कुसुम योजना : सोलर पंप पर मिलेगी 75 प्रतिशत सब्सिडी

कुसुम योजना : सोलर पंप पर मिलेगी 75 प्रतिशत सब्सिडी

Posted On - 27 Nov 2021

जानें सोलर पंप पर कैसे मिलेगी सब्सिडी और कहां करना है आवेदन 

रबी की बुवाई का समय चल रहा है और किसानों को फसलों की सिंचाई के लिए पंप और बिजली कनेक्शन की आवश्यकता होती है। इसके लिए किसानों को सरकार की ओर से सोलर पंप सब्सिडी पर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इसके अलावा किसानों को सिंचाई कार्य  हेतु अस्थाई बिजली कनेक्शन दिए जा रहे हैं ताकि किसानों को फसलोत्पादन में कोई समस्या नहीं हो। इधर किसानों की ओर से भी सोलर पंप और बिजली कनेक्शन की मांग बढ़ाने लगी है। इस बात को ध्यान मेें रखते हुए हरियाणा सरकार राज्य के किसानों को 75 प्रतिशत सब्सिडी पर सोलर पंप दे रही है। इसके अलावा राज्य सरकार की ओर से भी किसानों को अस्थाई बिजली, मीटर कनेक्शन दिए जा रहे हैं। जो किसान भाई रबी सीजन के लिए अपने खेतों में बिजली करनेक्शन, मीटर कनेक्शन या सोलर पंप लेना चाहते हैं, वे इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। 

Buy Used Livestocks

हरियाणा सरकार ने क्या दिए हैं निर्देश

मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार हरियाणा सरकार ने रबी सीजन को देखते हुए जल्द ही किसानों को बिजली कनेक्शन एवं सोलर पंप इनस्टॉल करने के निर्देश दे दिए हैं। हरियाणा बिजली, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा व जेल मंत्री श्री रणजीत सिंह ने कहा कि उनका प्रयास है कि किसानों को खेतों में सिंचाई के लिए अधिक से अधिक बिजली कनेक्शन जल्द दिए जाएं और खेतों में सोलर पंप इंस्टाल करवाए जाएं, ताकि उन्हें फसल उत्पादन करने में कोई समस्या न आए। 

किसानों को 75 प्रतिशत सब्सिडी पर दिए जाएंगे सोलर पंप

ऊर्जा मंत्री ने बताया कि दो एकड़ से पांच एकड़ तक की खेती के लिए किसान 5 हार्स पावर व 10 हार्स पावर के सोलर पंप को काफी पसंद कर रहे हैं। किसानों की सुविधा के लिए 20 हजार सोलर पंप मंजूर किए गए थे, जिनमें से 6 हजार सोलर पंप लगाए जा चुके हैं तथा 14 हजार सोलर पंप जल्द ही इंस्टाल कर दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि सोलर पंप पर भारत सरकार की ओर से 35 प्रतिशत तथा हरियाणा सरकार की ओर से 40 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है, जोकि कुल मिलाकर 75 प्रतिशत सब्सिडी बनती है और किसान को केवल कुल लागत का 25 प्रतिशत खर्च ही वहन करना पड़ता है। 

15 हजार नए बिजली ट्यूबवेल कनेक्शन को मिली मंजूरी

हरियाणा बिजली, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री ने बताया कि बिजली निगम की ओर से 15 हजार बिजली के नए ट्यूबवैल कनेक्शन को मंजूरी दी गई है, जो जल्द ही किसानों को दिए जाएंगे और जून 2022 तक प्राप्त सभी आवेदनकर्ता किसानों को कनेक्शन दे दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि हाई पावर परचेज कमेटी की बैठक में भी बिजली के नए उपकरण खरीदने की मंजूरी मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की ओर से दी गई है।

अब तक हरियाणा सरकार ने कितने किसानों को दिए सोलर पंप

केंद्र सरकार की ओर से हरियाणा राज्य को 520 करोड़ रुपए की लागत से 15,000 सोलर पंप लगाने का लक्ष्य दिया गया था। हरियाणा सरकार ने 14,418 सोलर पंप लगाने का लक्ष्य प्राप्त कर लिया है। इसके साथ ही देश भर में हरियाणा इस योजना को लागू करने में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। हरियाणा में प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान का लाभ हरियाणा के सीमांत किसान तथा डीजल पंप से सिंचाई करने वाले किसान ज्यादा है। राज्य में सोलर पैनल से 105 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जा रहा है। 

