समर्थन मूल्य पर धान व मक्का खरीद के लिए पंजीयन प्रक्रिया शुरू

समर्थन मूल्य पर धान व मक्का खरीद के लिए पंजीयन प्रक्रिया शुरू

Posted On - 18 Aug 2020

छत्तीसगढ़ में किसानों से समर्थन मूल्य पर होगी 85 लाख टन धान की खरीद

छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्य पर धान और मक्का की खरीद के लिए किसानों का पंजीयन शुरू किया गया है। पंजीयन का कार्य 31 अक्टूबर तक जारी रहेगा। इस साल किसानों से समर्थन मूल्य पर 85 लाख टन धान की खरीद का लक्ष्य तय किया गया है। जानकारी के अनुसार मंत्रिमंडलीय उप समिति की हुई बैठक में धान व मक्का खरीद के संबंध में नीतियां तय की गई है।

इसके अनुसार खरीफ वर्ष 2019-20 में पंजीकृत किसान को खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 के लिए पंजीकृत माने जाने का निर्णय लिया गया है। यानि जिन किसानों ने पिछले वित्तीय वर्ष में पंजीयन कराया हुआ है उन्हें दुबारा पंजीयन नहीं कराना होगा। क्योंकि खरीफ वर्ष 2019-20 में पंजीकृत किसानों की दर्ज भूमि और धान के रकबे एवं खसरे की जानकारी को राजस्व विभाग के माध्यम से अद्यतन कराया जाएगा। वहीं नए किसानों का पंजीयन तहसीलदार के माध्यम से किया जाएगा। बता दें कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना का लाभ खरीफ वर्ष 2020-21 में किसान पंजीयन के दौरान पंजीकृत कराए गए धान के रकबे के आधार पर दिया जाएगा। 

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

नए जूट बारदाने की व्यवस्था, पुराने बारदाने का मूल्य बढ़ाया

खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में अनुमानित 85 लाख टन धान खरीदी के लिए आवश्यक नए जूट बारदाने की व्यवस्था जूट कमिश्नर के माध्यम से की गई है। साथ ही आवश्यकतानुसार पुराने बारदाने की व्यवस्था गत वर्ष अनुसार पीडीएस के बारदाने, मिलर्स के पास बचत बारदाने और किसान के पास उपलब्ध जूट बारदाने से की जाएगी। पुराने बारदाने की दर को 12 रुपए से बढ़ाकर 15 रुपए प्रति नग के हिसाब से निर्धारित की गई है। 

 

 

इधर मंदसौर मंडी मेंं लहसुन की नीलामी के लिए नई व्यवस्था लागू

कृषि उपज मंडी में 17 अगस्त से लहसुन नीलामी के लिए नई व्यवस्था की गई है। मंडी कार्यालय के अनुसार इसकी नीलामी खुली ट्रॉली में प्राथमिकता के आधार पर की जाएगी। ब्ल्यू नेट कट्टे में बड़े लॉट नीलाम होंगे। ब्ल्यू नेट कट्टों को लॉट में चट्टे लगाए जाएंगे और चट्टे में रखी गई लहसुन बारदान सहित नीलाम की जाएगी। ब्ल्यू नेट के अलावा अन्य नेट में लाई गई लहसुन नीलाम नहीं होगी। एक से सात कट्टों का ढेर कराया जाए। इसकी नीलामी दोपहर बाद की जाएगी। बता दें कि मंदसौर मंडी में लहसुन का भाव 3000 से 8000 रुपए चल रहा है। पिछले सप्ताह सोमवार को मंडी में 11 हजार कट्टे लहसुन की आवक हुई थी और लहसुन की आवक का सिलसिला जारी है। 

 

लॉकडाउन के बाद मंडी में लौटी रौनक

लॉकडाउन के बाद अब मंडी में रौनक लौट रही है। लहसुन, सोयाबीन, मैथी, गेहूं के दाम बेहतर मिलने से किसान अधिक मात्रा में उपज लेकर आ रहे हैं। मंडी कार्यालय द्वारा मीडिया को दी जानकारी के अनुसार लॉकडाउन के बाद पहली बार 28 हजार से अधिक बोरियों की आवक पिछले सोमवार को हुई है। यहां इन दिनों लहसुन के दाम किसानों को बेहतर मिल रहे हैं। सोमवार को लहसुन के 11 हजार कट्टे आए। तीन हजार से लेकर आठ हजार रुपए तक दाम मिले। एक किसान की लहसुन 12 हजार रुपए प्रति क्विंटल भी बिकी।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back