पीएम मोदी ने उत्तराखंड के किसान को लिखा पत्र

पीएम मोदी ने उत्तराखंड के किसान को लिखा पत्र

Posted On - 24 Mar 2021

कहा- बीज से लेकर बाजार तक की समस्या दूर करेंगे, जानें, पीएम मोदी के इस पत्र में किसानों हित में और क्या?

प्रधानमंत्री मोदी अपनी व्यस्त दिनचर्या के बावजूद लोगों से मिले पत्र का जबाव देना नहीं भूलते। वे इसके लिए अपने व्यस्तम शेडयूल में से कुछ समय निकाल ही लेते हैं और लोगों की प्राप्त चिट्ठियों और संदेशों का जबाव देते हैं। ऐसा ही एक पत्र मिला है नैनीताल, उत्तराखंड के खीमानंद को जिन्होंने नरेन्द्र मोदी ऐप (नमो ऐप) के जरिए पीएम को संदेश भेजकर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के 5 सफल वर्ष पूरे होने और सरकार के अन्य प्रयासों के लिए बधाई दी थी। अब प्रधानमंत्री ने खीमानंद को पत्र लिखकर उन्हें उनके बहुमूल्य विचार साझा करने के लिए धन्यवाद दिया है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


अन्नदाता की समृद्धि और कृषि की प्रगति के लिए निरंतर प्रयास

किसान से प्राप्त पत्र उत्तर देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने पत्र में लिखा है, ‘कृषि समेत विभिन्न क्षेत्रों में सुधार और देश को विकास की नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे सतत प्रयासों पर अपने बहुमूल्य विचार साझा करने के लिए आपका आभार। ऐसे आत्मीय संदेश मुझे देश की सेवा में जी-जान से जुटे रहने की नई ऊर्जा देते हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की सफलता का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना मौसम की अनिश्चितता से जुड़े जोखिम को कम कर मेहनती किसान भाई-बहनों के आर्थिक हितों की रक्षा करने में लगातार अहम् भूमिका निभा रही है।

किसान हितैषी बीमा योजना का लाभ आज करोड़ों किसान ले रहे हैं। ‘ कृषि और किसान कल्याण के प्रति संकल्पित सरकार के प्रयासों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने आगे पत्र में लिखा है, ‘पिछले पांच वर्षों में व्यापक कवरेज और पारदर्शी दावा निस्तारण प्रक्रिया के माध्यम से यह योजना किसान कल्याण को समर्पित हमारे संकल्पित प्रयासों और पक्के इरादों की एक महत्वपूर्ण मिसाल बन कर उभरी है। आज बीज से लेकर बाजार तक किसान भाई-बहनों की हर छोटी-बड़ी दिक्कतों को दूर करने और अन्नदाता की समृद्धि और कृषि की प्रगति सुनिश्चित करने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। ‘

 

 

2 करोड़ 17 लाख किसानों को मिला बीमा लाभ

खरीफ 2016 सीजन से शुरू की गई प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना शुरू से ही राज्यों के लिए स्वैच्छिक है। इसलिए, राज्य योजना को लागू करने या नहीं करने के संबंध में निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं। इसके अलावा, खरीफ 2020 से इस योजना को किसानों के लिए स्वैच्छिक भी बनाया गया है। इसलिए, यह योजना संबंधित राज्य सरकार द्वारा अधिसूचित फसलों और क्षेत्रों के लिए सभी किसानों के लिए उपलब्ध है। कृषि-जनगणना 2015-16 के अनुसार, पांच एकड़ या उससे कम भूमि वाले किसानों की कुल संख्या 1260.60 लाख है। वर्ष 2020 में 6 करोड़ 13 लाख किसानों ने फसल बीमा करवाया था, जिसमें से 2 करोड़ 17 लाख किसानों को फसल खराब होने की स्थिति में बीमे का लाभ प्राप्त हुआ। यह जानकारी केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्यसभा में एक लिखित जवाब में दी।

 


मध्यप्रदेश में बेमौसमी बारिश व ओलावृष्टि से हुए नुकसान का मिलेगा मुआवजा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हाल ही हुई वर्षा एवं ओलों से जिन जिलों में फसलों को नुकसान हुआ है वहां के किसान चिंतित न हों। सर्वे के निर्देश दे दिए गए हैं। किसानों को फसल नुकसान का समुचित मुआवजा दिया जाएगा। बता दें कि राजस्थान और मराठवाड़ा पर बने चक्रवात के कारण मध्य प्रदेश में गत दिनों हुई बेमौसम बरसात व ओलावृष्टि से रबी फसलों को नुकसान पहुंचा है। मौसम विभाग के मुताबिक 14-15 जिलों में बारिश एवं ओलावृष्टि हुई है। इसमें रायसेन, भोपाल, होशंगाबाद, बैतूल, ग्वालियर, इन्दौर, सागर, खरगौन, खंडवा, शाजापुर, उज्जैन एवं छिंदवाड़ा शामिल हैं। जानकारी के मुताबिक खेतों में कटी पड़ी हुई गेहूं-चना फसल को अधिक नुकसान हुआ है। खंडवा जिले में अरबी, प्याज फसल ओलों की भेंट चढ़ गई है। देवास जिले में गेहूं की खड़ी फसल आड़ी हो गई है। खेतों में कटी फसल डूब गई है। तरबूज की फसल भी प्रभावित हुई है।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top