कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग : कई फर्जी कंपनियां कर रही हैं किसानों से ठगी

कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग : कई फर्जी कंपनियां कर रही हैं किसानों से ठगी

Posted On - 10 Oct 2020

मछली पालन व्यवसाय के नाम पर किसानों से ठगी की मिली शिकायतें, किसान रहे सावधान

किसान अपनी आमदनी को बढ़ाने के लिए कई विकल्प तलाशता रहता है। इसके लिए वे पशुपालन, मत्स्य पालन व कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग आदि विकल्पों को अपनाकर पैसा कमाने की सोचता है। इसी का फायदा उठाकर कई नकली कंपनियां किसानों को लुहावने प्रलोभन देकर अपने जाल में फंसा लेती है और कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के नाम पर किसानों से पैसा लेकर भाग जाती है। ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं। हाल ही में कुछ अशासकीय संस्थाओं एवं फर्मों द्वारा मत्स्य कृषकों की भूमि पर तालाब निर्माण करवाकर मछली पालन का व्यवसाय करने के संबंध में प्रलोभन दिए जाने की शिकायत कृषि विभाग को मिली है। इन संस्थाओं द्वारा मत्स्य कृषकों से एक बड़ी राशि लेकर उनकी भूमि पर मछली पालन का व्यवसाय करने एवं उन्हें एक निश्चित मासिक आय की भी लालच दी जा रही है। कान्ट्रेक्ट फार्मिंग या राशि दोगुना करने का प्रस्ताव अशासकीय संस्थाओं एवं फर्मों द्वारा किसानों को दिया जा रहा है।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


छत्तीसगढ़ मत्स्य पालन विभाग को मिली कई शिकायतें

छत्तीसगढ़ मछली पालन विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित खबरों एवं प्रचार सामग्रियों से पता चला है कि कुछ संस्थाओं के द्वारा किसानों से मत्स्य पालन कार्य के लिए बड़ी धनराशि लेकर अंनुबंध कृषि (कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग ) एवं मत्स्य पालन कार्य में भूमि तथा धनराशि का निवेश करने के लिए प्रचार-प्रसार करते हुए अधिक एवं निश्चित मासिक आय का प्रलोभन दिया जा रहा है।

संचालक मछली पालन ने आमजन से अपील की है कि मत्स्य पालन के क्षेत्र में किसी भी व्यक्ति अथवा संस्थान के द्वारा दिए गए ऐसे प्रलोभन से बचें तथा इस प्रकार के अनुबंध कृषि (कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग) अथवा मत्स्य पालन कार्य में निवेश करने से पहले ऐसी संस्थाओं और उनके द्वारा किए रहे अनुबंध शर्तों का सतर्कतापूर्वक परीक्षण करें, और अनुबंध के वैधानिक एवं आर्थिक पक्षों का भली-भांति परीक्षण व विचार कर स्वयं के विवेक एवं व्यक्तिगत जिम्मेदारी से निर्णय लें। भविष्य में निवेशक को किसी प्रकार की क्षति या नुकसान होता है तो उसके लिए यह विभाग जिम्मेदार नहीं होगा।

 


क्या है इन फर्जी कंपनियों का मायाजाल

ठगी करने वाली कंपनियां समाचार पत्रों में लुहावने वादों और अधिक आय या मुनाफा कमाने का लालच देकर किसानों को अपने जाल में फंसाती है और योजना को सरकारी बताती है जिस पर भोला-भाला गांव का किसान जल्द विश्वास कर लेता है। ये अपना आफिस भी काफी अच्छा बनाती ताकि किसानों को पूर्ण विश्वास हो जाए कि कंपनी फर्जी नहीं है। इसके बाद ये किसानों से पैसा डिपोजिट करने को कहती है और कॉन्टैक्ट पर साइन करा लेती है।

कंपनियों के कॉन्टैक्ट लेटर प्राय: अंग्रेजी भाषा में होते हैं जिसे कम पढ़ा लिखा किसान समझ नहीं पाता है और इसी का ये फायदा उठाती है। इसके बाद किसान से ये मोटी रकम वसूलती है। कई बार ये रकम किस्तों में ली जाती है। जब ऐसे दस-बीस किसान उनके जाल में फंस जाते हैं और फर्जी कंपनियों के पास काफी पैसा इक्ट्ठा हो जाता है तो वे भाग जाती है। रातों रात ऑफिस भी बंद कर दिया जाता है। अब किसान अपने आप को ठगा महसूस करता है और हाथ मलता रह जाता है। किसान के पास कोई सबूत भी नहीं होता जिससे वह उसके खिलाफ कार्रवाई कर सके, क्योंकि कॉन्टैक्ट साइन करवाते समय ये कंपनियां पहले ही अपने बचाव में ऐसी शर्तों पर किसान से साइन करवा लेती है कि उनके खिलाफ कोई कार्रवाई हो ही नहीं पाती।


इस तरह करें अपना बचाव

  • मत्स्य पालन कार्य में निवेश करने से पहले ऐसी संस्थाओं और उनके द्वारा किए रहे अनुबंध शर्तों का सतर्कतापूर्वक परीक्षण करें, और अनुबंध के वैधानिक एवं आर्थिक पक्षों का भली-भांति परीक्षण व विचार कर स्वयं के विवेक एवं व्यक्तिगत जिम्मेदारी से निर्णय लें।
  • यदि किसानों को इस तरह के अनुबंध के लिए कोई कंपनी कहती है और इसे सरकार द्वारा संचालित योजना बताती है तो ऐसी स्थिति में किसान अपने यहां के कृषि अधिकारियों या जिले के मछलीपालन विभाग, या जिले के कृषि विभाग कार्यालय में संपर्क कर जानकारी लेनी चाहिए।
  • किसान जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं लें। यदि ऐसी कोई कंपनी है तो इसके संबंध में पूरी जानकारी कर ले साथ ही इसके परीक्षण के लिए किसान कार्यालय, सहायक संचालक मछली पालन या जिले के कार्यालय के किसी भी विभागीय तकनीकी अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back