फ्रूट केक मूवमेंट : महाराष्ट्र में अनोखी मुहिम से बढ़ रही है किसानों की आमदनी

फ्रूट केक मूवमेंट : महाराष्ट्र में अनोखी मुहिम से बढ़ रही है किसानों की आमदनी

Posted On - 20 Mar 2021

जानें, क्या है फ्रूट केक मूवमेंट और इससे किसानों कैसे हो रहा है फायदा?

महाराष्ट्र के फल उत्पादक किसानों ने एक अनोखा मुहिम शुरू की है जिसका नाम है फ्रूट केक मूवमेंट। इसके तहत बेकरी में तैयार केक की जगह फल से बने केक के इस्तेमाल पर जोर दिया जा रहा है। इसके किसानों को सुखद परिणाम भी मिल रहे हैं। इस मुहिम के जरिये किसानों की आमदनी इजाफा हो रहा है। जहां एक ओर कोरोना के दौरान काम-धंधों पर काफी असर पड़ा। उस दौरान इस फ्रूट केक की मुहिम ने किसानों की अच्छी कमाई कराई। इस तरह इस महामारी के दौर में किसानों की ओर से चलाई जा रही फ्रूट केक की मुहिम रंग ला रही है और यहां के किसानों को इससे अच्छी-खासी कमाई भी हो रही है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


सोशल मीडिया में खूब लोकप्रिय हो रहा है फ्रूट केक

फ्रूट केक का आइडिया सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय हो रहा है। इसे हर कोई पसंद कर रहा है और इसकी चर्चा भी हो रही है। किसानों और कृषि विश्लेषकों ने अनुसार इस मुहिम का उद्देश्य किसानों और उनके परिवारों के खान-पान में फल के सेवन को बढ़ावा देना है। प्रायः: ऐसा देखा जाता है कि फल उगाने वाले और उनके परिवार के सदस्य पर्याप्त मात्रा में फल नहीं खाते हैं। फल वाला केक, बेकरी में बने केक से बेहतर होता है क्योंकि इसमें पोषक तत्व ज्यादा मात्रा में होते हैं। कृषि विश्लेषक चव्हाण के मुताबिक अभी यह मुहिम सिर्फ किसानों और उनके परिवारों के लिए ही है लेकिन जल्द ही यह सभी फल उत्पादकों के लिए बेहतरीन समाधान बन जाएगा।

 


 

कोविड-19 महामारी में किसानों के लिए सहारा बना फ्रूट केक

पुणे के कृषि विश्लेषक दीपक चव्हाण ने मीडिया को बताया कि इस मुहिम के जरिये कोविड-19 महामारी के दौर में उन्हें आय हासिल करने का मौका मिला है। किसान, उनके परिवार और कृषक समाज से जुड़े विभिन्न संगठन स्थानीय स्तर पर उगाए जाने वाले फलों जैसे तरबूज, खरबूज, अंगूर, नारंगी, अनानास और केले से बने केक का इस्तेमाल करने को बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में फल की उपज बढ़ी है। और बाजार में मांग से ज्यादा यह उपलब्ध हैं, जिसके कारण इसकी कीमतों में गिरावट आ रही है। उन्होंने बताया कि किसानों को कोरोना महामारी और लॉकडाउन से नुकसान पहुंचा है और अब मांग से ज्यादा आपूर्ति की वजह से उनकी उपज को व्यापारी कम कीमत पर खरीद रहे हैं। चव्हाण ने मीडिया को बताया कि इस तरह की दिक्कतों से निपटने के लिए किसानों ने सोशल मीडिया पर फ्रूट केक की यह पहल शुरू की। इसके तहत जन्मदिन, सालगिरह समेत अन्य मौकों पर फल से बने केक का इस्तेमाल किया जा रहा है।

 


फ्रूट केक पर प्रतियोगिता का आयोजन, 150 से अधिक एंट्री आईं

एक किसान संगठन की ओर से होय आम्ही शेतकारी सोशल मीडिया पर एक फ्रेश फ्रूट केक प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है। इस प्रतियोगिता के तहत लोगों से फ्रेश फ्रूट केक को फोटोज और वीडियोज एंट्री के तौर पर मंगाए गए हैं। अब तक इस प्रतियोगिता के लिए लोगों की 150 से अधिक एंट्री आ चुकी हैं।


जल्द ही बाजार में बिक्री के लिए उपलब्ध होगा फ्रूट केक

आंदोलन से प्रेरणा लेते हुए अमरावती के फल व सब्जी डिलीवरी स्टार्टअप भाजी बाजार के मालिक महेंद्र टेकडे ने इस मुहिम को आगे ले जाने का फैसला किया है और वे जल्द ही फ्रेश फ्रूट केक आउटलेट शुरू करने वाले हैं। जिसकी वे तैयारी कर रहे हैं। टेकडे ने मीडिया को बताया कि बच्चों को आकर्षित करने के लिए मिकी माउस, बार्बी डॉल और अन्य आकर्षक डिजाइन में भी केक बनाने की भी तैयारी चल रही है। जल्द ही ये आकर्षक डिजाइन वाले फू्रट केक लोगों को उपलब्ध हो सकेंगे।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back