अब पुरानी रेट पर ही मिलेगा डीएपी खाद, सब्सिडी 140 प्रतिशत बढ़ाई

अब पुरानी रेट पर ही मिलेगा डीएपी खाद, सब्सिडी  140 प्रतिशत बढ़ाई

Posted On - 20 May 2021

किसानों के लिए खुशखबर : केंद्र सरकार ने किसानों के हित में लिया फैसला, नहीं देना होगी बढ़ी कीमत

कोरोना महामारी संकट के बीच गैर यूरिया खादों की कीमतों में भारी बढ़ोतरी हुई जिससे किसानों को काफी परेशानी हुई। लेकिन अब किसानों को चिंता करने की जरूरत नहीं है। केंद्र सरकार ने फास्फेट एवं पोटाश उर्वरकों के कच्चे माल की बढ़ती अंतरराष्ट्रीय कीमतों के प्रभावों को कम करने के लिए बुधवार को किसानों हित में फैसला लिया है। सरकार ने डीएपी फर्टिलाइजर पर सब्सिडी 140 फीसदी बढ़ा दी है। अब किसानों को प्रति बोरी 500 रुपए की जगह 1200 रुपए की सब्सिडी मिलेगी। इससे किसानों को 2,400 रुपए प्रति बोरी की जगह 1200 रुपए कीमत चुकानी होगी। इसका मतलब है कि अब उन्हें पुरानी कीमत पर ही डीएपी मिलेगी। 

Buy Used Tractor

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 


पिछले दिनों निजी कंपनियों ने डीएपी, एनपीके की कीमतों में की थी बढ़ोतरी

पिछले दिनों निजी कंपनियों ने डीएपी, एनपीके एवं अन्य रासायनिक खादों के दाम बढ़ा दिए थे, लेकिन सरकारी स्वामित्व वाली कंपनी ने पुराने स्टॉक वाले रासायनिक खाद (उर्वरक) को पुरानी कीमतों पर ही किसानों को देने को कहा था। इसके अलावा एक आदेश जिसमें इफ्को डीएपी, एनपीके आदि रासायनिक खादों के दामों में वृद्धि की खबर सामने आई थी जिसे उस समय तो खारिज कर दिया गया था परंतु इसके बाद भी ऐसा लग रहा था कि जैसे वह कीमतें किसानों के लिए नए पैकेट पर लागू की जाएगी। जिससे किसानों को अब खरीफ-2021 सीजन में नई बोरी पर प्रिंट एमआरपी पर ही रासायनिक खाद लेना पड़ेगा। 

इस खबर पर छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री श्री रविंद्र चौबे ने रासायनिक उर्वरकों में, विशेषकर डीएपी के दाम में प्रति बोरी लगभग 700 रुपए की वृद्धि किए जाने पर चिंता जताई थी। इसी बीच मध्य प्रदेश सरकार ने रासायनिक उर्वरकों के बढ़े हुए मूल्य को इसी खरीफ सीजन 2021 के लिए लागू कर दिया था। दरअसल 7 मई 2021 के जारी लेटर में यह बताया गया है की राज्य में सहकारी समिति किसानों को बढ़े हुए मूल्य पर किसानों को उर्वरक देगी। हालांकि इतना जरूर कहा गया है कि पहले से स्टाक उर्वरक को पुराने प्रिंट रेट पर ही बेचें। पर अब चूंकी केंद्र सरकार ने डीएपी पर सब्सिडी बढ़ा दी है जिससे किसानों को अब पुरानी रेट पर ही खाद मिल सकेगी।


किसानों को अब भी पुरानी कीमत पर ही मिलेगा डीएपी

रेट बढऩे से पहले डीएपी की कीमत 1200 रुपए प्रति बोरी तथा एनपीके (12.32.16) और एनपीके (10.26.26) करीब 1075 रुपए प्रति बोरी थी। अब केंद्र सरकार के आदेशानुसार अब कंपनियां इसी पुरानी रेट पर ही किसानों को गैर यूरिया खाद उपलब्ध कराएंगी। 


पहले भी सरकारी सब्सिडी के कारण किसानों को मिलता था सस्ता डीएपी

पिछले साल डीएपी की वास्तविक कीमत 1,700 रुपए प्रति बोरी थी। इस पर केंद्र सरकार 500 रुपए की सब्सिडी देती थी। इस तरह किसानों को प्रति बोरी 1200 रुपए की कीमत चुकानी पड़ती थी। लेकिन, हाल में डीएपी में इस्तेमाल होने वाले फॉस्फोरिक एसिड, अमोनिया आदि की कीमतें 60 से 70 फीसदी तक बढ़ गई हैं। इसके चलते डीएपी की एक बोरी की कीमत 2,400 रुपए हो गई है। सब्सिडी घटाकर खाद कंपनियों को इसकी बिक्री प्रति बोरी 1900 रुपए में की जाती है। लेकिन बुधवार को लिए गए फैसले के बाद किसानों को डीएपी के लिए ज्यादा कीमत नहीं चुकानी पड़ेगी। उन्हें प्रति बोरी 1200 रुपए में डीएपी मिलती रहेगी।  बता दें कि केंद्र सरकार हर साल रासायनिक खादों पर सब्सिडी के रूप में 80,000 करोड़ रुपए खर्च करती है।


केंद्र सरकार पर 14,775 करोड़ का अतिरिक्त बोझ

डीएपी पर सब्सिडी बढ़ाने के फैसले से सरकार पर अतिरिक्त करीब 14,775 करोड़ रुपए का बोझ पड़ेगा। बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने इस बात पर जोर दिया कि अंतरराष्ट्रीय कीमतों में बढ़ोतरी के बावजूद किसानों को पुरानी दरों पर ही खाद मिलनी चाहिए।

Buy New Tractor

 

क्या है डीएपी

डीएपी का पूरा नाम डाइअमोनिया फास्फेट होता है। यह एक दानेदार उर्वरक है। इस उर्वरक में आधे से ज्यादा हिस्सा फास्फोरस युक्त होता है जो पानी में पूरी तरह से घुलनशील नहीं होता है। इस उर्वरक का मुख्य उपयोग पौधों को जड़ों की विकास कराने में किया जाता है।

 

क्या है एनपीके

एनपीके उर्वरक में नाईट्रोजन, फास्फोरसतथा पोटेशियम तीनों मौजूद रहता है। यह दानेदार उर्वरक होता है। इस उर्वरक का प्रयोग पौधे के विकास तथा मजबूती के लिए किया जाता है साथ ही पौधे से फल को गिरने से बचाया जाता है।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Mahindra Bolero Maxitruck Plus

Quick Links

scroll to top