसबिलिटी, गुणवत्ता आदि को मजबूत करने व महत्वपूर्ण खामियों को दूर करने के इरादे से बनाई गई है।


प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना के लिए बजट

पीएमएमएसवाई मत्स्य क्षेत्र के केंद्रित और टिकाऊ विकास के लिए केंद्र सरकार की एक प्रमुख योजना है। आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत साल 2020-2021 से 2024-2025 की अवधि के दौरान इस योजना में 20,050 करोड़ रुपए का अनुमानित निवेश होना है। पीएमओ के मुताबिक मत्स्य क्षेत्र में यह अब तक का सबसे बड़ा निवेश है। इसमें से लगभग 12,340 करोड़ रुपये का निवेश समुद्री, आंतरिक मत्स्य पालन और अन्य मत्स्य पालन में लाभार्थियों के उन्मुख गतिविधियों के लिए प्रस्तावित है और लगभग 7,710 करोड़ रुपये का निवेश मत्स्य पालन के बुनियादी ढांचे के निर्माण में किया जाना है।

 


प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत होंगे ये काम

  • इस योजना के तहत इससे पांच सालों में अतिरिक्त 70 लाख टन मछली का उत्पादन हो सकेगा। यह मत्स्य एक्सपोर्ट को दोगुना बढ़ाकर 1,00,000 करोड़ रुपए कर देगी।
  • इसके अलावा फिशिंग हार्बर, कोल्ड चेन और मार्केट वगैरह जैसे इंफास्ट्रक्चर को बनाने में 9,000 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।
  • इसी के साथ केज कल्चर, सीवीड फार्मिंग, ऑर्नामेंटल फिशरीज के साथ न्यू फिशिंग वेसेल, लेबोरेटरी नेटवर्क जैसी गतिविधियां को भी इसमें शामिल किया जाएगा।


प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के लिए पात्रता

 

मछुआरा समुदाय के लोग

इस योजना का लाभ केवल मछुआरा समुदाय से संबंध रखने वाले लोगों को मिलेगा.
जलीय कृषि- ऐसे व्यक्ति जो कि जलीय क्षेत्रों से संबंध रखते हैं और जलीय कृषि का कार्य करते हैं या इसके लिए इच्छुक हैं, उन्हें इसके लिए पात्र माना जाएगा।

 

प्राकृतिक आपदा से ग्रसित मछुआरे

ऐसे मछुआरे जो कि किसी प्राकृतिक आपदा का बुरी तरह से सामना कर उससे ग्रसित हुए हैं, उन्हें भी इसका फायदा मिलेगा।

 

जलीय जीवों की खेती

ऐसे व्यक्ति या मछुआरे जो कि मछली पालन का कार्य करना तो जानते हैं पर इसी के साथ ही जलीय अन्य जीवों की खेती कर सकें उन्हें भी इस योजना में शामिल कर लाभ प्रदान किया जाएगा।

 

 

अब मछली पालकों को क्रेडिट कार्ड से मिलेगा तीन लाख रुपए तक का लोन

सरकार ने मछली पालकों को भी किसान क्रेडिट कार्ड से जोड़ दिया है। इससे मछली पालकों के लिए भी कम ब्याज दर पर लोन मिलना आसान हो जाएगा। अब मछली पालक किसान इस योजना के तहत किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से किसान मछली, झींगा मछलियों के पालन और कारोबार के समय आने वाली पैसों की जरूरत को पूरा करने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड के जरिये तीन लाख रुपए तक का लोन 4 फीसदी ब्याज पर ले सकेंगे। इसके तहत ऋण को समय से चुकाने पर ब्याज में अतिरिक्त छूट भी दी जाती है। क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए मछली पालक किसान बैंक में अप्लाई कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए आपको पहले बैंक में एक एप्लीकेशन देनी होगी और उसके साथ फोटो, पहचान पत्र, निवास प्रमाण पत्र, जमीन की खसरा खतौनी की फोटो कॉपी सहित मोबाइल नंबर देना होगा।


प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना में आवेदन कैसे करें

यह योजना प्रधानमंत्री द्वारा अभी 10 सितंबर को लॉन्च की गई है। अभी इस योजना में कैसे आवेदन करना है इसकी जानकारी सरकार की ओर से नहीं दी गई है। और न ही अभी इसके लिए कोई वेबसाइट जारी होने की कोई जानकारी है। जैसे ही इस योजना में आवेदन के संबंध में जानकारी हमें उपलब्ध होगी हम आपको इससे अवगत कराएंगे इसलिए बने रहिए टै्रक्टर जंक्शन के साथ।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back