किसानों को शून्य ब्याज दर पर दिया जाएगा 18500 करोड़ का लोन

किसानों को शून्य ब्याज दर पर दिया जाएगा 18500 करोड़ का लोन

Posted On - 21 Oct 2021

जानें, किस योजना के तहत मिलेगा लोन और किसानों को इससे लाभ

देश में किसानों को सस्ता ऋण प्रदान करने के लिए सरकार ने बैंकों के माध्यम से कई योजनाएं चला रखी हैं। इन योजनाओं के तहत किसान आवेदन करके सस्ता ऋण लेकर अपनी कृषि संबंधी आवश्यकताओं को पूरा कर सकते हैं। इस रबी की बुवाई को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने किसानों को कृषि आदानों की खरीद जैसे- खाद, बीज, उर्वरक सहित अन्य खर्चों को पूरा करने के लिए शून्य ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराने की सुविधा किसानों को प्रदान की है। इसके तहत सरकार की ओर से किसानों को कम ब्याज दरों पर ऋण उपलब्ध कराया जाता है।

Buy Used Livestocks

क्या है सरकार की शून्य ब्याज दर योजना

राजस्थान सरकार किसानों को शून्य ब्याज दर ऋण योजना तहत किसानों को ऋण उपलब्ध करा रही है। इसमें बैंको के माध्यम से किसानों को कृषि जरूरतों को पूरा करने के लिए अल्पकालीन ऋण प्रदान किया जाता है। किसान यह ऋण बैंक से केसीसी यानि किसान क्रेडिट कार्ड पर या सहकारी बैंकों से राज्य सरकार की योजनाओं के तहत लें सकते हैं। सरकार द्वारा यह अल्पकालिक फसली ऋण खरीफ एवं रबी फसलों के लिए दिया जाता है। किसान यदि यह ऋण समय पर जमा कर देता है तो उन्हें इस ऋण पर बहुत कम ब्याज या कुछ राज्यों में बिना किसी ब्याज के मिलता है।

राजस्थान में किसानों को मिलेगा शून्य ब्याज दर पर ऋण

राजस्थान सरकार की ओर से किसानों को अल्पकालीन फसली ऋण बिना किसी ब्याज के सहकारी बैंकों केे माध्यम उपलब्ध कराया जाता है। राज्य सरकार ने इस वर्ष किसानों को ऋण देने के लिए लक्ष्य तय कर दिया है। साथ ही इस वर्ष सरकार 3 लाख नए किसानों को फसली ऋण देने लक्ष्य तय किया है। सरकार का मानना है कि रबी फसल की बुवाई के समय किसानों को ऋण प्रदान करने से वे सही समय पर कृषि आदानों की खरीद कर बुवाई का काम शुरू कर सकेंगे।

मार्च 2022 तक दिया जाएगा 18500 करोड़ रुपए का ऋण देने का लक्ष्य

मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार सहकारिता मंत्री श्री उदयलाल आंजना ने बताया कि सहकारी बैंकों से जुड़े किसानों को अधिक मात्रा में अल्पकालीन फसली ऋण उपलब्ध कराने के उददेश्य से वर्ष 2021-22 में 16,000 करोड़ रुपए के फसली ऋण वितरण के लक्ष्य को बढ़ाकर 18,500 करोड़ रुपए कर दिया है। किसानों को इस वित्तीय वर्ष में 2500 करोड़ रुपए का ज्यादा फसली ऋण वितरित होगा।

COVID Vaccine Process

वर्तमान में ऋणी किसानों को भी मिलेगा ऋण

पिछले वर्ष राज्य के केंद्रीय सहकारी बैंकों द्वारा 26,34,355 किसानों को 15235.33 करोड़ रुपए के फसली ऋण किसानों को दिए थे। इस वर्ष 3 लाख नए किसानों को राज्य सरकार की शून्य ब्याज दर योजना का लाभ उपलब्ध करवाये जाने का लक्ष्य रखा गया है। साथ ही वर्तमान ऋणी किसानों को अधिक मात्रा मे ऋण मुहैया करवाए जाने के निर्देश सहकारी बैंकों को दिए गए हैं।

तीन लाख नए किसानों जोड़ा जाएगा

इस वर्ष बजट 2021-22 में केंद्रीय सहकारी बैंकों द्वारा किसानों को 16000 करोड़ रुपए के अल्पकालीन फसली ऋण वितरित करने की घोषणा की गई थी, साथ ही 3 लाख नए किसानों को राज्य सरकार की शून्य ब्याज पर फसली ऋण योजना से जोड़ जाने की भी घोषणा की गई थी। चालू वर्ष में 2.40 लाख नए किसानों द्वारा ऑनलाइन पोर्टल पर पंजीकरण एवं आवेदन किया गया है, जिसमें से 1.25 लाख नए किसानों को 248.69 करोड़ रुपए का ऋण शून्य ब्याज दर पर दिया जा चुका है तथा सहकारी बैंकों द्वारा खरीफ 2021 में करीब 25.68 लाख किसानों को 9359.87 करोड़ के फसली ऋण वितरित किए जा चुके हैं।

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top