हरियाणा में सोलर पंप पर कितनी मिलती है सब्सिडी 

कुसुम योजना के तहत अधिकांश राज्यों में किसानों को 60 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है। लेकिन हरियाणा में 75 प्रतिशत सब्सिडी के साथ 3 एचपी से 10 एचपी क्षमता के स्टैंडअलोन सोलर पंप स्थापित किए जा रहे हैं। इस योजना के तहत भारत सरकार 30 प्रतिशत केंद्रीय वित्तीय सहायता और राज्य सरकार 45 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान कर रही है। किसानों को कुल पंप लागत का केवल 25 प्रतिशत भुगतान करना होता है। इस योजना के तहत सोलर पंप को सिंचाई  / जल प्रयोक्ता संघ / समुदाय / क्लस्टर आधारित सिंचाई प्रणाली आदि के लिए किया जा सकता है। इसके साथ ही सोलर पम्प के रख रखाव, आपदा से नुकसानी तथा चोरी होने पर भरपाई के लिए बीमा कराया जाएगा। सोलर पम्प का बीमा 5 वर्षों के लिए रहता है।

अब तक कितने किसानों ने किया सोलर पंप के लिए आवेदन

सोलर पंप लगाने के लिए किसानों के तरफ से मांग इतनी ज्यादा है कि 15000 पंपों के लक्ष्य के मुकाबले विभाग को 42,000 से अधिक ऑनलाइन आवेदन प्राप्त हुए हैं। इस प्रतिक्रिया को देखते हुए विभाग ने चालू वित्त वर्ष के लिए 844 करोड़ रुपए की कुल परियोजना लागत के साथ 22,000 पंप स्थापित करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। 

क्या है पीएम-कुसुम योजना ( What is PM Kusum Scheme ) 

केंद्र सरकार के नवीन एवं नवीनकरनीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) द्वारा शुरू की गई कुसुम योजना के तहत किसानों को सब्सिडी पर सोलर पंप दिए जाते हैं, जिससे कृषि की लागत तो कम होती ही है साथ ही किसान निर्वाध रूप से फसलों की सिंचाई कर सकते हैं। केंद्र तथा राज्य सरकारों के द्वारा दी जा रही सब्सिडी के कारण किसान को कम मूल्य में सोलर पंप मिल जाते हैं। इससे किसान अपने खेतों पर सोलर पंप की मदद से सिंचाई कर सकते हैं। इसके अलावा किसान अतिरिक्त बिजली उत्पादन कर ग्रिड को बेचकर पैसा भी कमा सकते हैं। इस तरह ये योजना 
किसानों के लिए दो तरफा फायदा पहुंचाती है।  

COVID Vaccine Process

कुमुम योजना में आवेदन हेतु आवश्यक दस्तावेज (Documents for Kusum Yojana)

कुमुम योजना में सोलर पंप लगवाने हेतु आवेदन करते समय किसान कुछ आवश्यक दस्तावेज की जरूरत होगी। वे इस प्रकार से हैं-

  • आवेदन करने वाले किसान का आधार कार्ड    
  • किसान का वोटर आईडी कार्ड    
  • आवेदन करने वाले किसान का मूलनिवास प्रमाण-पत्र
  • किसान के नाम के भूमि के कागज    
  • आवेदन करने वाले किसान का रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर    
  • आवेदन करने वाले किसान का पासपोर्ट साइज फोटो
  • किसान का आय प्रमाण-पत्र    
  • किसान की बैंक पासबुक ओर अकाउंट नंबर (इसके लिए पासबुक की प्रथम पेज की कॉपी संलग्न करनी होगी।)

कुसुम योजना के संबंध में अधिक जानकारी के लिए कहां करें संपर्क

केंद्रीय नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा दरों एवं फर्मों को अंतिम रूप देने के तुरंत बाद आवेदन आमंत्रित किए जाएंगे। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए पीएम कुसुम योजना के लिए दिए गए टोल फ्री नंबर 1800-180-3333 पर संपर्क किया जा सकता है। यहां आपको केंद्र सरकार की वेबसाइट और हरियाणा सरकार की वेबसाइट का लिंक दिया गया है।

कुसुम योजना 2021 : केंद्र सरकार की वेबसाइट

https://mnre.gov.in/

कुसुम योजना हरियाणा 2021 : हरियाणा सरकार की वेबसाइट

https://saralharyana.gov.in/

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top