सेब की खेती : बिहार में सेब की खेती के लिए मिलेगी 50 प्रतिशत सब्सिडी

सेब की खेती : बिहार में सेब की खेती के लिए मिलेगी 50 प्रतिशत सब्सिडी

Posted On - 30 Oct 2021

सेब की खेती : जानें, क्या है सरकार की योजना और इससे कैसे मिलेगा लाभ

भारत में कश्मीर के सेब काफी प्रसिद्ध हैं। सेब की खेती अधिकांशत: भारत के कश्मीर और जम्मू में होती है। ऐसा माना जाता है कि सेब ठंडे स्थानों में ही उगाया जा सकता है। इसलिए इसकी खेती भारत में उन स्थानों पर ही की जाती है जिन इलाकों में सर्दी पड़ती है, ठंडी जलवायु सेब की खेती के लिए काफी अच्छी रहती है। लेकिन अब इसे बिहार में भी उगाया जा रहा है। इसके लिए कृषि वैज्ञानिकों की ओर से सेब की एक विशेष प्रजाति या किस्म विकसित की गई है जो यहां की जलवायु के हिसाब से है। इस किस्म की विशेष बात यह है कि इसे किसी भी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है। आइए जानतें हैं बिहार में सेब की खेती को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार की ओर से क्या प्रयास किए जा रहे हैं और किसानों को इससे क्या लाभ होगा। 

Buy Used Livestocks

कैसा होता है सेब का पेड़ / सेब का पौधा

यह एक गोलाकार पेड़ होता है जो सामान्य तौर पर 15 मीटर ऊंचा होता है। ये पेड़ जोरदार और फैले हुए होते हैं। पत्ते ज्या दातर लघु अंकुरों या स्पूर्स पर गुच्छेदार होते हैं। सफेद फूल भी स्पेर्स पर उगते हैं। इसका उत्पति केंद्र पूर्वी यूरोप और पश्चिमी एशिया माना जाता है। सेब के पौधे में संकर परागण होता है। इसमें गुणसूत्रों की संख्या 2एन=34 होती है। 

सेब में पाए जाने वाले पोषक तत्व और उसकी उपयोगिता 

सेब में विटामिन ए, विटामिन सी, पोटेशियम, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्स पाया जाता है। एक नॉर्मल साइज के सेब में करीबन 95 कैलोरी मौजूद होती हैं। सेब सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। जैसा कि सेब में विटामिन ए, बी, सी, कैल्शियम, पोटेशियम और एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो दिमाग में खून के प्रवाह को सही करते हैं। सेब खाने से दिमागी स्ट्रेस और दिमागी बीमारियां दूर होती हैं। सेब के अंदर कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो लिवर की गंदगी को साफ करते हैं। 

भारत में कहां-कहां होती है सेब की खेती

भारत में सेब की खेती जम्मू एवं कश्मीर हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश तथा उत्तराखंड की पहाडिय़ों में की जाती है। इसके अलावा इसकी खेती अरुणाचल प्रदेश, नगालैंड, पंजाब और सिक्मिम में भी की जाती है। वर्तमान में बिहार में इसकी खेती को सरकार की ओर से प्रोत्साहित किया जा रहा है। 

बिहार में कौनसी प्रजाति के सेब की खेती को किया जा रहा है प्रोत्साहित

विशेष उद्यानिक फसल (निजी और सार्वजनिक क्षेत्र ) योजना के तहत सेब की खेती को बिहार में नई फसल के रूप में प्रारंभ किया जाना है। कृषि विभाग ने पहली बार सेब की बागवानी को इस नई योजना में शामिल किया है। कृषि विभाग का मानना है कि सेब एक शीतोष्ण (कम तापमान वाली फसल) फल है। बिहार का मौसम भले ही इसके अनकूल नहीं है, लेकिन सेब की हरिमन-99 प्रजाति को विकसित किया गया है। इस प्रजाति का सेब बिहार के मौसम में पैदा किया जा सकता है।

बिहार में सेब की खेती के लिए कितनी मिलेगी सब्सिडी ( Apple Farming )

