कोच्चि में प्राकृतिक गैस पाइप लाइन का उद्घाटन, जानें-क्या है प्राकृतिक गैस पाइप लाइन प्रोजेक्ट

कोच्चि में प्राकृतिक गैस पाइप लाइन का उद्घाटन, जानें-क्या है प्राकृतिक गैस पाइप लाइन प्रोजेक्ट

Posted On - 05 Jan 2021

पीएम मोदी ने कहा - बढ़ेंगे रोजगार के अवसर, बताए 10 फायदे

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोच्चि-मंगलुरु प्राकृतिक गैस पाइपलाइन का उद्घाटन किया। यह 450 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन केरल के कोच्चि से एर्नाकुलम, त्रिशूर, पलक्कड़, मलप्पुरम, कोझीकोड, कन्नूर और कासरगोड जिलों से कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले के मंगलुरु तक प्राकृतिक गैस ले जाएगी। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि 450 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन को राष्ट्र को समर्पित करना सम्मान की बात है। यह भारत के लिए, विशेष रूप से कर्नाटक और केरल के लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। इस मौके पर कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला, मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के साथ केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद रहे।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


21 लाख लोगों को मिलेगा लाभ, रोजगार के अवसर बढ़ेंगे

पीएम मोदी ने कहा कि कहा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी से जुड़े सेक्टर को, इसमें जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर को भी बहुत अधिक प्रोत्साहन दिया जा रहा है। हर देशवासी को सस्ता, पर्याप्त और प्रदूषण रहित ईंधन मिले, बिजली मिले, इसके लिए हमारी सरकार पूरी प्रतिबद्धता से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि 2014 तक हमारे देश में सिर्फ 25 लाख पीएनजी कनेक्शन थे। आज देश में 72 लाख से ज्यादा घरों की रसोई में पाइप लाइन से गैस पहुंच रही है। कोची-मैंगलुरू पाइप लाइन से 21 लाख नए लोग पीएनजी सेवा का लाभ ले पाएंगे। प्रधानमंत्री ने यहां कहा कि पाइप लाइन के शुरू होने के बाद भी रोजगार और स्वरोजगार का एक नया इकोसिस्टम केरल और कर्नाटक में बहुत तेजी से विकसित होगा।

 


 

पीएम ने गिनाए कोच्चि - मंगलुरु प्राकृतिक गैस पाइपलाइन के 10 फायदें

  • पीएम मोदी ने कहा कि ये पाइप लाइन दोनों राज्यों में लाखों लोगों के लिए ईज ऑफ लिविंग बढ़ाएगी।
  • दूसरा ये पाइप लाइन दोनों ही राज्यों के गरीब, माध्यम वर्ग और उद्यमियों के खर्च कम करेगी।
  • उन्होंने कहा कि तीसरा ये पाइप लाइन शहरों में सिटी गैस डिस्ट्रब्यूशन सिस्टम का माध्यम बनेगी।
  • चौथा, ये अनेक शहरों में सीएनजी आधारित ट्रांस्पोर्ट सिस्टम को विकसित करने का माध्यम बनेगी।
  • पांचवां ये मैंगलोर कैमिकल और फर्टिलाइजर प्लांट को ऊर्जा देगी, कम खर्च में खाद बनाने में मदद करेगी।
  • छठा ये पाइप लाइन मैंगलोर रिफाइनरी और पेट्रो कैमिकल को ऊर्जा देगी, स्वच्छ ईंधन देगी।
  • 7वां फायदा, ये दोनों ही राज्यों में प्रदूषण कम करेगी।
  • 8वां, प्रदूषण कम करने का सीधा असर पर्यावरण पर होगा।
  • 9वां, पर्यावरण बेहतर होने से लोगों की सेहत अच्छी होगी।
  • 10वां, जब प्रदूषण कम होगा, शहरों में गैस आधारित सेवा होगी, तो टूरिज्म को भी बढ़ावा मिलेगा।

 

यह भी पढ़ें : एक ही मोबाइल नंबर से बनवाएं पूरे परिवार का पीवीसी आधार कार्ड


प्रोजेक्ट में आईं कई दिक्कतें


पीएम मोदी ने कहा कि, इस प्रोजेक्ट में कई दिक्कतें भी आईं, लेकिन हमारे श्रमिकों, इजीनियरों, किसानों और राज्य सरकारों के सहयोग से ये काम पूर्ण हुआ। कहने को तो ये पाइप लाइन है, लेकिन दोनों राज्यों के विकास को गति देने में इसकी बहुत बड़ी भूमिका होने वाली है। 


क्या है प्राकृतिक गैस पाइपलाइन प्रोजेक्ट और कितना सरकारी अनुदान

इन वर्षों में, एक प्रमुख गैस पाइपलाइन ऑपरेटर के रूप में गेल ने प्राकृतिक गैस पाइपलाइन के बुनियादी ढांचे और प्राकृतिक गैस बाजार के विकास और विकास में योगदान दिया है। इसमें मौजूदा 12,502 किलोमीटर है। 204 MMSCMD की क्षमता वाला गैस पाइपलाइन नेटवर्क। गेल के मौजूदा प्राकृतिक गैस पाइपलाइन नेटवर्क में 18 राज्य (आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड शामिल हैं) और 3 यूटी (  दिल्ली, पुदुचेरी और दादरा नगर हवेली )। 

 

यह भी पढ़ें : मोटर वाहन संबंधित दस्तावेजों की वैधता 31 मार्च 2021 तक बढ़ाई

 

परियोजना के लिए सरकार की ओर से  5176 करोड़ रुपए पूंजी अनुदान

गेल राष्ट्रीय गैस ग्रिड के एक हिस्से के रूप में देश की लंबाई और चौड़ाई में अपनी पाइपलाइन संरचना का विस्तार करने के लिए निरंतर प्रयास कर रहा है। हस्त पाइपलाइन परियोजनाओं के निष्पादन के साथ, गेल पैन इंडिया के आधार पर अपनी प्राकृतिक गैस पाइपलाइन संरचना का विस्तार कर रहा है और इसकी उपस्थिति 24 राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों में होगी। मंगलवार को गेल द्वारा निर्मित कोच्चि-मंगलुरु प्राकृतिक गैस पाइपलाइन का उद्घाटन पीएम मोदी ने किया है। बता दें कि इस परियोजना के लिए सरकार की ओर से पूंजी अनुदान 5176 करोड़ रुपए है जो परियोजना की लागत का 40 प्रतिशत है।

 

 

अगर आप अपनी  कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण,  दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back