फसली ऋण : किसान फसली ऋण लेने के लिए कैसे करें आवेदन

फसली ऋण : किसान फसली ऋण लेने के लिए कैसे करें आवेदन

Posted On - 18 Nov 2020

जानें, क्या है फसली ऋण और इसके आवेदन की प्रक्रिया (crop loan)

किसान को फसल उगाने के दौरान कई प्रकार के खर्चें करने पड़ते हैं, लेकिन पूंजी की कमी के कारण किसान इन खर्चों को पूरा करने में असमर्थ हो जाता है। फसल उत्पादन के दौरान बजार से उन्नत बीज, खाद व यूरिया खरीदना सहित मशीनीरी खरीदने की अवश्यकताएं होती है। इन आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए किसान अपने ही गांव के साहूकार से ऋण लेता है जिस पर उसे काफी महंगा ब्याज चुकाना पड़ता है। इससे किसान अनाश्यक रूप से ऊंची दर पर अधिक ब्याज चुकाते हुए कर्ज के बोझ के तले दब जाता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार की ओर से सहकारी समितियों के माध्यम से किसानों को सस्ती दर पर ऋण उपलब्घ कराया जाता है। जिससे वे यहां से कम ब्याज दर पर ऋण लेकर अपनी कृषि संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति कर सकें। वहीं देश में कई बैंक हैं जो किसानों को अल्पवधि के लिए फसल उत्पादन में आने वाले खर्चों को पूरा करने के लिए ऋण प्रदान करते हैं। आमतौर पर ऐसे ऋण को फसल कटने पर एक मुश्त चुकाया जाता है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


क्या है फसली ऋण

छोटी अवधि के लिए लिया गया लोन अल्पकालीन फसली ऋण कहलाता हैं। फसल ऋण को अल्पावधि ऋण भी कहा जाता हैं। इस तरह से किसान जरूरत पढऩे पर जैसे जुताई, बुवाई, निराई, प्रत्यारोपण, बीजों, उर्वरकों, कीटनाशकों आदि से खेत में पैदावार बढ़ाने के लिए छोटी अवधि का लोन लेता है। इन्हें ही अल्पावधि ऋण या अल्पकालीन फसली ऋण कहा जाता हैं।

 


देश के ये बैंक देते हैं किसानों को अल्पकालीन फसली ऋण

भारत में भारतीय स्टेट बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आईडीबीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, आंध्रा बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ इंडिया, यूको बैंक, ऐक्सिस बैंक, इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, केनरा बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, पंजाब एंड सिंध बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, कॉर्पोरेशन बैंक किसानों को अल्पकालीन फसली ऋण प्रदान करते हैं जिनकी ब्याज दरें भी सस्ती होती है। इसके अलावा देश के शीर्ष सात बैंक ऐसे हैं जो किसानों को फसली के अलावा विभिन्न उद्देश्यों के लिए कृषि ऋण भी प्रदान करते हैं। इनमें देना बैंक, भारतीय बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, विजय बंक, सिंडीकेट बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया हैं।


एसबीआई से फसली ऋण लेने की प्रक्रिया

भारतीय स्टेट बैंक, देश का सबसे बड़ा ऋणदाता एसीसी या केसीसी के रूप में फसल उत्पादन के लिए ऋण प्रदान करता है। एबीआई लोन में निम्नलिखित बातें शामिल हैं - फसल उत्पादन खर्च, फसल कटाई के बाद के खर्च और आकस्मिकता, आदि। किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) को इलेक्ट्रॉनिक रूपे कार्ड के रूप में दिया जाता है, जिसके माध्यम से किसान एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं, पीओएस जैसे उर्वरक खरीद सकते हैं।


फसली ऋण के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • मतदाता पहचान पत्र / पैन कार्ड / आधार कार्ड / पासपोर्ट / ड्राइविंग लाइसेंस जैसे पहचान प्रमाण
  • एड्रेस प्रूफ जैसे आधार कार्ड / वोटर आईडी कार्ड / पासपोर्ट / ड्राइविंग लाइसेंस
  • संपर्क के लिए आपका मोबाइल नंबर, जिस पर बैंक द्वारा मैसेज भेजा जाएगा।


फसली ऋण के लिए आवेदन कैसे करें

ऑफलाइन प्रक्रिया

फसल ऋण के लिए आवेदन करने के लिए आप अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाएं और बैंक के अधिकारी से मिलें और उसे बताएं कि आप फसल ऋण के लिए आवेदन करना चाहते हैं। बैंक अधिकारी आपको एक फॉर्म देगा और पूरी प्रक्रिया समझाएगा। इसके बाद आप फार्म को सावधानीपूर्वक अच्छे से पढ़ें और इसमें मांगी गई सूचना सही-सही भरकर बैंक में जमा करा दें। यदि आपका बैंक से लोन स्वीकार हो जाता है तो आपको बैंक की ओर से मैसेज भेज दिया जाता है।

 

 

ऑनलाइन प्रक्रिया / SBI Crop Loan

आप अपने बैंकों की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको जिस बैंक से आप लोन लेना चाह रहे हैं उसकी बेवसाइट पर जाकर लोन के लिए आवेदन करना होगा। जैसे आप एसबीआई बैंक से फसल ऋण लेना चाहते हैं तो उसकी बेवसाइट https://sbi.co.in/hi/web/agri-rural/agriculture-banking/crop-loan#show पर जाकर इस संबंध में जानकारी लेकर आवेदन करना होगा।


एसबीआई फसल ऋण की विशेषताएं और लाभ

  • यह केसीसी खाते में क्रेडिट बैलेंस पर बैंक दर को बचाने के लिए ब्याज देता है।
  • सभी केसीसी उधारकर्ताओं के लिए निशुल्क एटीएम सह डेबिट कार्ड
  • प्रति वर्ष 2 प्रतिशत की ब्याज दर पर ऋण राशि के लिए दिया जाता है। 3 लाख
  • शीघ्र पुनर्भुगतान के लिए 3 प्रतिशत प्रति वर्ष अतिरिक्त ब्याज उपकर
  • सभी केसीसी ऋणों के लिए अधिसूचित फसलें या अधिसूचित क्षेत्र फसल बीमा के अंतर्गत आते हैं।
  • केसीसी सीमा तक के लिए संपार्शि्वक सुरक्षा माफ़ की जाती है। 1 लाख।
  • एसबीआई के फसली ऋण संबंध में जानने योज्य महत्वपूर्ण बातें-
  • 1 वर्ष के लिए ऋण की मात्रा का मूल्यांकन खेती की लागत, फसल के बाद के खर्च और खेत के रखरखाव की लागत के आधार पर किया जाता है।
  • बाद के 5 वर्षों के लिए वित्त के पैमाने में वृद्धि के आधार पर ऋण को मंजूरी दी जाती है।
  • SanctionedKCClimit को फिक्सिंगकोलेटरल सिक्योरिटी की आवश्यकता के उद्देश्य से बदला जाता है।
  • साधारण ब्याज दर 7 प्रतिशत प्रति वर्ष एक वर्ष के लिए या देय तिथि तक, जो भी पहले हो, तक लिया जाता है।
  • नियत तारीखों के भीतर पुनर्भुगतान न करने की स्थिति में कार्ड दर पर ब्याज लगाया जाता है।
  • नियत तारीख से अधिक ब्याज अर्धवार्षिक रूप से लिया जाता है।
  • जिन फसलों के लिए ऋण दिया गया है, उनके लिए प्रत्याशित कटाई और विपणन की अवधि के अनुसार पुनर्भुगतान अवधि तय की जा सकती है।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back