रेड रॉट रोग से सूखने लगी गन्ने की फसल : किसानों की मुश्किलें बढ़ी

रेड रॉट रोग से सूखने लगी गन्ने की फसल : किसानों की मुश्किलें बढ़ी

Posted On - 14 Oct 2020

रेड रॉट रोग का प्रकोप, 80 प्रतिशत गन्ने की फसल बर्बाद 

गन्ना किसानों की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही है। एक ओर चीनी मिलों ने गन्ना किसानों की बकाया राशि का भुगतान नहीं किया और रही सही कसर गन्ने में लगा रेड रॉट रोग ने पूरी कर दी। इन दिनों गन्ने की खेती करने वाले किसान रेड रॉट रोग से परेशान हैं। इस रोग के प्रकोप से उनकी गन्ने की फसल सूखने लगी है। गन्ने की किस्म कोशा 0238 में रेड रॉट की समस्या देखने को मिल रही है। इस रोग के चलते किसानों की गन्ने की फसल सूख रही है जिससे खेत के खेत बर्बाद हो रहे हैं। 

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

जानें, क्या है रेड रॉट रोग और इसके लक्षण और नियंत्रण के उपाय?

इस रोग का प्रभाव उत्तरप्रदेश के कई जिलों में देखा गया है जिनमें सीतापुर, लखीमपुर खोरी, पीलीभीत, शाहजहांपुर आदि कई ऐसे जिले हैं जहां इस रोग के प्रभाव से किसानों की 80 फीसदी फसल सूख गई है। किसान बताते हैं कि पांच एकड़ में गन्ने की बुवाई की थी, गन्ने में महंगी कीटनाशक दवाओं का छिडक़ाव कर चुके हैं लेकिन रेड रॉट रोग की समस्या बनी हुई है। इस रोग के चलते साल दर साल गन्ने का रकबा घटता जा रहा है जिससे किसानों को नुकसान हो रहा है। यही कारण है कि यहां के किसानों का गन्ने की फसल से मोह कम होता जा रहा है और अब वे परेशान होकर दूसरी फसलों की ओर रूख कर रहे हैं। इसकी एक मुख्य वजह ये भी है कि गन्ने में अधिक लागत व रोग की परेशानी अन्य फसलों की तुलना में अधिक रहती है।

 


क्या है गन्ने का रेड रॉट रोग

उत्तरप्रदेश के गन्ना शोध परिषद शाहजहांपुर के पैथोलॉजी अनुभाग के अनुभागाध्यक्ष डॉ. सुजीत प्रताप सिंह ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि गन्ने में रेड रॉट यानि लाल सडऩ एक बीज जनित रोग है, जिसे गन्ने का कैंसर भी कहा जाता है। यह फंफूदी से होता है। हरियाणा, पंजाब, उत्तरप्रदेश, बिहार, आंध्रप्रदेश और उड़ीसा में इस रोग से गन्ने को अधिक हानि होती है। उत्तरी बिहार और पूर्वी व मध्य उत्तरप्रदेश में इस रोग का प्रकोप महामारी के रूप में होता है।

 

रेड रॉट रोग के लक्षण

इस रोग से ग्रसित होने पर गन्ने के तने के अंदर लाल रंग के साथ सफेद धब्बे के जैसे दिखते हैं। इसके कारण पौधा धीरे-धीरे सूखने लगता है और अंत में पूरा सूख जाता है। इस रोग से ग्रसित होने पर गन्ने की मिठास कम हो जाती है और उत्पादन पर विपरित प्रभाव पड़ता है। कभी-कभी तो समय पर बचाव नहीं करने से पूरी की पूरी फसल बर्बाद हो जाती है।

 

रेड रॉट रोग से नियंत्रण के उपाय


इस रोग से गन्ने की फसल को बचाने के लिए किसान को चाहिए कि संक्रमित पौधे को जड़ से उखाडक़र नष्ट कर दें। उस जगह पर 10-20 ग्राम ब्लीचिंग पाउडर का बुरकाव करें। उस जगह पर 0.2 प्रतिशत थायो फेनेट मेथिल / कार्बेन्डाजिम को जड़ों के पास मिट्टी में डाले। 0.1 फीसदी थायो फेनेट मेथिल/काबेन्डाजिम/ टिबूकोनाजोल सिस्टेमेटिक फफूंदी नाशक का छिडक़ाव करें।

 

गन्ने की फसल लेते समय ध्यान में रखने वाली महत्वपूर्ण बातें

  • गन्ने की फसल लेते समय किसान को रोग मुक्त नर्सरी तैयार करने के बाद उस बीज को बुवाई के लिए प्रयोग करना चाहिए।
  • किसान को फसल चक्र अपनाना चाहिए। हर बार एक ही खेत में गन्ने की फसल उगाने से बचना चाहिए। इसके लिए संक्रमित खेत में फसल चक्र गेहूं, धान, हरी खाद अपनाकर रोग से बचाव किया जा सकता है।
  • संक्रमित गन्ने की पेड़ी नहीं लें, रोग रोधी किस्मों की बुवाई करनी चाहिए।
  • कभी भी एकल गन्ने की बुवाई नहीं करें इसके साथ अन्य फसल भी उगा सकते हैं।
  • अन्य प्रदेशों से काई भी गन्ना की किस्म वैज्ञानिकों की संस्तुति के बाद ही लानी चाहिए।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back