• Home
  • News
  • Agriculture News
  • गाजर घास का मिला समाधान, अब बनेगी जैविक खाद

गाजर घास का मिला समाधान, अब बनेगी जैविक खाद

गाजर घास का मिला समाधान, अब बनेगी जैविक खाद

जानें, गाजर घास से विशिष्ट कम्पोस्ट खाद निर्माण की तकनीक और फायदें

गाजर घास (Parthenium hysterophorus) को पर्यावरण के लिए बुरा माना जाता है वहीं पशु भी इस घास को खाना पसंद नहीं करते है। इस घास के परागकण से एग्जिमा, अस्थमा और त्वचा की बीमारियां हो सकती हैं। इसके एक पौधे से 25 हजार बीज पैदा होते हैं जो कृषि की पैदावार को प्रभावित करते हैं। सही कारण है कि बारिश के मौसम में ये घास अपने आप ही जगह-जगह उग जाती है लेकिन इसका उपयोग नहीं होने से किसान इसे काटकर खेत के बाहर फेंक देते हैं या इसे रासायनिक तरीकों से नष्ट कर देते हैं। लेकिन अब इस गाजर घास का एक अनूठा उपयोग वैज्ञानिकों ने खोज लिया है जिससे अब गाजर घास का उपयोग खेती के लिए विशिष्ट कम्पोस्ट खाद निर्माण में किया जाएगा। इससे एक ओर गाजर घास का उपयोग हो सकेगा वहीं दूसरी ओर किसानों को प्राकृतिक और सस्ती खाद उपलब्ध हो सकेगी। हाल ही में जिला पर्यावरण समिति उदयपुर और फॉस्टर भारतीय पर्यावरण सोसायटी इंटाली के संयुक्त तत्वावधान में गाजर घास से विशिष्ट कम्पोस्ट खाद निर्माण तकनीक का आविष्कार किया गया है। 

Buy Used Tractor

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 


दो साल के अथक शोध के बाद मिला गाजर घास का समाधान

नेशनल नवाचार खोज कार्यक्रम के तहत उदयपुर जिले के कुराबड़ गांव निवासी असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. सतीश कुमार आमेटा ने अपने शोध पत्र में दो साल के अथक प्रयास से विश्व पर्यावरण की समस्या बनी गाजर घास का समाधान कर एक विशिष्ट कम्पोस्ट खाद का निर्माण किया। इस तकनीक से बनी खाद में नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटेशियम की मात्रा साधारण हरित खाद से तीन गुना आंकलन अधिक किया गया, जो किसानों के लिए एक वरदान सिद्ध होगा। वर्तमान में मेवाड़ यूनिवर्सिटी गंगरार चित्तौडग़ढ़ में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर कार्यरत डॉ. आमेटा के इस शोध से गाजर घास के उन्मूलन और इससे किसानों को जैविक खाद की प्राप्ति दोनों रूप में फायदा मिलेगा। बता दें कि डॉ. सतीश आमेटा का यह शोध ईरान की एक प्रतिष्ठित शोध पत्रिका में प्रकाशित हो चुका है। इससे प्राप्त जानकारी से काश्तकार गाजर घास (पार्थेनियम) को फसल के खाद रूप में उपयोग ले सकते हैं जो पर्यावरण को सुरक्षित रखेगा।


इस तरह बनाई जाती है गाजर घास से खाद

इस तकनीक में व्यर्थ कार्बनिक पदार्थों जैसे गोबर, सूखी पत्तियां, फसलों के अवशेष, राख, लकड़ी का बुरादा आदि का एक भाग एवं चार भाग गाजर घास को इस अनुपात में मिलाकर लकड़ी के बनाए एक डिब्बे में भरा जाता है। इस डिब्बे के चारों ओर छेद किये जाते हैं, ताकि हवा का प्रवाह समुचित बना रहे और गाजर घास का खाद के रूप में अपघटन शीघ्रता से हो सकें। इसमें रॉक फॉस्फेट एवं ट्राइकोडर्मा कवक का प्रयोग करके खाद में पोषक तत्वों की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है। इस तरह निरंतर पानी का छिडक़ाव कर एवं इस मिश्रण को निश्चित समयांतराल में पलट कर हवा उपलब्ध कराने पर मात्र 2 महीने में गाजर घास से जैविक खाद का निर्माण किया जा सकता है। 

