सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना : 10 किसानों के समूह मिलकर लगवा सकते हैं ट्यूबवेल

सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना : 10 किसानों के समूह मिलकर लगवा सकते हैं ट्यूबवेल

Posted On - 23 Nov 2020

योजना के लिए सरकार ने रखा 600 लाख रुपए का बजट, जानें, ट्यूबवेल लगावाने के लिए किसान कहां और कैसे करें आवेदन?

उत्तरप्रदेश सरकार की ओर से किसानों के लिए सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना शुरू की गई है। इस संबंध में हाल ही में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2020-21 से निजी लघु सिंचाई कार्यक्रम के तहत ‘सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना शुरू किए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है। नई योजना के रूप में वर्ष 2019-20 से प्रस्तावित की जा रही है। योजना के तहत लघु एवं सीमांत श्रेणी के कम से कम 10 किसानों के समूह के लिए सौर ऊर्जा चालित नलकूप का निर्माण कराया जाना प्रस्तावित है। एक नलकूप की लागत 4.69 लाख रुपए आंकी की गई है, जिसमें सामान्य श्रेणी के लिए केन्द्रांश 0.7305 लाख रुपए व राज्यांश 2.4215 लाख रुपए और कृषक समाज का अंश 1.5380 लाख रुपए है। एससीपी के लिए केन्द्रांश 0.7305 लाख रुपए, राज्यांश 2.9855 लाख रुपए और कृषक समूह का अंश 0.974 लाख रुपए है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


योजना के तहत 69 मीटर तक गहरे नलकूपों का होगा निर्माण

योजना के तहत नलकूप का कार्य लघु सिंचाई विभाग द्वारा और सोलर पम्प की स्थापना कृषि विभाग द्वारा कराई जाएगी। कुसुम योजना-बी के लिए कृषि विभाग नोडल विभाग है। एक नलकूप से 6 हेक्टेयर शुद्ध क्षेत्र सिंचित होगा और 10 हेक्टेयर सिंचन क्षमता सृजित होगी। योजना के तहत 69 मीटर तक गहरे नलकूप का निर्माण कराया जाएगा। नलकूप स्थापना के साथ-साथ पम्प हाउस, जल वितरण प्रणाली के लिए एचटीपीई पाइप इत्यादि की व्यवस्था का प्रस्ताव है। नलकूप में जल निकासी के लिए पांच हार्स पावर के सौर ऊर्जा चालित पंप की स्थापना की जाएगी।

 


179 नलकूपों के लिए 600 लाख रुपए का बजट

योजना पायलट प्रोजेक्ट के रूप में एक वर्ष के लिए प्रस्तावित की गई है, जिसमें 179 नलकूपों के लिए 600 लाख रुपए का बजट है। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार अतिरिक्त बजट की स्वीकृति प्राप्त कर बड़े जनपदों के लिए 10 एवं छोटे जनपदों के लिए पांच सामूहिक नलकूपों के निर्माण की कार्यवाही की जाएगी। योजना के क्रियान्वयन से आर्थिक दृष्टि से अत्यन्त कमजोर लघु एवं सीमान्त कृषक सौर ऊर्जा चालित नलकूप स्थापित कर सकेंगे और ऊर्जा एवं जल की बचत होगी। यह योजना प्रदेश अति दोहित-क्रिटिकल विकास खंडों को छोडक़र शेष में क्रियान्वित की जाएगी। इस योजना का मूल्यांकन किया जाएगा। मूल्यांकन में सार्थक परिणाम आने पर इसे विस्तार दिया जाएगा।


कहां से खरीदी जाएगी सामग्री

  • सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना के लिए यूपी सरकार ने अपने नियम निर्धारित कर दिए हैं। इस योजना के तहत लगने वाले सभी सौर ऊर्जा चलित टयूबवेल की सामग्री जेम पोर्टल उत्तरप्रदेश के माध्यम से ही खरीदी जाएगी।
  • सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना का लाभ किसान कैसे उठा सकते हैं?
  • जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, कि यह समूह आधारित योजना है। इस योजना का लाभ किसानों को समूह बना कर उठाना होगा। न्यूनतम 10 किसानों का समूह इस योजना के लिए पात्र माना जाएगा। समूह में किसानों की संख्या 10 से कम नहीं होनी चाहिए।
  • यदि समूह लघु एवं सीमांत किसानों ने मिल कर बनाया है, तो उन्हें सौर ऊर्जा चलित बोरवेल स्कीम में उनका चयन संभव हो सकता है।


सामूहिक मिनी टयूबवेल स्कीम के लिए बजट का प्रावधान

  • वर्तमान समय में यह योजना पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लागू की गई है। इसलिए फिलहाल यह 1 वर्ष के लिए प्रस्तावित व लागू है।
  • इस अवधि के दौरान कुल 179 नलकूप उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में स्थापित किए जाएंगे। जिसके लिए प्रदेश सरकार ने वर्ष 2020-21 के लिये 6 करोड़ रुपए का बजट प्रावधान किया है।

 

मिनी ग्रीन टयूबवेल योजना के तहत जिलों में टयूबवेल स्थापना संबंधी नियम

  • सामूहिक ग्रीन टयूबवेल योजना यूपी के तहत जिन जिलों का आकार बड़ा है, उन जिलों में 10 सामूहिक नलकूपों का निर्माण कराया जाएगा।
  • जिन जिलों का क्षेत्रफल छोटा है, उन जिलों में केवल 5 नलकूप स्थापित होंगें। यानि बड़े जिलों में ज्यादा और छोटे जिलों में कम।


उत्तरप्रदेश सामूहिक मिनी ग्रीन टयूबवेल योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • किसानों के आधार कार्ड
  • खसरा खतौनी की नकल
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • समूह के सभी सदस्यों के पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर आदि


सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना के लिए कहां और कैसे करें आवेदन ?

यदि आप लघु एवं सीमांत किसान की श्रेणीं में आते हैं और आप अपने खेत के आसपास सौर ऊर्जा नलकूप लगवाने के लिए सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल लगवाना चाहते हैं तो आपको इस योजना में आवेदन करने के लिए आप अपने जिले के लघु सिंचाई विभाग तथा कृषि विभाग के कार्यालय में जाकर संपर्क करना होगा तथा योजना से संबंधित फार्म की मांग करनी होगी। फार्म मिल जाने के बाद 10 अथवा 10 से अधिक किसानों का समूह बनाएं और फिर फार्म को भर कर तथा सभी जरूरी दस्तावेजों को संलंग्न करके जमा कर दें। आपका आवेदन पत्र जांच में सही पाए जाने की स्थिति में आपके समूह का चयन इस योजना के तहत कर लिया जाएगा और फिर लघु सिंचाई विभाग आपके खेत के आसपास नलकूप लगाने का कार्य आरंभ कर देगा। वहीं सोलर पंप की स्थापना कृषि विभाग द्वारा की जाएगी।


आनलाइन आवेदन

सामूहिक मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना के लिए फिलहाल ऑनलाइन सुविधा मौजूद नहीं है। इसके लिए लघु सिंचाई विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back