बिहार में करीब 20 हेक्टेयर क्षेत्रफल में सेब की खेती की शुरुआत की जाएगी। इसमें 10 हेक्टेयर रकबा में कृषि विभाग और 10 हेक्टेयर पर इसमें रुचि रखने वाले किसानों से इसकी बागवानी कराई जाएगी। विभाग किसानों को 50 फीसदी के करीब सब्सिडी देगा। एक हेक्टेयर में करीब ढाई लाख रुपए की लागत आएगी। निजी क्षेत्र के तहत विभिन्न जिलों के किसानों को सेब की खेती से जोड़ा जाएगा। सेब की का क्षेत्र विस्तार करने के लिए सरकार किसानों को प्रति हेक्टेयर पर ढाई लाख रुपए तीन किस्तों में देगी। पहली किस्त में अनुदान का 60 फीसदी मिलेगा। बचा अनुदान दो समान किस्तों में दिया जाएगा।

तीराज्य में कब से शुरू होगी सेब की खेती ( Cultivation of apple )

इससे पहले प्रयोग के तौर पर राज्य के औरंगाबाद, वैशाली, बेगूसराय व भागलपुर में सेब को सफलतापूर्वक उगाया जा चुका है। यहां के किसान सेब की बागवानी का अच्छा अनुभव ले चुके हैं। यहां प्रयोग सफल होने के बाद ही कृषि विभाग राज्यभर में अक्टूबर से फरवरी के बीच इसकी सेब की बागवानी के कार्य का क्रियान्वयन शुरू किया जा रहा है। कृषि विभाग सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, देसरी में 10 हेक्टेयर में सेब का उत्पादन करेगा। 

COVID Vaccine Process

उत्तर बिहार के जिलों की जलवायु सेब के लिए है अनुकूल

डॉ. राजेंद्र प्रसाद कृषि विवि, पूसा के निदेशक ( अनुसंधान ) डॉ एसके सिंह के अनुसार सेब की उन्नत खेती सामान्यत ठंडे राज्यों में हो रही है। मैदानी क्षेत्र के लिए हरिमन-99 प्रजाति को विकसित किया गया है। यह 45 डिग्री तापमान पर भी अनकूल है। गया, नवादा अरवल आदि दक्षिण बिहार के जिलों को छोड़ दिया जाये, तो उत्तरी बिहार के सभी जिलों में सेब की खेती की जा सकती है।

सेब की फसल : सेव की हरिमन-99 प्रजाति की विशेषताएं

  • हरिमन-99 वैरायटी तीसरे वर्ष से फल देने लगती है, लेकिन प्रति पेड़ एक क्विंटल तक की पैदावार हासिल करने के लिए दस वर्ष का समय लगता है। एक फल का वजन 250 से 300 ग्राम तक होता है।
  • हरिमन-99  वैयराटी गुणवत्ता जांच की कसौटी जांची और परखी गई है। हरिमन के अनुसार वर्तमान में वह नए पौधे तैयार करने के लिए कश्मीर के गोल्डन डिलिशियस का रूट स्टाक लेते हैं। 
  • हिमाचल में कलम कर हरिमन-99 वैरायटी तैयार की जाती है। वैरायटी को जर्मनी से भी शानदार रिस्पांस मिला है। खास बात है कि सेब की फसल जून महीने में तैयार होती है।

जम्मू-कश्मीर में होती है सेब की इन वैरायटियों की खेती

जम्मू कश्मीर में गोल्डन डिलिशियस सहित अर्ली, मिड और लेट श्रेणी की लगभग 20 वैरायटी के सेब की खेती होती है। यह सभी वैरायटी बर्फबारी वाले इलाके में ही होती हैं। 

योजना के संबंध में अधिक जानकारी के लिए कहां करें संपर्क 

सेब की खेती पर सब्सिडी की अधिक जानकारी के लिए बिहार के किसान भाई अपने जिले के उद्यान विभाग से संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा इसकी आधिकारिक वेबसाइट http://horticulture.bihar.gov.in पर जाकर पंजीयन करा सकते हैं। 
 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top