गोपाल रत्न पुरस्कार 2021 : सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान को मिला 5 लाख का पुरस्कार

गोपाल रत्न पुरस्कार 2021 : सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान को मिला 5 लाख का पुरस्कार

Posted On - 01 Dec 2021

जानें, गोपाल रत्न पुरस्कार और इसके लिए कौन कर सकता है आवेदन

पशुपालन को बढ़ावा देने के साथ ही डेयरी उद्योग को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से सरकार की ओर से गोपाल रत्न पुरस्कार शुरू किया गया है। इसके तहत सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान पशुपालक को पुरस्कृत किया जाता है। इसके अलावा सर्वश्रेष्ठ डेयरी उत्पादन करने वाले डेयरी उत्पादक समूह को भी पुरस्कार प्रदान किया जाता है। इस साल 2021 में गोपाल रत्न पुरस्कार की घोषणा की जा चुकी है। 

Buy Used Livestocks

गोपाल रत्न पुरस्कारों की घोषणा बीते दिनों राष्ट्रीय दुग्ध दिवस 26 नवंबर 2021 को पशुपालन और डेयरी विभाग, भारत सरकार की ओर से भारत के मिल्क मैन डॉ. वर्गीस कुरियन की जन्म शताब्दी के अवसर पर एक मेगा कार्यक्रम में की गई। इस अवसर पर आयोजित समारोह में केंद्रीय पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपला ने देशी गाय / भैंस की नस्लों को पालने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान विजेता, सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन (एआईटी) और सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी/ दुग्ध उत्पादक कंपनी / डेयरी किसान उत्पादक संगठन के विजेताओं को राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया। 

इन्हें मिला गोपाल रत्न पुरस्कार 2021 (Gopal Ratna Award 2021)

गोपाल रत्न पुरस्कार को तीन श्रेणियों में प्रदान किया जाता है। श्रेणी के अनुसार प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विजेताओं को पुरस्कृत किया जाता है। इस बार श्रेणीवार जिन लोगों को पुरस्कार प्रदान किए गए वे इस प्रकार से हैं।

श्रेणी एक : देशी गाय/भैंस की नस्लों को पालने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान 

  • प्रथम विजेता- श्री सुरेंद्र अवाना, जयपुर राजस्थान 
  • द्वितीय विजेता- श्रीमती रेशमी एडाथानल, कोट्टायम, केरल 
  • तृतीय विजेता- श्रीमती राजपूत मोधीबेन वर्धमानसिंह, बनासकांठा, गुजरात एवं श्रीमती माधुरी, राजनांदगांव, छत्तीसगढ़ 

श्रेणी दो : सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन (एआईटी) 

•    प्रथम विजेता- श्री रामा रावकरी, आंध्र प्रदेश 
•    द्वितीय विजेता- श्री दुलारू राम साहू, छत्तीसगढ़ 
•    तृतीय विजेता- श्री राजेश बागरा, राजस्थान 

श्रेणी तीन : सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी / दुग्ध उत्पादक कंपनी / डेयरी किसान उत्पादक संगठन 

  • प्रथम विजेता- कामधेनु हितकारी मंचबिलासपुर,हिमाचल प्रदेश 
  • द्वितीय विजेता- दीप्तिगिरिक्षीरोलपदक सहकारना संगम, वायनाड, केरल

गोपाल रत्न पुरस्कार के विजेताओं को क्या-क्या मिला

श्रेणीवार गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए चयनित किए गए विजेताओं को योग्यता प्रमाण पत्र, एक स्मृति चिह्न एवं नकद राशि प्रदान की गई। जिसमें प्रथम स्थान पाने वाले को 5,00,000 रुपए, द्वितीय स्थान पाने वाले को 3,00,000 रुपए और तृतीय स्थान पर चयनित विजेता को  2,00,000 रुपए प्रदान किए गए।  

COVID Vaccine Process

गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए इस बार आए 4,401 आवेदन

गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए इस साल 2021 में देश भर से 4,401 लोगों ने ऑनलाइन आवेदन किया था। इसमें से पशुपालन और डेयरी में सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वाले लोगों को पुरस्कृत किया गया है। बता दें कि गोपाल रत्न पुरस्कार में तीन श्रेणियों के लिए सर्वश्रेष्ठ व्यक्तियों का चुनाव देश भर से किया जाता है। इस वर्ष सरकार द्वारा पुरस्कार वितरण के लिए इच्छुक व्यक्तियों से ऑनलाइन आवेदन पोर्टल https://gopalratnaaward.qcin.org के माध्यम से 15/07/2021 से 15/09/2021 तक आवेदन आमंत्रित किए गए थे। आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 15/10/2021 तक कर दिया गया था। कुल मिलाकर ऑनलाइन माध्यम से 4,401 आवेदन प्राप्त हुए। प्राप्त आवेदनों में से सर्वश्रेष्ठ व्यक्तियों का चयन कर उन्हें प्रत्येक श्रेणी में पुरस्कृत किया गया। 

क्या है गोपाल रत्न पुरस्कार

गोपाल रत्न पुरस्कार पशुधन और डेयरी क्षेत्र में सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कारों में से एक है, जिसका उद्देश्य सभी व्यक्तियों और डेयरी सहकारी समितियों / दुग्ध उत्पादक कंपनी / डेयरी किसान उत्पादक संगठनों को प्रोत्साहित करने के लिए दिया जाता है। इसमें विभाग द्वारा अलग-अलग श्रेणी का निर्धारण किया गया है, जिसमें देशी गाय / भैंस की नस्लों को पालने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान, सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन (एआईटी) और सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी / दुग्ध उत्पादक कंपनी / डेयरी किसान उत्पादक संघ शामिल हैं। 

राष्ट्रीय गोकुल मिशन के बारे में

पशुपालन और डेयरी विभाग द्वारा स्वदेशी गोजातीय नस्लों के संरक्षण और विकास के उद्देश्य से वर्ष 2014 में राष्ट्रीय गोजातीय प्रजनन और डेयरी विकास कार्यक्रम के तहत राष्ट्रीय गोकुल मिशन की शुरूआत की गई थी। इस कार्यक्रम का उद्देश्य पशुओं और भैंसों का आनुवांशिक सुधार करना है। योजना के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सरकार द्वारा डेयरी क्षेत्र में बेहतर काम करने वाले किसानों, कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियनों और डेयरी समितियों को प्रोत्साहित करने के लिए गोपाल रत्न पुरस्कार दिया जाता है।

गोपाल रत्न पुरस्कार के उद्देश्य

  • वैज्ञानिक तरीके से दुधारू पशुओं की स्वदेशी नस्लों की उत्पादकता बढ़ाने हेतु किसानों को प्रोत्साहित करना।
  • राष्ट्रीय गोकुल मिशन (आरजीएम) के अंतर्गत कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियनों को 100 प्रतिशत एआई कवरेज करने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • सहकारी और दुग्ध उत्पादक कंपनियों को विकास के लिए प्रोत्साहित करना और उनमें प्रतिस्पर्धात्मक भावना जागृत करना।
     

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top