Buy New Tractor


गाजर घास से बनी खाद में पोषक तत्वों की मात्रा सबसे अधिक 

शोध के मुताबिक गाजरघास से बनी कम्पोस्ट में मुख्य पोषक तत्वों की मात्रा गोबर से दोगुनी व केंचुआ खाद के लगभग होती है। ऐसे में गाजर घास की खाद बेहतर विकल्प बन सकती है। गाजर घास में नाइट्रोजन 1.05, फॉस्फोरस 10.84, पोटेशियम 1.11, कैल्शियम 0.90 तथा मैग्नीशियम 0.55 प्रतिशत पाया जाता है जबकि केंचुआ खाद में नाइट्रोजन 1.61, फॉस्फोरस 0.68, पोटेशियम 1.31, कैल्शियम 0.65 तथा मैग्नीशियम 0.43 प्रतिशत होता है। वहीं गोबर खाद में नाइट्रोजन 0.45, फॉस्फोरस 0.30, पोटेशियम 0.54, कैल्शियम 0.59 तथा मैग्नीशियम 0.28 प्रतिशत पाया जाता है। इस प्रकार से देखा जाए पोषक तत्वों की मात्रा गाजर घास में अधिक होती है। 


गाजर घास कम्पोस्ट के इस्तेमाल से होने वाले लाभ/ गाजर घास के फायदे

  • गाजरघास कम्पोस्ट एक ऐसी जैविक खाद है, जिसके प्रयोग से फसलों, मनुष्यों व पशुओं पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ता है।
  • कम्पोस्ट बनाने पर गाजरघास की जीवित अवस्था में पाया जाने वाले विषाक्त रसायन पार्थेनिन का पूर्णत: विघटन हो जाता है। इसलिए ये फसलों के लिए पूर्णरूप से सुरक्षित है।
  • गाजरघास कम्पोस्ट एक संतुलित खाद है जिसमें नाइट्रोजन, फास्फोरस तथा पोटाश तत्वों की मात्रा गोबर खाद से अधिक होती है। इन मुख्य पोषक तत्वों के अलावा गाजरघास कम्पोस्ट में सूक्ष्म पोषक तत्व भी होते हैं जो फसल के बेहतर उत्पादन में सहायक हैं।
  • जैविक खाद होने के कारण यह खाद पर्यावरण मित्र है।
  • गाजर घास कम्पोस्ट कम लागत में तैयार हो जाती है। 
  • गाजर घास कम्पोस्ट से भूमि की उर्वरा शक्ति को बढ़ाती है।  

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Top Agriculture News

सरसों की खेती : सरसों की बुवाई का मौसम, ऐसे करें उत्पादन में बढ़ोतरी

सरसों की खेती : सरसों की बुवाई का मौसम, ऐसे करें उत्पादन में बढ़ोतरी

सरसों की खेती : सरसों की बुवाई का मौसम, ऐसे करें उत्पादन में बढ़ोतरी (mustard cultivation), जानें, सरसों की खेती का सही तरीका और उत्पादन बढ़ाने के तरीके 

मध्यप्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य से किसान घर बैठे बेच सकेंगे अपनी फसल

मध्यप्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य से किसान घर बैठे बेच सकेंगे अपनी फसल

मध्यप्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य से किसान घर बैठे बेच सकेंगे अपनी फसल (Minimum Support Price in Madhya Pradesh), जानें, क्या रहेगी फसल खरीदी की व्यवस्था और इससे क्या लाभ

पालक की खेती : जानिए पालक का उत्पादन, पालक की उन्नत किस्में

पालक की खेती : जानिए पालक का उत्पादन, पालक की उन्नत किस्में

पालक की खेती : जानिए पालक का उत्पादन, पालक की उन्नत किस्में (Production Of Spinach), Palak Ki Kheti : जानें, कैसे करें पालक की उन्नत खेती और किन बातों का रखें ध्यान 

जैविक खेती क्या है, कैसे शुरू करें और जानें जैविक खेती के लाभ

जैविक खेती क्या है, कैसे शुरू करें और जानें जैविक खेती के लाभ

जैविक खेती क्या है, कैसे शुरू करें और जानें जैविक खेती के लाभ (What is Organic Farming), जानें, भारत में जैविक खेती (Organic Farming)  करने वाले किसान कहां बेचे अपनी उपज?

close Icon

Find Your Right Tractor and Implements

New Tractors

Used Tractors

Implements

Certified Dealer Buy Used Tractor