नकली खाद विक्रेताओं के खिलाफ यहां करें शिकायत, दोषियों पर होगी कार्रवाई

नकली खाद विक्रेताओं के खिलाफ यहां करें शिकायत, दोषियों पर होगी कार्रवाई

Posted On - 25 Aug 2020

यूरिया की कालाबाजारी की तो खैर नहीं, सरकार ने चलाया अभियान

अब यूरिया खाद की कालाबाजारी व जमाखोरी करने वाले व्यापारियों पर सरकार की ओर से सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए सरकार ने अभियान चलाया है। इसके तहत कई जगह पर कार्रवाई कर दुकानों के लाइसेंस निरस्त किए गए है और जुर्माना भी वसूला गया है। उत्तरप्रदेश में दुकानदारों के खिलाफ 35 एफआईआर दर्ज की गई तथा 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया। बता दें कि इन दिनों कई राज्यों में यूरिया एवं अन्य खाद की कमी के चलते किसानों को काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। किसानों को इस समय फसलों के लिए खाद की आवश्यकता होती है परन्तु उन्हें खाद नहीं मिल पा रहा है। बाजार में यूरिया की कमी का फायदा उठाते हुए कुछ दुकानदार नकली यूरिया बेच कर किसानों को लूट रहे हैं।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

यूरिया की अचानक इतनी कमी आने और किसानों की शिकायतें मिलने के बाद प्रशासन हरकत में आया और उसने इन दुकानदारों पर कार्रवाई करना शुरू की। अभियान के तहत ऐसे दुकानदार व व्यापारियों पर भी कार्रवाई की जा रही है जो यूरिया की जमाखोरी कर बाजार में यूरिया की कमी दिखाकर इसकी कालाबाजारी कर अधिक दामों पर किसान को यूरिया बेच रहे हैं। इससे किसानों को यूरिया के अधिक दाम देने पड़ रहे हैं। यूरिया की बाजार में कमी के चलते किसान लंबी-लंबी लाइन लगाकर यूरिया खरीद रहे हैं।

 

 

वहीं अलग - अलग जिलों में बड़ी संख्या में किसानों ने निजी खाद विक्रेताओं की दुकानों से महंगे दामों में यूरिया खरीदने की शिकायत भी की है। इन शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए उत्तरप्रदेश सरकार द्वारा खाद की जमाखोरी एवं कालाबाजारी कर रहे प्रतिष्ठानों पर निरीक्षण अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत प्रतिष्ठानों पर छापे मारकर यूरिया व खाद के नमूने लिए जा रहे हैं नकली पाए जाने या मिलावट अथवा अधिक दाम पर यूरिया बेचने वाले प्रतिष्ठनों व दुकानदारों पर कार्रवाई की जा रही है। 

 

3287 नमूने लिए, 22 के लाइसेंस निरस्त, 17 प्रतिष्ठान किए सील

उत्तरप्रदेश में खाद की उपलब्धता एवं आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कालाबाजारी एवं जमाखोरी के संबंध में निरंतर कार्रवाई की जा रही है। कृषि विभाग द्वारा कालाबाजारी एवं जमाखोरी के संबंध में 9747 प्रतिष्ठानों पर छापा मारते हुए 3287 नमूने लिए गए है जिसमें 517 प्रतिष्ठानों को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए 623 लाइसेंस निलंबित किए गए जबकि 22 लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं। वहीं 666 प्रतिष्ठानों को चेतावनी देते हुए 35 दुकानों पर बिक्री प्रतिबंधित कर 17 प्रतिष्ठानों को सील किया जा चुका है। 

 

जमाखोरी करने वालों के लिखाफ रासुका के तहत भी हो सकती है कार्रवाई

प्रदेश में की जा रही कार्यवाही के तहत पिछले 48 घंटे में खाद की कालाबाजारी एवं जमाखोरी के खिलाफ 35 एफआईआर दर्ज करते हुए 6 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। प्रमुख सचिव ने जानकारी देते हुए बताया की प्रदेश सरकार जमाखोरी, कालाबाजारी करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर रही है। आवश्यकता पडऩे पर ऐसा करने वाले लोगों पर रासुका की भी कार्यवाही की जाएगी। इधर राज्य के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया है कि प्रदेश में सहकारिता क्षेत्र में 2.00 लाख मेट्रिक टन यूरिया उर्वरक का स्टाक उपलब्ध है, जिन जनपदों में यूरिया उर्वरक की मांग बढ़ी हुई है, वहां पर 50 प्रतिशत तक यूरिया को अवमुक्त करते हुए साधन सहकारी समितियों पर भेजकर किसानों को उपलब्ध कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। जिलाधिकारियों को अधिकृत किया जाए कि वह स्थानीय आवश्यकताओं / मांग को देखते हुए प्रीपोजीशनिंग स्टॉक से 33 प्रतिशत से ऊपर 50 प्रतिशत तक यूरिया तत्काल पी.सी.एफ. भंडारण गृहों से अवमुक्त करने हेतु निर्णय लें ले। 

 

किसान कैसे पहचाने यूरिया नकली है या असली

फसलों की उर्वरक क्षमता बढ़ाने और उनको रोगों से लडऩे में मजबूत करने में सबसे ज्यादा उपयोग यूरिया का किया जाता है। यूरिया में ही कली और मिलावट की संभावना भी ज्यादा होती है। ऐसे में यूरिया खरीदते समय किसान सबसे पहले यह देख लें कि यह सफेद चमकदार और इसके सभी दाने समान आकार के गोल हैं। इस पर जब पानी में डाला जाए तो यह घुल जाए और घोल को छूने पर शीतलता को एहसास हो। साथ ही गर्म तवे पर रखते ही यह पिघल जाए और आंच तेज करने पर इसका काई अवशेष न बचे तो समझें कि यूरिया असली है।

 

 

किसान नकली यूरिया मिलने पर कहां करें शिकायत

यदि कोई दुकानदार किसान को नकली यूरिया बेच देता है तो किसान इसकी शिकायत जिले के उप कृषि निदेशक, जिला कृषि अधिकारी और कृषि निदेशक से कर सकते हैं। इसके अलावा किसान इसकी शिकायत सीधे किसान काल सेंटर के टोल फ्री नंबर-1800-180-1551 पर भी कर सकते हैं।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back