इन्फोग्राफिक्स : पशुओं से खेत व फसल बचाने के कारगर नुस्खे

इन्फोग्राफिक्स : पशुओं से खेत व फसल बचाने के कारगर नुस्खे

Posted On - 19 Mar 2020

पशुओं से फसल बचाने के कारगर नुस्खे

भारतीय किसान हमेशा खेतों में नील गाय, गाय, भैंस व अन्य पशुओं के घुसने से फसल बर्बादी को लेकर परेशान रहते हैं। कभी-कभी पशुओं का झुंड पूरा का पूरा खेत चर जाता है। ट्रैक्टर जंक्शन आपको कुछ कारगर नुस्खे बता रहा है जिससे आवारा पशु आपके खेत के पास नहीं आएंगे।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

आवारा पशुओं से फसलों को बचाएंगे ये आठ नुस्खे

नुस्खा नंबर एक

मुगी के 10-12 अंडों और 50 ग्राम वाशिंग पाउउर को 25 लीटर पानी में मिलाकर घोल बनाएं और खड़ी फसल की मेड़ों पर छिडक़ाव कर दीजिए, इसकी गंध से आवारा पशु व नीलगाय खेत में नहीं जाएंगे। गर्मी और सर्दी के महीने में एक बार छिडक़ाव करा चाहिए और बारिश के मौसम में जरुरत के हिसाब से छिडक़ाव किया जा सकता है। 

नुस्खा नंबर दो

तीन किलो नीम की खली और तीन किलो ईंट भट्टे की राख का पाउडर बनाकर प्रति बीघा के हिसाब से छिडक़ाव किया जा सकता है। इससे फसल को भी फायदा होता है। नीम की खली से कीट और रोगों की लगने की समस्या भी कम हो जाती है और नील गाय खेत के पास नहीं आती है। नीम की गंध से जानवर फसलों से दूर रहते हैं। इसका छिडक़ाव महीने या फिर पंद्रह दिनों में किया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें : ई-ट्रैक्टर : बाजार में आया देश का पहला बि‍जली से चलने वाला ट्रैक्टर

 

नुस्खा नंबर तीन 

नील गायों को खेतों की ओर आने से रोकने के लिए 4 लीटर मट्ठे में आधा किलो छिला हुआ लहसुन पीसकर मिलाकर इसमें 500 ग्राम बालू डालें। इस घोल का पांच दिन बाद छिडक़ाव करें। इसकी गंध से करीब 20 दिन तक नील गाय खेतों में नहीं आएगी। इसे 15 लीटर पानी के साथ भी प्रयोग किया जा सकता है।

नुस्खा नंबर चार

20 लीटर गौमूत्र, 5 किलोग्राम नीम की पत्ती, 2 किग्रा धतूरा, 2 किग्रा मदार की जड़, फल-फूल, 500 ग्राम तंबाकू की पत्ती, 250 ग्राम लहसुन, 150 ग्राम लालमिर्च पाउडर को एक डिब्बे में भकर वायुरोधी बनाकर धूप में 40 दिन के लिए रख दें। इसके बाद एक लीटर दवा 80 लीटर पानी में घोलकर फसल पर छिडक़ाव करने से महीना भर तक नीलगाय फसलों को नुकसानन नहीं पहुंचाती है। इससे फसल की कीटों से भी रखा होती है।

नुस्खा नंबर पांच

खेत के चारों ओर कंटीले तार, बांस की फट्टियां या चमकीली बैंड से घेराबंदी करें। खेत की मेड़ों के किनारे पेड़ जैसे करौंदा, जेट्रोफा, तुलसी, खस, जिरेनियम, मेंथा, लेमन ग्राम, सिट्रोनेला, पामारोजा का रोपण भी नीलगाय व आवारा जानवरों से सुरक्षा देंगे।

 

यह भी पढ़ें : कोरोना वायरस से अर्थव्यवस्था पर बुरा असर - बाजार भाव में भारी गिरावट

 

नुस्खा नंबर छह

खेत में आदमी के आकार का पुतला बनाकर खड़ा करने से रात में नील गाय देखकर डर जाती है। नीलगाय के गोबर का घोल बनाकर मेड़ से एक मीटर के अंदर फसलों पर छिडक़ाव करने से अस्थाई रूप से फसलों की सुरक्षा की जा सकती है।

नुस्खा नंबर सात

एक लीटर पानी में एक ढक्कन फिनाइल के घोल के छिडक़ाव से फसलों को बचाया जा सकता है। खेत में रात के समय मिट्टी के तेल की डिबरी जलाने से नील गाय नहीं आती है।

नुस्खा नंबर आठ

गधों की लीद, पोल्ट्री का कचरा, गोमूत्र, सड़ी सब्जियों की पत्तियों का घोल बनाकर फसलों पर छिडक़ाव करने से नील गाय खेतों के पास नहीं फटकती है।

 

 

सभी कंपनियों के ट्रैक्टरों के मॉडल, पुराने ट्रैक्टरों की री-सेल, ट्रैक्टर खरीदने के लिए लोन, कृषि के आधुनिक उपकरण एवं सरकारी योजनाओं के नवीनतम अपडेट के लिए ट्रैक्टर जंक्शन वेबसाइट से जुड़े और जागरूक किसान बने रहें।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back